रविवार, 6 नवंबर 2011

चाँद

चाँद 
इस करवा चौथ
मैंने भी व्रत रखा 
निर्जला औरों की तरह.
रात सबने चाँद को पूजा 
और चली गयीं
अपने अपने चाँद के साथ 
अपने अपने चाँद के पास.
अकेला रह गया 
आस्मां का वह चाँद और
मैं...
मैंने उसे बुलाया 
अपनी दोनों हथेलियों के बीच
कस कर उसे भींचा    
दोहरा किया और छुपा लिया 
तकिये के नीचे.
सोने की नाकाम कोशिश 
पर न जाने कब 
चाँद सरक गया 
रह गयी तो बस 
गीली हथेलियाँ और तकिया. 
नहीं जानती 
मेरी आँखों के समंदर में 
सैलाब आया था 
या रात चाँद बहुत रोया था 
हाँ पर सूरज 
जरुर मुस्कुरा रहा था.

56 टिप्‍पणियां:

  1. नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था
    हाँ पर सूरज
    जरुर मुस्कुरा रहा था

    चांद सदैव सुख-दुख का साथी रहा है।
    गहरे भावों को अभिव्यक्त करती सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं





  2. आदरणीया रचना जी
    सस्नेहाभिवादन !

    भाव विह्वल कर देने वाली रचना की रचनाओं पर कोई क्या कहे …

    आप भी बस , विवश कर देती हैं …
    अकेला रह गया आस्मां का वह चाँद और मैं...
    मैंने उसे बुलाया अपनी दोनों हथेलियों के बीच कस कर उसे भींचा
    दोहरा किया और छुपा लिया तकिये के नीचे.
    सोने की नाकाम कोशिश
    पर न जाने कब चाँद सरक गया रह गयी तो बस गीली हथेलियाँ और तकिया.

    नहीं जानती मेरी आँखों के समंदर में सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था


    मन भीग रहा है …

    सूरज जरुर मुस्कुरा रहा था
    आपका सूरज हमेशा मुस्कुराता रहे … आमीन !

    बेहतरीन भाव-शिल्प की रचना के लिए बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. निर्मोहीं सूरज! भावना को नहीं समझता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ज़बरदस्त भावों से लबरेज़. वाह क्या बात है,रचना जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. चान्द रोया साथ मेरे, रात रोयी बार बार ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. चाँद को पता चल जाये कि उसके चाहने वाले करोड़ों चकोर हैं , तो कभी न रोये ।
    लेकिन वो बेचारा तो दूर से ही देखता रहता है , बिना कोई शोर मचाये ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. चाँद को सबके बारे में पता रहता है, रात भर जगकर वह यही करता रहता है, मन नम करती हुयी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. गहरे भावों को अभिव्यक्त करती सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था ......चाँद की आँखों ने कहा - जानती तो हो , तुम मेरे गले लग सुबकती रही , मेरी चाँदनी पिघलती रही

    उत्तर देंहटाएं
  11. नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था
    हाँ पर सूरज
    जरुर मुस्कुरा रहा था………………बेहद गहन भावो का समावेश्…………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. Us raat me maine bhi socha tha k sab ne chand ko akela chhod dia magar pata nahi tha k aap sath hain uske.. subeh subeh aapka likha kuchh padhne se behtar kya hi ho sakta h :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. विदाई ...बड़ी दुखदाई,,जरूर चाँद रोया होगा ..?
    भावपूर्ण कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय रचना जी आप सच ही रचना है ..सुन्दर कृति आप की ..विरह और प्रेम की झांकी अद्भुत बन पड़ी ...ऐसा भी हुआ सच बहुत जगह ...
    लेकिन सूरज मुस्कुरा दिया ...सुकून मिला हमेशा नहीं तडपना चाहिए ...सब के चाँद पास हों ..
    भ्रमर ५

    नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था
    हाँ पर सूरज
    जरुर मुस्कुरा रहा था

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खुबसूरत .... दिल को छूते भाव...
    सुन्दर... बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  16. Bhagwaan kare ,sooraj hamesha muskurata rahe aapke jeewan me!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर रचना है,रचना जी.
    भाव विभोर कर रही है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    एक अर्सा हो गया है आपको मेरे ब्लॉग पर आये.
    लगता है अब वह बात नही मेरे ब्लॉग में जो
    आपके मन को भाये.

