रविवार, 23 अगस्त 2015

दुआएं

दुआएं
कल के 
उस त्यौहार में 
पाप धोने के 
उस प्रयास में 
इंसान ही नहीं 
जानवरों ने भी दी दुआएं
वो रुपहली प्लेटे,
प्लास्टिक की 
डिज़ाइनर कटोरियाँ,
जरूर जानती हैं 
कोई वशीकरण मंत्र
खींचती हैं सबको अपनी ओर 
कुत्तों ने सूंघा, चाटा, खाया 
कुछ ने ढूंढी हड्डियां. 
इतना सब कुछ 
सब तरफ देख
होश खो बैंठीं गाय
बतियाती हुईं आयीं
लो हो गई आज की
किटी पार्टी पूरी
फिर क्या था 
क्या प्लेट
क्या कटोरी 
वाह...वो रंग बिरंगे
पालीथीन   
लाल, हरे, नीले, पीले, बैंगनी 
मिनटों में चट
मानों सफाई कर्मचारियों का दल था 
नहीं जानती 
कहाँ सहेजेंगे ये लोग 
इतनी दुआओं को.

17 टिप्‍पणियां:

  1. मूक पशुओं के प्रति संवेदनहीनता और कृत्रिम आधुनिकता पर व्यंग्य, दोनों की झलक है आपकी इस रचना में ।
    शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 25 अगस्त 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यबाद यशोदा जी मेरी रचना को "पांच लिंकों के आनंद में" शामिल करने के लिए.

      हटाएं
  3. उत्सव के नाम पर ढेर सारी गंदगी और बेवजह का खर्च..मानव की समझ को क्या कहें..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-08-2015) को "देखता हूँ ज़िंदगी को" (चर्चा अंक-2078) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. करार व्यंग है ... आज इन उत्सवों के नाम पर प्लास्टिक का प्रयोग मूक प्राणियों के लिए जानलेवा बना हुआ है ... अलग से विषय को बाखूबी रचना के माध्यम से आप उठाती रहती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छा लिखा है आपने, मार्मिक रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज मानव की सुविधाएँ किस तरह प्रकृति और दूसरों के जीवन से खेल रही हैं...बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत प्यारा ब्लॉग है आपका
    सुन्दर कविता और दुआएं !!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...