रविवार, 6 जनवरी 2013

फुर्सत

फुर्सत



कटी हैं रातें मेरी ऐसी अक्सर
पलक से पलक न मिली.
तन्हा भटकती रही नींद सारी रात
इक नर्म बिछावन न मिली.
मन के अज्ञातवास में सब कुछ था
न मिली तो एक मैं न मिली.
रखा था बंद करके मुठ्ठियों को बहुत
किस्मत की लकीरें न मिलीं.
मुश्किलें गुजरीं हैं हम पे भी ऐसी ऐसी
कहीं आकाश कहीं धरती न मिली.
हर दम पाया है मंजिल को इतना दूर
पहुँच पाऊं ऐसी सूरत न मिली.
बढ़ाया है जब जब कदम मैंने
हवा पानी ओ मिटटी न मिली.
बन तो जाऊँ अर्जुन मैं भी
हाय पर वो मछली न मिली.
वो जो बैठा है थाम के डोर मेरी
छोड़ दे एक पल फुर्सत न मिली.

38 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर भाव. पूर्णता शायद कभी हासिल नहीं होती.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये बैचैनी क्यूँ सुकून की राह मिले जहां आप हों और आपके सपनों का संसार हो ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुश्किलें गुजरीं हैं हम पे भी ऐसी ऐसी
    कहीं आकाश कहीं धरती न मिली.
    हर दम पाया है मंजिल को इतना दूर
    पहुँच पाऊं ऐसी सूरत न मिली
    निशब्द हूँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Waah, waah, waah

    Ban to jaaun arjun, par machali na mili.....bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन में रिक्तिताएं यूँ ही कचोटती रही है - भाव-प्रवण प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बन तो जाऊं अर्जुन मैं भी , हाय पर वो मछली न मिली --
    जाने कितनी प्रतिभाएं अवसर की तलाश में ख़त्म हो जाती हैं।
    दुखती रग की सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Kal ki raat meri bhi aise hi kati.. na jaagi hi thi, na so hi saki...

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिल ढूंढ़ता है वही फुर्सत के पल..

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर दम पाया है मंजिल को इतना दूर पहुँच पाऊं ऐसी सूरत न मिली. कभी-कभी कितना मुश्किल होता है कुछ पाना..
    भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  10. कृष्णा की डोरी जटिल, बाँध गया मन मोर ।

    ज्यों ज्यों खोलूं गाँठ को, त्यों त्यों कसती डोर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुकून की एक घडी भी मुश्किल होती है मिलना ...
    चाहतों का सिलसिला बना रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुश्किलें गुजरीं हैं हम पे भी ऐसी ऐसी
    कहीं आकाश कहीं धरती न मिली.
    हर दम पाया है मंजिल को इतना दूर
    पहुँच पाऊं ऐसी सूरत न मिली

    rachana ji lajbab prastuti ke liye sadar aabhar .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर रचना जी !
    'कभी ख्वाब तो कभी नींद न मिली....
    हो जाऊँ बेखुद... वो सुकूँ की घड़ी न मिली...'
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया प्रासंगिक प्रस्तुति .

    प्रतिबद्ध जीवन का कसाव मुखरित है रचना में ,एक पल अपना न हुआ ,मैं ,मैं न हुआ ,बुरा न हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  15. बन तो जाऊँ अर्जुन मैं भी हाय पर वो मछली न मिली.

    बहुत बढ़िया उम्द्दा प्रस्तुति ....

    recent post: वह सुनयना थी,

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर भाव लिए अनुपम रचना..शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  17. kalhee ek aisi raat kati...wah! kya gazab kee rachana hai!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वह छोड़ देगा तो भी फुर्सत नहीं मिलेगी..हाँ कुछ पलों का विश्राम अवश्य मिल सकता है..बहुत गहरे भाव और सहज प्रवाह लिए सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  19. आदर्णीय रचना जी आपकी कविता बहुत सुन्दर है |नववर्ष मंगलमय हो |

    उत्तर देंहटाएं
  20. बन तो जाऊँ अर्जुन मैं भी
    हाय पर वो मछली न मिली... गहरी बात

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत उत्कृष्ट मर्मस्पर्शी रचना..हरेक पंक्ति अंतस को छू जाती है..

    उत्तर देंहटाएं
  23. बन तो जाऊँ अर्जुन मैं भी
    हाय पर वो मछली न मिली.
    वो जो बैठा है थाम के डोर मेरी
    छोड़ दे एक पल फुर्सत न मिली.



    इसी अदम्य प्यास का नाम रचना है...रचनाकारों की यह प्यास, खुदा करे कभी न बुझे..
    कहिए आमीन! आमीन अमीन..

    उत्तर देंहटाएं
  24. मन के अज्ञातवास में सब कुछ था
    न मिली तो एक मैं न मिली.

    क्या बात...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  25. जिन्दगी के इस दौड़ में सब कुछ हासिल नही होता बहुत कुछ पाने की वस आशा ही रह जाती है।बहुत ही बेहतरीन और भावपूर्ण प्रस्तुती,धन्यबाद।
    भूली-बिसरी यादें

    उत्तर देंहटाएं
  26. tamaam umr guzar gayi kuch apne man ki si paane ko....aah magar kuchh bhi na mila.

    bahut khoobsurat, samvedansheel prastuti.

    NAV VARSH KI HARDIK SHUBHKAAMNAYEN.

    उत्तर देंहटाएं
  27. मुश्किलें गुजरीं हैं हम पे भी ऐसी ऐसी
    कहीं आकाश कहीं धरती न मिली.
    हर दम पाया है मंजिल को इतना दूर
    पहुँच पाऊं ऐसी सूरत न मिली

    ak peeda ki nirantrata .....abhar ...rachana bahut khoobsoorat aur bhavpoorn lagi .

    उत्तर देंहटाएं
  28. वो जो बैठा है थाम के डोर मेरी छोड़ दे एक पल फुर्सत न मिली.

    रब्ब ने थामी तो है ......:))

    उत्तर देंहटाएं
  29. शुक्रिया आपकी ताज़ा टिपण्णी का .


    अभी तो और भी रातें सफर में आयेंगी चरागे शब मेरे महबूब ,संभाल के रख .

    ज़िन्दगी ज़िंदा दिली का नाम है मुर्दा दिल क्या ख़ाक जियेंगे .

    गिरतें हैं शह सवार(शाही घोड़े की सवारी करने वाले ) ही मैदाने जंग में वह तिफ़्ल(जीव आत्मा ,प्राणि ) क्या जो रेंगे के घुटनों के बल चले .

    उत्तर देंहटाएं
  30. जिंदगी की आपाधापी में फुर्सत कहाँ ..
    बहुत बढ़िया ..

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सही कहा आपने ..
    सार्थक रचना ...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...