रविवार, 19 मई 2013

संकेत

संकेत


फूलों का खिलना एक
एक सकारात्मकता,
एक उत्सव, एक उल्लास, एक उत्पत्ति.

पास के एक गांव में
एक विशेष प्रजाति के बांस का झुरमुट
अचानक पट गया फूलों से

और पट गए
गावं के बुजुर्गों के माथे
चिंता की लकीरों से.

इन फूलों का खिलना.
एक नकारात्मकता, एक विपत्ति.
धरती माँ की छाती फटने का संदेश.

हाँ
कुछ गांवों में फल फूलों के साथ
अकाल के आने की ये दस्तक है.

28 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात
    एक नई जानकारी मिली
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर ! प्रकृति अनेकों रूप में उपलब्ध है .. शायद हम अभी तक नहीं समझ पाए

    उत्तर देंहटाएं
  3. फूलों का खिलना .....अकाल का आना ,,,क्या यह विरोधाभास ........अन्धविश्वास नहीं है ?
    latest post वटवृक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुक्र है बांस अपने जीवनकाल में सिर्फ एक बार ही फूलता है....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैंने भी इसके बारे में कभी किसी टीवी पर देखा था. बढ़िया जानकारी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी फूल का खिलना .अकाल का संकेत । बढ़िया प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सकारात्मकता में कभी कभी नकारात्कामता के भाव भी होते हैं ...
    क्या ये सब अंधविश्वास की बाते हैं या कोई तथ्य है ... शायद समय के गर्भ में हैं ये सब जवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुछ इस तरह की जानकारी मैंने पढ़ी थी और कविता की उत्पत्ति का कारण भी आप सभी के साथ शेयर कर रही हूँ. मिजोरम में जहाँ बांस की खेती ३१ प्रतिशत जगह में होती है यह घटना बहुत खतरनाक सिद्ध होती रही है. यद्यपि यह घटना वहां ४८ साल के बाद आती है.

      "Scientifically speaking the odd phenomena of bamboo flowering, is termed 'gregarious bamboo flowering' because the bamboo clumps flower all at the same time only once in the plants' lifetime. This phenomena spells disaster and causes ecological havoc. The reasons behind this strange occurrence are that bamboo plants die after flowering. And will be after some years before bamboo plants take seed again, leaving bare exposed soil – that spells disaster in mountainous states - and ultimately leading to food scarcity, as the animals depend on bamboo plants. Secondly the rats feed on the flowers and seeds of the dying bamboo tree which activates a rapid birth rate among the rodents, which leads to the huge rat population feeding on agricultural crops in the fields and granaries and causing famine."

      हटाएं
  8. पुरानी घटनाओं की पुनरावृत्ति पुनः संकेत होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक रचना रचना जी
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (20-05-2013) के 'सरिता की गुज़ारिश':चर्चा मंच 1250 पर ,अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद सरिता जी 'सरिता की गुजारिश' - चर्चा मंच में शामिल करने हेतु.

      हटाएं
  10. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ बढिया जानकारी॥

    उत्तर देंहटाएं
  11. जी हाँ मैं भी बहुत पहले से सुनता आ रहा हूँ की बांस के फुल आना अकाल का परिचायक है.

    उत्तर देंहटाएं


  12. अच्छा या बुरा -- प्रकृति अपना सन्देश दे ही देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. यह एक प्राकृतिक सन्देश है आपने बखूबी दर्शाया

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रकृति‍ है, इसके अपने रंग हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  15. परमात्मा की इस सृष्टि में कुछ भी व्यर्थ नहीं होता..इसके पीछे भी कोई राज होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही अच्‍छी जानकारी ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. Aisabhi hota hai?Shayad ye mere jeewan ka bhi saty hai.....jab mai bahut khilkhilati hun to maheenon rona padta hai....

    उत्तर देंहटाएं
  18. ओह ...बांस में फूल लगे पहली बार देखे .....

    और यह उक्ति भी पहली बार सुनी ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. Greaaaaaaaaaa! beautiful juxtaposition of opposites. really great !

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रकृति के कई अबूझ संकेतों में एक तो है ही...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बिलकुल नयी .....बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...