रविवार, 3 अप्रैल 2011

एक प्रश्न

एक प्रश्न



जब तब बहस छिड़ती है,
कहते हैं स्त्री कमज़ोर है. 
पुरुष से शारीरिक रूप से. 
क्या करें प्रकृति से ही 
सब कुछ कम पाया है. 
आकार छोटा, मांस पेशियाँ कम.   
शक्ति कम, गुरुत्व केंद्र भी नीचा. 
यहाँ तक कि दि....ल .....भी छोटा. 
बड़ा कुछ है, तो वो  है फेफड़ा, 
और इस नन्हे से दिल  की धडकनें. 
तुम्हारे बड़े दिल से कहीं ज्यादा.  
ये सब मैं नहीं कह रही हूँ,
सत्यापित हो चुका है ये. 
मेरे फेफड़ों  में आवारा फिरती इक इक साँस,
सिर्फ  तुम्हारे लिये ही जीती है.
मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो 
और तुम्हारी धड़कन में .....???
कौन बड़ा लगता है तुमको ?   
छोटे दिल वाली मैं या बड़े दिल वाले तुम.
आखिरी निर्णय भी तुम्हारा ही मान्य है मुझे .
तुम्हारी प्रतिक्रिया में प्रतीक्षारत ......   
तुम्हारी मैं .  

47 टिप्‍पणियां:

  1. कई तरह के कष्ट झेलकर भी पूरी ऊर्जा के साथ बिना टूटे,बिना रुके, बिना थके, खुद को भुलाकर , घर को घर बनाए रखने का काम स्त्री करती है । यह असीम शक्ति का एक रूप है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ा कुछ है, तो वो है फेफड़ा, और इस नन्हे से दिल की धडकनें. तुम्हारे बड़े दिल से कहीं ज्यादा. ये सब मैं नहीं कह रही हूँ, सत्यापित हो चुका है ये. मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस, सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.

    सार्थक सवाल करती हुई बहुत सुंदर कविता। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब तब बहस छिड़ती है,
    कहते हैं स्त्री कमज़ोर है.
    पुरुष से शारीरिक रूप से.
    क्या करें प्रकृति से ही
    सब कुछ कम पाया है. ....

    यथार्थपरक रचनाके लिए आपको हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???

    यथार्थ को आपने पूरी संवेदना से अभिव्यक्त किया है ..एक स्त्री को समाज आज भी कमजोर समझता है और उसकी संवेदनाओं के साथ हमेशा खिलवाड़ किया जाता रहा है आज तक ..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???
    बस इसी प्रश्न का उत्तर देना मुश्किल होता है मर्दों के लिए ।
    विश्व कप में भारत की जीत पर आप सबको ढेरों बधाइयाँ ।
    ट्रूली , वी आर द चैम्प्स ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब तब बहस छिड़ती है,
    कहते हैं स्त्री कमज़ोर है.
    पुरुष से शारीरिक रूप से.
    per sahanshilta stree ki jabardast hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. wah kya prashn hai..........shartiya aap bhee rom rom me basee hangee............ aapka vyktitv hee aisa hai jee.........

    :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???

    भले ही विज्ञान ने यह सिद्ध किया हो कि स्त्रियों को हर चीज़ कम मिली है पर सत्य यही है कि हर नारी उन कमियों के बाद भी देती ज्यादा ही है :):)

    अब इस बात का भी सत्यापन कर दिया है कि स्त्री का दिल छोटा होता है तभी तो पुरुष बड़ा दिल रख कर " वो " के लिए जगह बना लेता है ..

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक सवाल करती हुई बहुत सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सबकी धड़कन और इच्छाशक्ति एक ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. "मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???"-----
    ----बस यही तो नारी की सबसे बडी शक्ति है.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (4-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. जब तब बहस छिड़ती है,
    कहते हैं स्त्री कमज़ोर है.
    पुरुष से शारीरिक रूप से.
    क्या करें प्रकृति से ही
    सब कुछ कम पाया है. ....
    ..bahut badiya... lekin naari ko kam aankna us vidhata ko kosna hoga jisne sabko banaya hai..
    naari jaisa sahas aur dhairya bhala kismen hai...
    saarthak prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  14. वैज्ञानिक तथ्यों पर आपकी कविता तथ्य से कहीं अधिक कहती है... मुझे तो लगता है नारी हर मामले में पुरुषों से अधिक होती है... यह असीम शक्ति का एक रूप है ...बहुत सुंदर कविता........

    उत्तर देंहटाएं
  15. shakti dekha jaye to purush ke apeksha nari ko jyada mili....aur baat yaha jab shaaririk shakti ki hai to yahi kahungi ki vo aur bhi jyada aur prashansneey ho jayegi agar purush use laabhkari srijan ke liye prayog kare...lekin....afsos...aisa nahi hota....vo bhatak kar kayi baar is shakti ka upyog karta hai tehes-nehas karne wale srijan me....nari ko dabane me...

    bahut sunder rachna komal bhaavo ko darshati.

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब तब बहस छिड़ती है,
    कहते हैं स्त्री कमज़ोर है.
    पुरुष से शारीरिक रूप से.
    क्या करें प्रकृति से ही
    सब कुछ कम पाया है

    बहुत बढ़िया पंक्तियाँ रची हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  17. यह पत्र दिल को छू गया...बड़ा वही जिसके दिल में प्यार हो बाकी उसके सामने धूल भी नहीं ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???

    बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. कौन बड़ा लगता है तुमको ?
    छोटे दिल वाली मैं या बड़े दिल वाले तुम.
    आखिरी निर्णय भी तुम्हारा ही मान्य है मुझे .
    तुम्हारी प्रतिक्रिया में प्रतीक्षारत ......
    तुम्हारी मैं .
    Nari ko hi prakriti ka doosara roop kaha gaya hai.uski bahy komalata uske aantarik komalata ka darpan hai.nau dinon tak maan(Nari) ki hi pooja hoti,na ki purush ki.yah prashn nahi ,hamari soch par aik prashn chnh hai.bahut dunder avam dil ko chhu lenewali rachana ke liye badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सब कुछ कम मिलने के बाद भी नारी कमजोर कहाँ है..जो स्त्री पूरे परिवार की इच्छाओं का बोझ अपने कन्धों पर उठाती है वह कमज़ोर कहाँ हो सकती है..बहुत सार्थक और भावपूर्ण रचना..नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में .....???

    बहुत ही सार्थक रचना ... कुछ सार्थक सवाल उठाती हुई ... अलग तरह के बिंबों का प्रयोग किया है ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  23. सार्थक और सुंदर जवाब .......!!
    सुंदर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  24. आकार छोटा, मांस पेशियाँ कम.
    शक्ति कम, गुरुत्व केंद्र भी नीचा.
    यहाँ तक कि दि....ल .....भी छोटा.
    बड़ा कुछ है, तो वो है फेफड़ा,


    aap to kavita ke doctor ho gaye
    :)
    bahut khub!

    उत्तर देंहटाएं
  25. बड़े फेंफदों के मध्य छोटे से दिल में आवारा बहकती साँसों के उद्दीपन से विचलित हुए बिना बहुत ही अच्छी कविता प्रस्तुत की है आपने रचना जी| बधाई|
    http://samasyapoorti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  26. शारीरिक रूप से स्त्री भले ही पुरुष से कमज़ोर हो लेकिन चारित्रिक एवं मानसिक क्षमताओं में वह पुरुष से कितनी मजबूत है यह सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं है ! एक सार्थक प्रश्न जिसका प्रतुत्तर भी उसीमें निरुद्ध है ! सुन्दर रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  27. Da beauty of dis poem lies in the logic of the questions which u asked thru dis poem.. i loved it :)

    उत्तर देंहटाएं
  28. अदभुत, बहुत खूबसूरत रचना! अंतिम पंक्तियाँ कटु सत्य को उजागर करती हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  29. rachna ji
    bahut hi sahi vishay -vastu ko aapne badi hi sahjta ke saath uthaya hai.
    waqai aaj bhi istri ko kuchh log kamjor hi mante hain vo bhul jaate hi ki istri si samvedansheelta sahansheelta avam urja ko koi dusra vikalp nahi hai.
    yah ab puri tarah se jabki hamare purushh pradhan samaj dwara bhi many ho vhuka hai .
    aapki beech ki do panktiyan man ko bahut hi bhain
    is nanhe se dil ki dhadkane tumahare bade dil se kahin bahut hi jyada badi hain.
    bahit hi uamdapost
    bahut bahut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  30. rachna ji
    bahut hi sahi vishay -vastu ko aapne badi hi sahjta ke saath uthaya hai.
    waqai aaj bhi istri ko kuchh log kamjor hi mante hain vo bhul jaate hi ki istri si samvedansheelta sahansheelta avam urja ko koi dusra vikalp nahi hai.
    yah ab puri tarah se jabki hamare purushh pradhan samaj dwara bhi many ho vhuka hai .
    aapki beech ki do panktiyan man ko bahut hi bhain
    is nanhe se dil ki dhadkane tumahare bade dil se kahin bahut hi jyada badi hain.
    bahit hi uamdapost
    bahut bahut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  31. कौन बड़ा लगता है तुमको ? छोटे दिल वाली मैं या बड़े दिल वाले तुम. आखिरी निर्णय भी तुम्हारा ही मान्य है मुझे . तुम्हारी प्रतिक्रिया में प्रतीक्षारत ...... तुम्हारी मैं .
    waal kamaal ki rachna ,behad khushi milti yahan .....
    sangeeta ji meri dil ki baat kah gayi ,navraatri ke karan net nahi khol paa rahi is karan aa nahi saki .

    उत्तर देंहटाएं
  32. नारीत्व सम्पूर्णता का दूसरा नाम है . और क्या लिखूं?

    उत्तर देंहटाएं
  33. यथार्थपरक रचनाके लिए आपको हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपकी कविता तो अच्छे-अच्छों को कटघरे में कड़ी कर सकती है. नारी सशक्त है.

    उत्तर देंहटाएं
  35. विज्ञान साइज बता सकता है भावना नहीं बता सकता ।रहा सवाल साइज का ,महिलायें तो त्याग की मूर्ति होती ही है प्रकृति से ही कह दिया होगा ‘‘ज्यादा की नहीं लालच हमको थोडे में गुजारा होता हेै’’ इन्हे ही सब देदो इनकी खुशी मे ही हमारी खुशी है और प्रकृति या ईश्वर या ब्रहमा जी ने या जिसने भी शरीर बनाया महिला की बात मानी और रचदिया माटी का पुतला।

    उत्तर देंहटाएं
  36. यथार्थ परक रचना , हार्दिक बधाई.......

    उत्तर देंहटाएं
  37. आदरणीय रचना दीक्षित जी
    नमस्कार !
    मेरे फेफड़ों में आवारा फिरती इक इक साँस,
    सिर्फ तुम्हारे लिये ही जीती है.
    मेरी हर धड़कन में बस तुम ही हो
    और तुम्हारी धड़कन में !

    ..........बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...