रविवार, 15 जनवरी 2012

आरम्भ


आरम्भ


सुना है
सदियों, सदियों, सदियों पहले
धरा पर कुछ था
तो था 
विस्फोट, आग, धुआं
तपिश और जलन.      
कहते हैं 
शायद वही आरंभ था 
जीवन का.
आज भी 
धरा पर कुछ है तो 
विस्फोट, आग, धुआं, 
तपिश और जलन 
कहीं ये फिर आरम्भ तो नहीं 
किसी अंत का ?     

44 टिप्‍पणियां:

  1. गहन प्रश्न आरम्भ और अंत का ......शायद यही अंत हो ....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  3. उघरे अंत ना होई निबाहू , कालनेमि जिमी रावन राहू .

    उत्तर देंहटाएं
  4. धरती गोल तो है ही ।
    घूम कर वापस वहीँ पहुँच गए लगते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह वाह...
    बहुत खूब...............
    गहरी बात कह डाली आपने.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. हां हो सकता है यही अंत का प्रारम्भ हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. ---सुन्दर पोस्ट व विचार....

    ---निश्चय ही..आरम्भ में विष्फ़ोट के बाद..., आग , धुआं, तपन थे--- यह श्रिष्टि का आरम्भ था....
    ---अग्नि के पश्चात जब शमनक जल और वायु बने तब यह अशान्ति ...शान्ति में परिवर्तित हुई और जीवन का प्रारम्भ हुआ....
    --- वर्णित प्रलयकाल( श्रिष्टि का अन्त ) की अन्तिम अवस्था में सब कुछ अग्नि में समा जाता है जो स्वयं ब्रह्म में लीन होजाती है...
    ---लेखक का यही मन्तव्य है ...
    ---हां वास्तव में, अन्त का आरन्भ, मानव की अति-सुख अभिलाषा से जनित अनाचार, अनैतिकता, अकर्मों से होता है जो शायद पहले ही प्रारम्भ हो चुका है....इसीलिये संसार में विष्फ़ोट,आग, धुआं, तपन और जलन है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. गहन सोच लिए .. सोच की प्रक्रिया को जगाते हुवे ...
    मकर संक्रांति ही शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. विचारणीय गहन प्रश्न,शायद आपका कहना सही है..बहुत सुंदर रचना अच्छी लगी.....
    new post--काव्यान्जलि : हमदर्द.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही उत्तम रचना|मकरसंक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सटीक कथन...शायद अंत की शुरुआत हो रही हो...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अत्यधिक प्रशंसनीय रचना.....
    संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  13. vicharniy prashn...bahut khubsurati se aapne kavy mein dhala hai...

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या पता कल क्या हो....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  15. सृष्टी-निर्माण से सम्बद्ध कविता.वाह,क्या बात है,रचना जी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Bahut khoob....ant mein sawaal sochne par majboor kar de raha hai....

    उत्तर देंहटाएं
  17. सही कह रही हैं, प्रायः आदि व अंत का गुणधर्म समान दर्शित होता है। सशक्त व सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  18. आरंभ, अंत और वर्तमान पर सटीक प्रश्‍न छोड़ा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिल्कुल सटीक प्रश्न …………हर अंत ही किसी नव निर्माण का आरम्भ होता है और हर आरम्भ का कहीं ना कहीं अंत और ये क्रम चलता रहता है अनवरत्………बेहतरीन भाव संयोजन्।

    उत्तर देंहटाएं
  20. आदि और अंत की समान परिस्थितियों पर पहली बार ध्यानाकर्षण के साथ एक ज्वलंत प्रश्न.बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  21. कहीं ये फिर
    आरम्भ तो नहीं
    किसी अंत का ?

    सार्थक प्रश्न करती विचारणीय रचना .. सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या तुलना की है आपने दो समरूप परिस्थितियों की !!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. मनुष्य स्वयं को अपना नियन्ता समझता ज़रूर है,मगर उसकी यह समझ तभी तक रहती है,जब तक प्रकृति उसका अस्तित्व ही न हर ले!

    उत्तर देंहटाएं
  24. वर्तुल पूर्णता को प्राप्त होगा ही..

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहन भाव लिए ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. विस्फोट, आग, धुआं तपिश और जलन.
    ..अंत की शुरुआत हो रही हो...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  27. अच्छा निष्कर्ष निकाला है आपने.
    आपकी प्रस्तुति विचार करने को
    प्रेरित करती है.

    प्रभु की रचना,प्रभु ही जाने, रचना जी.

    उत्तर देंहटाएं
  28. vah kya bat hai .....badhai rachana ji ....rachana behad prabhavshali lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपके हर पोस्ट नवीन भावों से भरे रहते हैं । पोस्ट पर आना सार्थक हुआ। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. आरम्भ और अंत :दोनों की मंजिल एक ...
    एक जहां से आरम्भ होता है
    दूसरा वहाँ आ कर अंत होता है .......

    उत्तर देंहटाएं
  31. betrinबेहतरीन...अंत और आरम्भ के बीच एक संघर्ष सा जान पड़ता हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  33. ye baat to chinta me daal gayi ? vichar kar rahi hun.....aur dar bhi rahi hun....

    bahut khoob gehri soch me daal diya...aur is se jyada sashakt prastuti kya hogi ?

    उत्तर देंहटाएं
  34. गहन और शाश्वत प्रश्न उठाती कविता...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...