मंगलवार, 18 सितंबर 2012

गतिशास्त्र


गतिशास्त्र

"जीवन चलने का नाम"
"चलते रहो सुबहो शाम"
"जीवन गति है"
"गति ही जीवन है"
जाने किसने,
कैसे
और क्यों कह दिया ये ?
क्यों नहीं देख पाते वो
इसके पीछे की गणित
और मेहनत.
तभी बात बेबात कहते हैं
"फ़ाइल और कागज़ चलते ही नहीं"
नहीं जानते हैं वो
गति में सापेक्षता होती हैं.
वस्तु के भार और
उस पर लगे बल की दिशा में जाने की
फाइल पर जितना भारी बण्डल
उतनी ही उसकी गति
जाने क्या सोचता होगा
गति के नियम बनाने वाला,
अपने और अपने नियम के बारे में.
आश्चर्य होता है
जब गति के नियमों की धज्जियाँ उड़ाता हुआ,
कोई आस्तित्वान हीन कागज़
किसी भारी बण्डल के प्रभाव में,
त्वरित गति से गंतव्य पर पहुँच
आस्तित्व में आ जाता है.
तब शायद गति के नियम बनाने वाला ही
आस्तित्वहीन हो जाता है.

27 टिप्‍पणियां:

  1. रचना जी ... आफिस में फ़ाइल के ऊपर रुपयों का दव्वाब होने से वह तेज गति से चलता है ... .. आपने कविता के माध्यम से कई पहलुयों को छुआ

    उत्तर देंहटाएं
  2. न्यूटन मुस्कुरा रहे हैं रचना जी....
    उनके बरसों की मेहनत से बनाए नियम को आपने एक नया आयाम दे डाला...
    :-)
    बढ़िया है!!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. आश्चर्य होता है
    जब गति के नियमों की धज्जियाँ उड़ाता हुआ,
    कोई आस्तित्वान हीन कागज़
    किसी भारी बण्डल के प्रभाव में,
    त्वरित गति से गंतव्य पर पहुँच
    आस्तित्व में आ जाता है ....
    अब आश्चर्य नहीं शोक होता है :(

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ भार हो तभी गति भी होती है ...जितना अधिक भार उतनी ही त्वरितता .....वैसे भारी वस्तु या इंसान की गति धीमी ही रहती है ... :):) बहुत बढ़िया ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. "जीवन गति है" बहुत सुन्दर..बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  6. "जीवन गति है" बहुत सुन्दर..बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  7. चलाने कि लिये कितने तो धक्के लगाने पड़ते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. गति के नियमों की धज्जियाँ उड़ाता हुआ,सटीक समायिक सार्थक प्रस्तुति,,,,,बहुत खूब,,,रचना जी,,,

    RECENT P0ST फिर मिलने का

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन की गति में जब अवरुद्ध उत्पन्न होता है , तभी गति का बोध होता है . वर्ना तो जीवन चलता रहता है .

    उत्तर देंहटाएं
  10. समयानुसार बदलती गति..... बदलाव निश्चय ही आवश्यक हैं.... बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्कृष्ट प्रस्तुति आज बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गतिशात्र के माध्यम से अपने विभिन्न आयामों
    को स्पष्ट किया है..
    सुन्दर...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह ... बेहतरीन शब्‍दों का संगम

    उत्तर देंहटाएं
  14. अर्थ का दबाव ... फ़ाइल की गति को तेज कर देता है ...
    नए रंग में लिखी व्यंग रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. jisme jitni pairon ki chapalta hogi gati utni hi gatimaan hogi. files me pair do tareeke se lagte hain (paisa aur approch) insaan k pair man aur tan ki shakti se gatimaan hote hain.

    bas yahi baat hai jo astitvheen bhi twarit gati se gatimaan ho jate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  16. गति भी सापेक्ष होती है...बहुत प्रभावशाली रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत तीक्ष्ण कटाक्ष...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  18. यही तो संकट है जितना ज्यादा द्रव्य(मान ),उतना ज्यादा जडत्व ,गति -हीनता ,डॉलर फैंक तमाशा देख .चल सरपट चल .अब कोई संकट नहीं है अस्तित्व -वाद का .
    जडत्व को हटाने के लिए बाहरी बल तो डालना पडेगा ही .तभी जडत्व हटेगा ,कुनबा आगे बढेगा ,.....

    उत्तर देंहटाएं
  19. गति का नया नियम क़ाबिले तारीफ़ है...
    पुराने सारे नियम धराशायी हो गएः)

    उत्तर देंहटाएं
  20. ek alag vishay lekar badi gahanata se ..bahut khoob likha hai ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. ek alag vishay lekar badi gahanata se ..bahut khoob likha hai ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. ek alag vishay lekar badi gahanata se ..bahut khoob likha hai ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. इस देश की पूरी अर्थव्यवस्था ही ऐसी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. सापेक्ष गति के लिए हल्के कागज़ का वजन भारी हो जाता है कभी !
    अच्छा व्यंग्य है !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...