मंगलवार, 22 सितंबर 2009

सबक


सबक





                                 हर मंजिल की आखिरी सीढ़ी



                                जब पहली सीढ़ी होगी



                      प्रगति के लिए यही एक अबूझ पहेली होगी



                      हर फ़तह की कामयाबी में अगर ईमानदारी होगी



                              वही फ़तह हमारी कामयाबी होगी



                               हर बार हार अगर तुम्हारी होगी



                       तो तुम्हारी जीत इसी हार की मेहरबानी होगी



                         हर वक़्त बातें अगर वही पुरानी होंगी



                            उन्हीं के सबब से सब परेशानी होंगी
 
 
 
 
 

5 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती...इतनी भावपूर्ण कवितायें लिखने के लिए आप को बधाई...शब्द शब्द दिल में उतर गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय जी ने ठीक कहा ऐसी कविताएं रोज़ पढ़ने को नहीं मिलतीं।
    एक बेहद अच्छी कविता।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक प्रस्तुति... आभार...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...