रविवार, 2 अक्तूबर 2011

शहर


शहर 

इस शहर में हर शख्स
बारूद ले के चलता है,
मुंह खोलते बारूद झरता है
उड़ती हैं धज्जियाँ 
अरमानों की यहाँ हर दिन,  
चिथड़े कोई
यहाँ गिनता नहीं, 
रखता नहीं.
गिरह खुल जाए रिश्तों की, 
दिल की कभी, 
सीवन उधड़ जाये 
दिल के दरों दीवार की, घर की 
फेंक दो, दफन कर दो, 
मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

56 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत -२ बधाई जी , आपको ममस्पर्शी रचना ....सम्मान योग्य .

    उत्तर देंहटाएं
  2. ना कोई जोड़ने वाला सब तोड़ने में लगे । विध्वंस हर तरफ । बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच , इस शहर में रफूगरों की बहुत ज़रुरत है ।
    एक और अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. दीवार तेजी से गिर रही है, कोई बनाने वाला चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. यथार्थ को कहती अच्छी अभिव्यक्ति ... रफूगर जैसे कारीगर नहीं मिलते ..जो रिश्तों को सी सकें

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब रफूगरों की जरुरत महसूस करने का समय भी कहाँ किसी को !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अथ आमंत्रण आपको, आकर दें आशीष |
    अपनी प्रस्तुति पाइए, साथ और भी बीस ||
    सोमवार
    चर्चा-मंच 656
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन की वेदना व्यक्त करती एक सुंदर रचना ...
    बधाई!
    शुभकामनाएं !
    समय हो तो ... एक नज़र इधर भी

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    इस इक पंक्ति ने हिला कर रख दिया....निःशब्द हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिल के दरों दीवार की, घर की
    फेंक दोए दफन कर दो,
    मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं

    भावों की सुंदर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सीने में जलन, आँखों में तूफान सा क्यों है,
    इस शहर में हर शख्स परेशाँन सा क्यों है।

    सच कहा आपने रचना जी,शहर की हवाओं में भी आंच सी आती है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ... मेरे शहर में अब रफूगर नहीं मिलता....
    अगर मिल भी जाए तो झरते बारूद के परिणाम चीथड़े चीथड़े अरमानों को रफू करेगा भी कैसे...
    बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति रचना जी...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  13. गिरह खुल जाए रिश्तों की,
    दिल की कभी,
    सीवन उधड़ जाये
    दिल के दरों दीवार की, घर की
    फेंक दो, दफन कर दो,
    मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.
    Kya baat kahee hai! Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    ओह!! बहुत ही गहरी बात कह दी...
    पूरी नज़्म ही कुछ सोचने को मजबूर कर देती है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं

    क्या गज़ब पंक्ति कह दी आपने....छू गई.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.
    बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर तथा सार्थक रचना , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर तथा सार्थक रचना , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  20. RACHNA JI , AAPKEE RACHNA MEIN
    YTHAARTH KEE ABHIVYAKTI KHOOB HAI !
    MUBAARAK .

    उत्तर देंहटाएं
  21. वर्तमान हालात का बहुत मार्मिक चित्रण किया है आपने अपनी रचना में.
    बधाई आपको.

    उत्तर देंहटाएं
  22. गिरह खुल जाए रिश्तों की,
    दिल की कभी,
    सीवन उधड़ जाये
    दिल के दरों दीवार की, घर की
    फेंक दो, दफन कर दो,
    मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    बहुत सुन्दर रचना... सही कहा अपने आजकल ज़िंदगी में जो उधड़ जाये उसे रफू करने वाले कहाँ रहे.. आज तो बस तोड़ने, और दफ़्न करने का ही रिवाज चल निकला है... बहुत दिनों के बाद जो दिल को छू जाये ऐसा कुछ पढ़ने को मिला.. धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  23. यह सही है कि शहर से 'रफ़ूगर' नदारद है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर शब्दों से सजी अच्छी रचना के लिए बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  25. एक रफूगर की कमी खलती तो है ...
    बढ़िया भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  26. सचमुच आज विनाश जारी है पर निर्माण की बात कहीं कहीं ही दिखाई पडती है...दिल को छू लेने वाली रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  27. शहर की मार्फ़त बेदिल निरपेक्ष ज़िन्दगी पर कटाक्ष .मार्मिक यथार्थ बुनती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना! शानदार प्रस्तुती!
    दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह ...बहुत ही अच्‍छी अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  30. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं

