रविवार, 15 जुलाई 2012

बरसात


बरसात


कल मेरे शहर में
बड़ी मिन्नतों बाद बरसात हुई.
बदहाल सड़कों,
बीमार नालियों,
हांफते नालों,
में फिर एक बार
बात-मुलाकात हुई.
कुछ कम कुछ ज्यादा
बातें सबकों मान्य हुईं.
हर तरह के तैरते भ्रष्टाचार से
गलियां सड़कें गुलज़ार हुईं.
कल मेरे शहर में
बड़ी मिन्नतों बाद बरसात हुई.
 

30 टिप्‍पणियां:

  1. बरसात आई
    खुशिया लाई
    सुंदर रचना:-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब बरसात होती है तभी नाले भरते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिन्नतें करते हैं..कि बरसात हो...
    फिर बदहाली देख...और मिन्नतें..कि अब रुक जाए बरसात...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये मुलाकात , ये भ्रष्टाचार -- हम सह लेंगे .
    बरसात को आने दो !
    हैप्पी सावन ! :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओह! बरसात की आस में सब व्याकुल हैं.
    पर बरसात हो जाए,तो सडको,नालियों,नालों
    की सब पोल खुल जाती है.

    रचना जी,बहुत सुन्दर और यथार्थ लिखा है आपने.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर तरह के तैरते भ्रष्टाचार से
    गलियां सड़कें गुलज़ार हुईं.

    :) बरसात भी कैसी कैसी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बदहाल सड़कों,बीमार नालियों,हांफते नालों,
    में फिर एक बार बात-मुलाकात हुई.
    कुछ कम कुछ ज्यादा बातें सबकों मान्य हुईं.
    हर तरह के तैरते भ्रष्टाचार से गलियां सड़कें गुलज़ार हुईं.
    आपके शहर और मेर शहर के हालात एक समान क्यों हुई ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये बदली और बूंदों का त्यौहार भी जरुरी है, भ्रष्टाचारी बरसात तो बारहमासी है... सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. भर्ष्टाचार करते स्वयं, दोष दुसरे को देते
    जब होती बरसात, तभी तो नाले भरते,,,,,,

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बरसात खेतों के लिए वरदान है. लेकिन हमारे भारतीय शहरों में कुप्रबंधन के चलते यह अभिशाप बन जाती है .

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है ... बरसात भी कितनी चीजें साथ ले आती है यहां तक की भ्रष्टाचार भी ... लाजवाब ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. सीधे सहज अनावृत प्रश्न मुस्कुराते हैं.
    बारिश में तमाम आवरण धुल जाते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बरसाती व्यंग भी अच्छा रहा

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (17-07-2012) को चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  16. चलो बारिश तो हुयी
    कुछ तो अच्छा हुआ ...
    हमारे भोपाल में तो जाने कब हमारी मिन्नतें पूरी होगी!!
    बहुत बढ़िया बरसती प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल मेरे शहर में
    बड़ी मिन्नतों बाद बरसात हुई

    बहुत सुन्दर मनभावन रचना प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मिन्नतों से
    करवा दी बारिश
    गजब करवाया
    अफसोस हमने
    क्यों नहीं
    आपको अपने
    शहर बुलवाया ।

    सुंदर शब्द !

    उत्तर देंहटाएं
  19. हर शहर की यही कहानी..सुन्दर शब्द दिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  20. शुक्र कीजिये कि बरसात हुई ...नहीं तो इस बार हर तरह सूखा ही सूखा हैं

    उत्तर देंहटाएं
  21. mere shahar me to barsaat aam ho gayi.
    bhrashtachaar k liye viran thi tumhari galiya...mujhse manga lete iske kuchh fool to pahle hi gulnaar ho jati tumhari bhi sadke.

    nale bhare ya naaliya ufan jayen neta to sare fir bhi bach niklenge inke ufan se.

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ शब्दों में बहुत कुछ कह दिया..बहुत सटीक रचना ..

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...