रविवार, 13 फ़रवरी 2011

प्रणय पर्व

प्रणय पर्व 







इतने बरसों बाद सही,  
इस बार सफल हो जाऊं... 
आँखों में बसने को तेरी,
मैं काजल हो जाऊं...

उर द्वार बसा लो जो मुझको, 
मैं सांकल हो जाऊं...
तेरे हांथों में आने को,
मैं आंचल  हो जाऊं...

ऐसे मुझे लजाओ आज, 
मै जमुना जल हो जाऊं...
प्रतिबिम्ब निहारो तुम अपना मुझमें 
मैं खिल के, कमल हो जाऊं...
देहावरण,  मुझे बनालो,
मैं मलमल हो  जाऊं...
तेरा स्पर्श पाते ही,
मैं निर्मल हो जाऊं...

धोकर के  सारी शंकाएं, 
मैं आज  धवल हो जाऊं... 
प्रणय पर्व मनाओ ऐसे, 
कि मैं ताजमहल हो जाऊं... 
इतने बरसों बाद सही,
इस बार सफल हो जाऊं... 

51 टिप्‍पणियां:

  1. उर द्वार बना लो जो मुझको,
    मैं सांकल हो जाऊं...
    तेरे हांथों में आने को,
    मैं आंचल हो जाऊं...
    ye hote hain ehsaas

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावपूर्ण, प्रेमपगी अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभिव्यक्तियाँ अपनी ना मैं बतला पाऊँ, प्रणय गीत को खुद को मैं सुनाऊँ, सही सामयिक लगी प्रस्तुति यह, मेरी भी कोशिश है यही अलख जगाऊँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इतने बरसों बाद सही,
    इस बार सफल हो जाऊं...

    बहुत गहरे भाव हैं रचना जी..... सुंदर और प्रभावी अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना लिखी है आपनें,बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रतिबिम्ब निहारो तुम अपना मुझमें मैं खिल के, कमल हो जाऊं... बहुत भावपूर्ण कविता

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसे मुझे लजाओ आज,
    मै जमुना जल हो जाऊं
    प्रतिबिम्ब निहारो तुम अपना मुझमें
    मैं खिल के, कमल हो जाऊं

    बहुत अच्छी काव्यकृति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. धोकर के सारी शंकाएं,
    मैं आज धवल हो जाऊं...
    प्रणय पर्व मनाओ ऐसे,
    कि मैं ताजमहल हो जाऊं...

    बहुत बढ़िया कामना है ..प्रेम पूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  9. आँखों में बसने को काजल होने, हाथों में आने को आंचल होने, और उर-द्वार होने को सांकल बनने की आकांक्षा , सचमुच मन को छू गयी. नाज़ुक भावनाओं से परिपूर्ण कविता बहुत अच्छी है. लेकिन प्रणय-पर्व के नाम पर किसी विदेशी दिवस विशेष की ज़रूरत स्वदेशी भूमि पर तो नहीं होनी चाहिए.हमारी संस्कृति में मानवीय संवेदनाओं की अभिव्यक्ति के लिए तो हर दिन एक पवित्र दिवस है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सामयिक प्रेमपरक सुन्दर रचना है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सामयिक प्रेमपरक सुन्दर रचना है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. उर द्वार बना लो जो मुझको,
    मैं सांकल हो जाऊं...
    तेरे हांथों में आने को,
    मैं आंचल हो जाऊं...

    प्रेम रस मे पगी रचना दिल मे उतर गयी…………वाह वाह …………बेहतरीन प्रस्तुति।


    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. Hi...

    Wah....

    Sahaj, saras ahsaas hai tere..
    safal ye saare ho jaaen...
    jeevan bagiya main vasant ho...
    pushp hruday ke khil jaaen...

    bahut hi bhavpurn kavita likhi hai aapne....meri shubhkamnayen sweekar karen...

    Deepak..

