रविवार, 22 जनवरी 2012

बाज़ार

बाज़ार 






आज इतवार की सुबह 

जाग उठी हूँ 
रेहड़ी वालों के अजीब शोर से 
सालों से अदृश्य आत्माहीन शरीर 
आज अचानक दृश्यमान हुए हैं 
अलग तरह की रेहडियां
अलग सामान
कहीं समाजवाद,कहीं लोकतंत्र 
कहीं धर्मनिरपेक्षता, कहीं केवल धर्म 
बदले बदले स्वर 
कहाँ जाऊं, क्या लाऊं ?
जहाँ सब सस्ता है ? 

या जहाँ सब अच्छा है

जहाँ गुणवत्ता है 

या जहाँ महत्ता है     

या जहाँ मिले पांच साल की गारंटी व वारंटी.. 
पर यहाँ तो ये ही खुद असमंजस में है 
ये ही नहीं जानते
कब हाथ मसल दिया जायेगा 
कब कमल कुम्हला जायेगा 
कब हाथी हताश हो हांफता बैठ जायेगा
या फिर ....
कब ये सुकोमल हाथ 
अपनेपन से, दुलार से 
तोड़ेगा कमल  
संजोयेगा हाथी की सूंड में इसे प्यार से 
और अर्पित करेगा 
माँ लक्ष्मी के चरणों में 
कौन जाने ......

50 टिप्‍पणियां:

  1. परिस्थितिजन्य चिंता सभी के चेहरे पर है ....लेकिन यह भी सत्य है कि यह कुछ लोगों की मौकापरस्ती के कारण है .....और ऐसे मौकापरस्त सब अपनी अपनी दुकान सजाये हैं ......!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जहाँ गुणवत्ता है
    या जहाँ महत्ता है
    या जहाँ मिले पांच साल की गारंटी व वारंटी....
    नेताओ की वाकई दिवाली है
    ....एक कटु सत्य से परिचय कराती श्रेष्ठ रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  3. लूटने वालों की दुकाने सज चुकी हैं ....!
    किस-किस से बचेगा मासूम ग्राहक ????
    शुभकामनाये! ग्राहक को ..:-)))

    उत्तर देंहटाएं
  4. रचना जी,आपकी रचना ने बाजार की
    पोल खोल दी है.

    आपकी यह आरजू अच्छी लगी

    ' कब ये सुकोमल हाथ अपनेपन से, दुलार से तोड़ेगा कमल संजोयेगा हाथी की सूंड में इसे प्यार से और अर्पित करेगा माँ लक्ष्मी के चरणों में कौन जाने ......'

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. यहाँ तो ये ही खुद असमंजस में है
    ये ही नहीं जानते
    कब हाथ मसल दिया जायेगा
    कब कमल कुम्हला जायेगा
    कब हाथी हताश हो हांफता बैठ जायेगा... ये कैसा ज़माना , पर यही हुआ ज़माना - बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर सृजन , सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये वो हाट है जो पांच साल में एक बार लगता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिगभ्रमित हैं सभी। कुरूक्षेत्र में कौन सुनेगा उपदेश..!सभी समझते हैं कि हमारे ही पास है सुदर्शन चक्र..हमी हैं कृष्ण।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 23/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ऐसे शोर अक्सर पांच साल बाद आते हैं और सब को सपने बचके चुपके से निकल जाते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऊंट के बैठने का इंतज़ार है.. प्रभावी व सुन्दर लिखा है रचना जी ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. चुनावी माहौल को चित्रित करती सुंदर व्यंग्य भरी प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. jhoothon kaa bazaar hai
    is baazaar mein sab biktaa hai
    sona bataa kar peetal biktaa hai
    imaan ke naam par bhrasht miltaa hai
    yathaarth sateek rachnaa

    उत्तर देंहटाएं
  14. रेहडियां कहाँ आज तो मॉल सजे हुए हैं .. सटीक और सार्थक प्रस्तुति .. पांच साल की न गारंटी है न वारंटी .. अब तो जनता को ही सूझ बूझ कर कदम उठाना है ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. सत्य का आइना दिखाती भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति
    बेहतरीन रचना,....

    उत्तर देंहटाएं
  16. चुनावी माहौल पर सटीक व्यंग्य..