    गज़ब की पंक्ति

    लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  31. वर्तमान व्तवस्था को प्रदर्शित करती हुई बहुत सशक्त रचना के लिए वधाई।

    डा० व्योम

    उत्तर देंहटाएं
  32. rachna ji khud hi training lijiye rafugar banNe ki....warna baki to sab tamaashbeen hain.

    yatharth ki dhara par katu saty ukerti rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  33. sacchi sacchi...khari khari behtarin rachna... mere blog per bhi aapka swagat hai

    उत्तर देंहटाएं
  34. आदरणीय रचना दीक्षित जी ..बहुत सुन्दर रचना सच में बारूद के ढेर पर ही हम बैठ गए हैं सो रहे हैं उस पर खेल रहे हैं ..राम ही बचाए
    बधाई आप को लाजबाब ...
    धन्यवाद और आभार ..अपना स्नेह और समर्थन दीजियेगा
    भ्रमर ५

    सीवन उधड़ जाये
    दिल के दरों दीवार की, घर की
    फेंक दो, दफन कर दो,
    मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  35. मेरे शहर में अब रफूगर नहीं मिलता...
    वाह ! बिल्कुल ही नया अंदाज.

    उत्तर देंहटाएं
  36. गिरह खुल जाए रिश्तों की,
    दिल की कभी,
    सीवन उधड़ जाये
    दिल के दरों दीवार की, घर की
    फेंक दो, दफन कर दो,
    मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    वाह शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  37. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.

    वाह क्या बेहतरीन कविता !

    उत्तर देंहटाएं




  38. आदरणीया रचना दीक्षित जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    उड़ती हैं धज्जियां अरमानों की यहां हर दिन
    चिथड़े कोई यहां गिनता नहीं…
    … …
    … मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं


    बहुत मार्मिक भाव होते हैं आपकी रचनाओं में
    होते हैं मेरे साथ भी ऐसे हादसे !
    कहूंगा घायल की गत घायल जाने … जे कोई घायल होय …

    नवरात्रि एवं दुर्गा पूजा की बधाई और शुभकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं




  39. आदरणीया रचना दीक्षित जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    उड़ती हैं धज्जियां अरमानों की यहां हर दिन
    चिथड़े कोई यहां गिनता नहीं…
    … …
    … मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं


    बहुत मार्मिक भाव होते हैं आपकी रचनाओं में
    होते हैं मेरे साथ भी ऐसे हादसे !
    कहूंगा घायल की गत घायल जाने … जे कोई घायल होय …

    नवरात्रि एवं दुर्गा पूजा की बधाई और शुभकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  40. सच में अब रफूगर कहाँ मिलते हैं..बहुत मार्मिक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  41. सुंदर अभिव्यक्ति है ।बहुत ही गहरी ..

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत बढ़िया शब्द चुने..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत खूब ... अब रफूगर नहीं मिलते ... सच है शब्दों का बारूद उगलना ठीक नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  44. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    उत्तर देंहटाएं
  45. विजयदशमी की आपको और आपके परिवार को भी हार्दिक शुभकामनायें,रचना जी.

    उत्तर देंहटाएं
  46. विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  47. आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  48. मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं....

    पता नहीं क्यूँ जिंदगी यूँ ही पैबंद लगी होती जा रही है और जीवन्तता गुम हो गयी है कहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  49. ..मेरे शहर में अब रफूगर मिलता नहीं.
    ..वाह!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...