    मुझ से कोई गल्ती हुई हो तो क्षमा कीजियेगा.
    पर मेरे ब्लॉग को न भुलाइयेगा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस कविता का अंत एक नयी कविता के आरंभ का द्योतक लग रहा है रचना जी। यदि ऐसा है, तो पोस्ट करने पर मुझे सूचित अवश्य करना।

    उत्तर देंहटाएं
  19. नहीं जानती मेरी आँखों के समंदर में सैलाब आया था या रात चाँद बहुत रोया था हाँ पर सूरज जरुर मुस्कुरा रहा था.
    बेहद खुबसूरत,,

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रभावशाली अभिव्यक्ति ....
    हर इच्छा कहाँ पूरी होती है ....
    अकेलापन का अहसास और हँसते आसपास के लोग
    यही है जीवन ..
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. अहसासों की अद्भुत अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  22. रचना जी,
    लिखने में आपका जबाब नही,
    या चाँद बहुत रोया था..
    सूरज बहुत मुस्करा रहा था..
    मन को भावविहल कर देने वाली
    लाजबाब सुंदर रचना....
    मेरे नए पोस्ट में आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  25. मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था.बेहतरीन.

    उत्तर देंहटाएं
  26. चाँद हमेशा साथ चलता है...!
    बेहद भावपूर्ण!

    उत्तर देंहटाएं
  27. चाँद यूँ ही कविताओं का विषय नहीं बना करता ...उसने नितांत अकेलेपन में हमेशा हमारा साथ दिया है इसीलिए हमारे शब्दों में भी साथ है !

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहद शानदार भावाभिव्यक्ति है आपकी।

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति,गहन भावों से भरी...मन को छू गई|

    उत्तर देंहटाएं
  31. नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था
    हाँ पर सूरज
    जरुर मुस्कुरा रहा था

    सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  32. इस अद्भुत रचना के लिए क्या कहूँ? बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  33. चाँद की शीतलता और नमी दोनों ही भिंगो रही है रचना जी.

    उत्तर देंहटाएं
  34. चलिए उस चाँद का साथ आपने तो निभाया.....

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत अच्छे भावों को कलमबद्ध किया है आपने,बहुत अच्छी कृति !


    कृपया पधारें ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत खूब... भावों की बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति.. ..........बहुत ही सधे हुए शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  37. चाँद और मन का गहरा रिश्ता है...इसी तरह सूर्य और आत्मा का, मन तो बना ही है रोने के लिये और आत्मा मुस्कुराने के लिये....

    उत्तर देंहटाएं
  38. भावपूर्ण खूबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  39. उफ़्फ़! क्या खूबसूरत अभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  40. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने इस अभिव्‍यक्ति में ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. नहीं जानती
    मेरी आँखों के समंदर में
    सैलाब आया था
    या रात चाँद बहुत रोया था
    हाँ पर सूरज
    जरुर मुस्कुरा रहा था

    ....भावों और शब्दों का लाजवाब संयोजन...बहुत उत्क्रष्ट प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  42. samvedneey ehsason ki adbhut abhivyakti.

    har bheegi raat ke bad ujla sooraj nikalta hi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  43. रचना जी,मेरे नए पोस्ट "वजूद" में आपका स्वागत है ...

    उत्तर देंहटाएं
  44. चाँद एक माध्यं है प्रेम और सुख-दुःख बयान करने का ... शायद इसलिए करवा चौथ पर भी इसे महत्व दिया गया हो ... कमाल की रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.com/

    उत्तर देंहटाएं
  46. रचना जी इसे करवा चौथ पर क्यों न लिखा .....?

    बहुत अच्छी रचना .....
    बहुत खूब ....

    उत्तर देंहटाएं
  47. नदी में इंसान जैसे डुबकियाँ लगा कर स्नान करता है वैसे ही मैं भी आपकी रचनाओं में डुबकियाँ लेता हूँ। शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  48. अति सुन्दर...चाँद और करवाचौथ को देखने का कमल नजरिया...

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत बढ़िया भावपूर्ण अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...