    उत्तर देंहटाएं
  14. काजल से सांकल तक बनने को तैयार प्यार में ..क्या बात है सुंदर अभिव्यक्ति , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. समर्पण को समर्पित एक प्रणय गीत!! रचना जी, बहुत ही सुंदर कविता!! पण्डित भरत्व्यास का एक पुराना गीत याद आ गयाः
    तुम गगन के चंद्रमा हो, मैं धरा की धूल हूँ
    तुम प्रणय के दएवता हो, मैं समर्पित फूल हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  17. काज़ल हो जाना.. सांकल हो जाना... आचल हो जाना...मलमल हो जाना.. निर्मल हो जाना... प्रणय पर्व को ऐसे मानना कि ताजमहल हो जाना... अद्भुद प्रणय गीत ! ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुंदर काव्यात्मक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत भाव प्रवण रचना ...प्रेमपगी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, प्रेमपूर्ण रचना। बधाई। दिल से निकली आवाज को शब्द दे दी आपने......

    उत्तर देंहटाएं
  21. उर द्वार बसा लो जो मुझको, मैं सांकल हो जाऊं...तेरे हांथों में आने को,मैं आंचल हो जाऊं..

    वाह ! प्रेम की उच्चतम स्तिथि..हरेक पंक्ति लाज़वाब..निशब्द कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बढ़िया प्रेम अभिव्यक्ति के लिए बधाई रचना जी ! शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  24. इतने बरसों बाद सही,
    इस बार सफल हो जाऊं... dard ki ahasas deti...kaveeta...

    उत्तर देंहटाएं
  25. आँखों में बसने को तेरी,
    मैं काजल हो जाऊं...
    निश्च्चल प्यार के समर्पण की कोमल अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  26. धोकर के सारी शंकाएं, मैं आज धवल हो जाऊं...
    प्रणय पर्व मनाओ ऐसे, कि मैं ताजमहल हो जाऊं...

    प्रेम की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. उर द्वार बना लो जो मुझको,
    मैं सांकल हो जाऊं...
    तेरे हांथों में आने को,
    मैं आंचल हो जाऊं...

    बहुत ही सुन्दर रचना.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  28. दिल की गहराइयों से निकली आवाज़ . सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रेम पूर्ण उम्दा रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  30. कितनी प्यारी मासूम सी ख्वाहिश ..
    सुन्दर भावपूर्ण प्रेम से महकती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  31. यह कैसा प्रणय पर्व है
    कविता है, लगती हकीकत है
    ताजमहल यह भी है

    उत्तर देंहटाएं
  32. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आई हूँ....रचनाओं ने तो आकर्षित किया ही आपका ब्लॉग भी काफी आकर्षक लगा....

    उत्तर देंहटाएं
  33. प्रेम दिवस पर इस से बेहतर कामना कोई क्या करेगा...बेजोड़ रचना...बधाई
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  34. एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत अच्छी कविता लिखी आपने..बधाई.


    ______________________________
    'पाखी की दुनिया' : इण्डिया के पहले 'सी-प्लेन' से पाखी की यात्रा !

    उत्तर देंहटाएं
  36. प्रणय पर्व में डूब जाने से पहले, क्‍यों ना हकीकतें पढ़ लें देख लें

    http://rajey.blogspot.com/ पर।

    उत्तर देंहटाएं
  37. र द्वार बना लो जो मुझको,
    मैं सांकल हो जाऊं...
    तेरे हांथों में आने को,
    मैं आंचल हो जाऊं...
    bahut hi komal ahsaas ,achchhi rachna .

    उत्तर देंहटाएं
  38. नाजुक भावों की खूबसूरत अभिव्‍यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  39. क्या बात क्या बात क्या बात सुंदर अभिव्यक्ति .... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  40. This is cool! And so interested! Are u have more posts like this? Please tell me, thanks

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत सुन्दर प्रेम भाव लिए रचना...
    अति सुन्दर
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...