रविवार, 6 फ़रवरी 2011

सरगम

सरगम




रीत गया दिन सब पीत हुआ,

अब रक्तारुण होने आया.

स्वप्नचलित से मनोभाव ने,

मन ऐसा भरमाया.

स्पर्श के आकर्षण से वो,


बाहर ना आ पाया.


हो हृदय का राजस्व अपहृत,


नैनों का पलंग बिछाया.

खिल गया सुनहला कमल,

मुख पर मृदु हास ले आया.

मधुर साज़ से सृजित साँझ ने,

साँसों का सरगम मृदुल बजाया.

सुदीर्घ विचुम्बित पलकों को,


मयूर पांख सा पसराया.


सोम सुधा की रेख सजा,


नवल अधर श्रृंगार कराया.


सोम के झरते कणों का मधुपान,

हाय! मकरंद न कर पाया.

अपने नयन कुंवारों को फिर,

मैंने तृषित सुलाया.

44 टिप्‍पणियां:

  1. आज की कविता सरगम.. मन में संगीत उत्पन्न कर दी है.. नया तान छेड़ दिया है... मन जब शीत के पहलु से निकल गुनगुनी धूप में पीले पीले फूलों के बीच वासंती हवा के हिंडोले में झूल रहा हो.. आपकी कविता नई संवेदना उत्पन्न करती है.. लेकिन ऐसा क्यों कि मन तो तृषित ही सुलाना पड़े ! एक सुन्दर कविता के लिए बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति.दिल को स्पर्श करती हुई .
    शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर शब्दों से अलंकृत अत्यंत भावपूर्ण कृति ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अछे शब्दों का श्रींगार से उत्पन्न कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुदीर्घ विचुम्बित पलकों को,

    मयूर पांख सा पसराया.

    सोम सुधा की रेख सजा,

    नवल अधर श्रृंगार कराया.
    anupam komal bhaw... shringaar ras se abhibhut

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय रचना दीक्षित जी
    नमस्कार !
    सोम के झरते कणों का मधुपान,
    हाय! मकरंद न कर पाया.
    अपने नयन कुंवारों को फिर,
    मैंने तृषित सुलाया.
    गज़ब की रचना है शुरू से आखिर तक धाराप्रवाह एक एक शब्द जैसे दिल की तह यक पहुँचता हुआ.....और अंतिम पंक्ति तो बस कमाल है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही खूबसूरती से लिखी सशक्त रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बसंत के आगमन पर मनोभावों को बहुत ही खूबसूरती से शब्दों में चित्रित किया है.
    बहुत ही प्यारी कविता.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति.दिल को स्पर्श करती हुई .
    शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर शब्दों से अलंकृत अत्यंत भावपूर्ण कृति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना जी , बहुत ही गहरे एहसास के साथ बेहतरीन कविता ............ सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल को छूने वाली खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर शब्द संयोजन .....

    रचना जी अगर क्षणिकायें लिखतीं हो तो भेजिएगा सरस्वती सुमन के लिए ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सोम के झरते कणों का मधुपान,

    हाय! मकरंद न कर पाया.

    अपने नयन कुंवारों को फिर,

    मैंने तृषित सुलाया.

    क्या बात है ! बहुत सुन्दर भाव और शब्द संयोजन..बहुत संवेदनशील प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्यासी आँखों का कुछ भी न कहना,
    बीती बातों में रह रह कर बहना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. खिल गया सुनहला कमल,
    मुख पर मृदु हास ले आया.
    मधुर साज़ से सृजित संझा ने,
    साँसों का सरगम मृदुल बजाया.
    आदरणीय रचना दीक्षित जी
    नमस्कार !
    इस सरगम का हर शब्द मन को भावुक कर गया ....कितनी प्यारी है यह सरगम ...आपका शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  17. सोम के झरते कणों का मधुपान,
    हाय! मकरंद न कर पाया.
    अपने नयन कुंवारों को फिर,
    मैंने तृषित सुलाया.
    .दिल को स्पर्श करती हुई .
    शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  18. मनोभावों को व्यक्त करती सुंदर रचना,पसंद आयी,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  19. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. rachna ji
    sarva pratham itna sneh aur pyaar dene ke liye aapkodil ke har kono se bahut bahut badhai .
    sach aapke is aseem sneh ne meri aankho me khushi ke aansu bhar diye .ho bhi kyo na ,aakhir ham sab ek parivaar ke sadasy ki tarah jo ho gaye hai.
    aapki sargam ne to sachmuch laybadh kar diya.gun gunati dhup jaisi lagi aapki sargam .
    bahut bahut badhai---
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  22. शब्द सामर्थ्य, भाव-सम्प्रेषण, संगीतात्मकता, लयात्मकता की दृष्टि से कविता अत्युत्तम है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुदीर्घ विचुम्बित पलकों को,

    मयूर पांख सा पसराया.

    सोम सुधा की रेख सजा,

    नवल अधर श्रृंगार कराया.
    bahut madhur ,tasvir bahut pasand aai ,is ritu ki khushboo basi hai rachna me .

    उत्तर देंहटाएं
  24. अच्छी कविता...... बहुत बढ़िया
    अभिव्यक्ति..... सशक्त

    उत्तर देंहटाएं
  25. अर्थपूर्ण शब्दों से अलंकृत रचना ..... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुन्दर बिम्बों और प्रतिमानों से सुसज्जित मनोहारी रचना मन को मुग्ध कर गयी ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  27. basant ke aagman ka manohari chitra khincha hai aapne sabdo me..:)

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. सोम के झरते कणों का मधुपान,
    हाय! मकरंद न कर पाया.
    अपने नयन कुंवारों को फिर,
    मैंने तृषित सुलाया.


    दिल को छू गयी ये पंक्तियाँ...............अत्यंत सुन्दर कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  30. मधुर साज़ से सृजित संझा ने,
    साँसों का सरगम मृदुल बजाया.
    wah.kina sunder....

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुन्दर कविता है, बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  32. कोमल भावनाओं को व्यक्त करती यहाँ आपकी रचना पसंद आयी . मेरी बधाई स्वीकारें- अवनीश सिंह चौहान

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुदीर्घ विचुम्बित पलकों को,
    मयूर पांख सा पसराया.
    सोम सुधा की रेख सजा,
    नवल अधर श्रृंगार कराया.
    ..बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति
    आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  35. सोम के झरते कणों का मधुपान,

    हाय! मकरंद न कर पाया.

    अपने नयन कुंवारों को फिर,

    मैंने तृषित सुलाया.

    क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  36. बसंत पंचमी के अवसर में मेरी शुभकामना है की आपकी कलम में माँ शारदे ऐसे ही ताकत दे...:)

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत खूब ....
    बढ़िया शब्द सामर्थ्य के लिए शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  38. अपने नयन कुंवारों को फिर,
    मैंने तृषित सुलाया.!!
    क्या बात है !प्रेम सौन्दर्य और अतृप्ति की अद्भुत प्रस्तुती ! बधाई !बसंत पंचमी की बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  39. आदरणीया रचना दीक्षित जी
    सस्नेहाभिवादन !

    आपकी रचना को हृदयंगम करना अधीर अंतर्जाल - पाठक के लिए बहुत दुष्कर कार्य भी है ।
    धैर्यपूर्वक दो बार पढ़ने पर अंतर्निहित आनन्द और व्यथा का स्पर्श कर विमुग्ध और रोमांचित हूं ।

    आप साहित्य के गंभीर पाठकों को जो दे रही हैं, उसका मूल्यांकन कठिन है ।

    बसंत पंचमी सहित बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...