    उत्तर देंहटाएं
  17. सही कहती हैं आप रचना जी, एक बेसुरा बाजार ही तो सजा है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. जी हाँ , बाज़ार ही तो है.... सटीक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  19. यहाँ तो ये ही खुद असमंजस में है ....
    सच कहा आपने..
    सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  20. समसामयिक कविता.. बढ़िया विम्ब चुनती हैं आप... बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  21. राजनैतिक मौसम की भविष्यवाणी करती अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बढ़िया...
    सही समय पर खरी प्रस्तुति..
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  23. सत्य को लिख दिया ....

    ना होगा हाथ का साथ
    ना रहेगा हाथी
    नहीं खिलेगा अगर,
    कमल का फूल
    तो कौन माझी बन
    खेवे का इस देश की
    नईया को ?.....अनु

    उत्तर देंहटाएं
  24. राजनीति की दूकान को आपने रेहडियों पर सजा दिया.. शायद वही जगह सही है इन सियासतदानों की! बहुत गहरा कटाक्ष!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत बढ़िया...
    सही सुन्दर और सटीक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  26. आज इतवार की सुबह
    जाग उठी हूँ रेहड़ी वालों के अजीब शोर से सालों से अदृश्य आत्माहीन शरीर आज अचानक दृश्यमान हुए हैं अलग तरह की रेहडियां अलग सामान कहीं समाजवाद,कहीं लोकतंत्र कहीं धर्मनिरपेक्षता,

    वाह वाह ! आज की दिशाहीन राजनीति का कितना सटीक चित्रण अपने इस कविता में किया है, यहाँ शोर तो बहुत है पर असली माल कहीं नजर ही नहीं आता.

    उत्तर देंहटाएं
  27. अत्यंत स्टीक प्रतीकों के माध्यम से करारा व्यंग और एक बड़ा प्र्श्न ।
    बहुत ही सुंदर अभिव्यकित । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  28. आत्माहीन शरीर आज अचानक दृश्यमान हुए हैं अलग तरह की रेहडियां अलग सामान कहीं समाजवाद,कहीं लोकतंत्र कहीं धर्मनिरपेक्षता, कहीं केवल धर्म बदले बदले स्वर कहाँ जाऊं, क्या लाऊं ? जहाँ सब सस्ता है ?
    या जहाँ सब अच्छा है
    जहाँ गुणवत्ता है
    या जहाँ महत्ता है
    ....sach badle haalaton mein asamjas mein kuch samjh pana aaj saral nahi raha..
    ..

    उत्तर देंहटाएं
  29. सही कहा आपने. कोई नहीं जानता इस बाज़ार का मिजाज...

    उत्तर देंहटाएं
  30. बाज़ार गरम है। रेहड़ी वाले, फेरी वाले, फेरी लगा रहे हैं। देखें किसकी झोली में क्या पड़ता है?

    उत्तर देंहटाएं
  31. .


    बहुत अच्छा दृश्य चित्र खींचा है आपने …

    इस बाज़ार से आम नागरिक का कब भला होना है …

    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  32. बाजार की
    पोल खोल दी है
    बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर प्रस्तुति यथार्थ को कहती हुई .

    उत्तर देंहटाएं
  34. यहाँ तो ये ही खुद असमंजस में है
    ये ही नहीं जानते
    कब हाथ मसल दिया जायेगा
    कब कमल कुम्हला जायेगा
    कब हाथी हताश हो हांफता बैठ जायेगा.

    बहुत अच्छे से परिस्थिति पर प्रकाश डालती रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  35. rajnaitik gatividhiyon pr sahi disha men yatharth chintan .....antotogatwa sab ke sab mata Laxmi ke pujari hi nikalege janta ko kaun poochega.

    उत्तर देंहटाएं
  36. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  37. आज के राजनीतिक हालात निश्चय ही चिंताजनक हैं..कटु पर सटीक और सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  38. आइना दिखाती सुंदर रचना,....
    बहुत सुंदर प्रस्तुति, अच्छी रचना,..

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  39. सचमुच राजनीति का व्यापारीकरण हो गया है।
    पाँच साल में एक बार खुलती हैं ये दुकानें।
    कविता अपने उद्देश्य में पूर्णतः सफल....
    निःसंदेह सराहनीय........
    कृपया इसे भी पढ़े-
    क्या यही गणतंत्र है

    उत्तर देंहटाएं
  40. शनिवार के चर्चा मंच पर
    आपकी रचना का संकेत है |

    आइये जरा ढूंढ़ निकालिए तो
    यह संकेत ||

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...