रविवार, 7 अप्रैल 2013

माँ

माँ
(एक बाल कविता)

मेरी माँ जैसी कोई माँ हो,
ऐसा कभी हुआ न होगा

स्नो व्हाइट सिन्ड्रेला सी, 
शांत सौम्य और सुन्दरता में,
उसका जैसा हुआ न होगा

रात अँधेरी सुबह सवेरे,
जब भी देखो जब भी मांगो
उसका प्यार बरसता होगा

मेरी माँ जैसी कोई माँ हो,
ऐसा कभी हुआ न होगा

दुर्गा काली सी गरिमा और,
सरस्वती सा ज्ञान लिये,
कहीं कोई भी हुआ न होगा।

सोते -जगते आते -जाते ,
अपनी बिटिया से मिलने को,
सपना एक तरसता होगा

मेरी माँ जैसी कोई माँ हो,
ऐसा कभी हुआ न होगा।

29 टिप्‍पणियां:

  1. सबकी माँ बेटी या बेटो के लिए एक जैसी होती है,ये बात अलग है कि बेटे और बेटी के नजर में अपनी माँ के लिए कितना सम्मान है,,
    बहुत बेहतरीन सुंदर रचना !!!

    RECENT POST: जुल्म

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा। माँ जैसा तो कोई हो ही नहीं सकता।
    शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मासूमियत का अहसास लिए सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर बच्चे के लिए अपनी माँ सबसे प्यारी और माँ के लिए उसका बच्चा सबसे प्रिय....
    सहज भाव है...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी माँ जैसी कोई माँ हो, ऐसा कभी हुआ न होगा।
    और होगा भी नहीं
    दिल को छू गए
    सादर !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. माँ सबसे प्यारी होती है..सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सब कुछ समेटे है 'माँ'का शब्द अपने अन्दर......
    मेरे हिस्से में तो 'माँ' का शब्द ही आया !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. माँ एक ऐसा शब्द है तो हर किसी के दिल के करीब होता है ... ओर उसके जैसी माँ तो दुनिया में कोई हो ही नहीं सकती है ...
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ के प्रति सम्मान और आदर दिखाना हमारा कर्तव्य है,माँ का स्थान कोई नहीं ले सकता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपनी बिटिया से मिलने को
    सपना एक तरसता होगा !

    आप यकीनन खुशनसीब हैं , यकीनन माँ से अच्छा कोई नहीं हो सकता !

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपनी बिटिया से मिलने को
    सपना एक तरसता होगा !

    आप यकीनन खुशनसीब हैं , यकीनन माँ से अच्छा कोई नहीं हो सकता !

    उत्तर देंहटाएं

  12. माँ के प्रति श्रृद्धा लिए एक भावपूर्ण रागात्मक बिम्बात्मक प्रस्तुति रूपक तत्व लिए .

    उत्तर देंहटाएं

  13. माँ पर रचना में कुछ लिखना
    बहुत भावुक क्षण होता है
    आपने अपनी कविता में यह जिया है---
    मर्म को छूती हुई
    सुंदर /बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (08 -04-2013) के चर्चा मंच 1208 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है | सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ से बढ़कर क्या .....मर्मस्पर्शी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बेहतरीन सुंदर रचना !
    माँ जैसा तो कोई हो ही नहीं सकता।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर प्रस्तुति आदरेया-

    उत्तर देंहटाएं
  18. माँ शब्द ही संसार की सबसे सुंदर रचना है और माँ पर रची आपकी सुंदर रचना कोमल भावनाओं की प्रस्तुति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ममतामयी माँ का स्वरुप ऐसा ही होता है खुबसूरत अंकन माँ की छवि का

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत प्यारी और मासूम रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत प्यारी कविता ... माँ जैसा कोई नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. माँ सबसे प्यारी होती है...मैं तो माँ की कमी हर दिन महसूस करता हूँ

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...