रविवार, 24 अक्तूबर 2010

तरंगें

तरंगें




पीछे घूम कर देखती हूँ.

कभी हम पास थे.

इतने, इतने, इतने,

कि सब कुछ साझा था हमारे बीच.

यहाँ तक की हमारी सांसे भी.

दूरी सा कोई शब्द न था, हमारे शब्द कोष में.

अब तुम इतने दूर हो.

कुछ अपरिहार्य कारणों से,

ऐसा तुम कहते हो.

इतने, इतने, इतने,

कि पास जैसा कोई शब्द न रहा,

अब हमारे शब्दकोष में.

कुछ अदृश्य तरंगें भेज रही हूँ तुम्हें.

महसूस कर जरा बताना,

मेरी सांसों कि गति.

पढ़ा है कहीं,

दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,

होती हैं कुछ अदृश्य,

विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,

जो बिना कुछ सुने,

मन का हाल जान लेती हैं.


(यह चित्र मेरी बेटी ने बनाया है, उसका आभार)

43 टिप्‍पणियां:

  1. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,
    होती हैं कुछ अदृश्य,
    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,

    वाह , कितना सही कहा ।
    बेहतरीन प्रेममयी रचना ।

    चित्र तो लाज़वाब है ।
    आप रचनाकार हैं तो बेटी उम्दा कलाकार । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब तस्वीर है...

    तस्वीर के माध्यम के अलावा एक बात और जानने की इच्छा है...कि कविता तस्वीर के लिए लिखी गयी या तस्वीर कविता के लिए बनायी गयी ...?

    दोनों इतने परफेक्ट हैं कि क्या कहें...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ कहने की चाहत न कह पाने की कशमकश ..बहुत ही खूबसूरती से भावो को शब्द दिए हैं.और कविता तो माशाल्लाह....

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच्चा प्रेम ऐसे प्रेत की तरह है जिसकी बातें तो सब करते हैं लेकिन देखा किसी ने नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीर....मानना पड़ेगा, और रचना तो उससे भी सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  6. दो प्रेम करने वालों के बीच सचमुच कोई अदृश्य बंधन होता है..जिसमे तरंगें शुन्य रेजिस्टेंस के साथ सुपर कंडकटीविटी के तर्ज पर काम करता है.. आपकी कविता मन को छू गई...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत प्यारी कविता और उससे भी प्यारा सुंदर चित्र।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Rachna Ji,

    aapki Nazm se pahle saath ke chitr ki baat karna chahenge....unbelievable ...ye chitr aapki beti ne banaya hai...kitni khoobsoorati hai ismein aur kya finish....kaun si painting hai ye aur aapki beti abhi kitni badi hai ?

    utsuktavash dher saare sawaal pooch liye:-)

    ab aate hain aapki nazm par jo last mein electro magnetic wave ki baat aap kar gai hain wo to gazab hai ....yakeenan science ki student rahi hain aap....aapki kavitaon mein aksar jhalak milti hai

    उत्तर देंहटाएं
  9. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,
    होती हैं कुछ अदृश्य,
    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,
    रचना जी कमाल की तरंगें हैं बहुत खूब। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तरंग स्थापित करना कठिन होता है, स्थापित होने पर तोड़ना कठिन होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut hee sundar rachnaa... vakai me vidhyut tarange to hoti hain... aur us par itni sundar rachnaa... aapki beti ne chitr banaya vo kabile tareef hai.....bahut hee sundar aur kavita ke prasang se juda huva.. Bitiya ko bhi badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  12. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,

    होती हैं कुछ अदृश्य,

    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,

    जो बिना कुछ सुने,

    मन का हाल जान लेती हैं.

    -----

    Telepathy !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ अदृश्य तरंगें भेज रही हूँ तुम्हें.
    महसूस कर जरा बताना,
    मेरी सांसों कि गति....

    अनूठे बिंब लिए हैं आपने अपनी रचना में ... पर सच है प्रेम में ये तरंगें ही संदेश देती हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,
    होती हैं कुछ अदृश्य,
    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,

    सिर्फ...प्रेम करने वालों के ही नहीं सच्चे दोस्तों के बीच भी...:)
    बहुत ही ख़ूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  15. अदृश्य तरंगें!बहुत खूब!

    चित्र और कविता दोनों अति सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  16. फोटो तो बहुत ही अच्छी हैं जी.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  17. ...आप की बेटी को सुंदर चित्र बनाने के लिए बधाई!...जैसा कि आपने कहा, चुंबकीय तरंगे सही में अपना कार्य कर रही होती है...धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत लाजवाब है आपकी यह अभिव्यक्ति रचना जी----।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सहमत हू आप इस विचार से ,दूरियां कितनी भी हो अगर प्रेम सच्चा है तो मन का हाल जानते देर नही लगती

    उत्तर देंहटाएं
  20. Bahut khoob define kiya hai aapne prem ko


    Aur aapki Beti bhi aapki tarah rachnakar hai

    उत्तर देंहटाएं
  21. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,
    होती हैं कुछ अदृश्य,
    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,

    वाह क्या बता कही है और चित्र भी लाजबाब है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. चित्र बेहद मनमोहक है , और कविता उतनी ही लाजवाब

    regards

    उत्तर देंहटाएं
  23. kya jodee hai ek artist ek poetess......bahut acchee Rachana kee rachana lagee.....
    aur chitr to sone me suhaga..........
    bitiya ko aasheesh.

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुंदर रचना.

    सच तो कहा है....की अद्रश्य तरंगे सच्चे प्यार करने वालो को दिल की बात अनुभव करा ही जाती हैं.

    सुंदर चित्र.

    उत्तर देंहटाएं
  25. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 02-11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  26. maa beti ne milkar gazab dha diya hai.tareef ke liye shabd hi nahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुंदर रचना, सुंदर प्रस्तुति...धन्यवाद! ...दिपावली की शुभ-कामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  28. रचना माँ,
    नमस्ते!
    चित्र देख के मैं समझा था, बेटा आज भी समझ नहीं आएगी!
    हिम्मत करके पढ़ ली.... आश्चर्य है.... समझ आ गयी!
    मुमकिन है के सतही तौर पे....
    (मैं बुरी डूबन डरी.... रही किनारे बैठ)
    वैसे चित्र अच्छा है!
    आशीष
    ---
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  30. Hamesha ki treh behad alag aur behad gehri...samajh aayi ya nahi ye to nahi pata magar pasand zarur aayi h:)

    उत्तर देंहटाएं
  31. prem ek adbhud ehsaas hai, jo ki har manusya ke jiwan men umang bhar deta hai | bahut sundar rachna! bahut - bahut shubh kamna

    उत्तर देंहटाएं
  32. सबसे पहले तो "शुभ दीपावली"

    ये रचना तो अदभुद है

    चित्र उससे भी अदभुद है

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ख़ूबसूरत रचना और उसका मर्म... चित्र बेहतरीन.
    तरंगे तो वाकई होती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  34. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  35. दो सच्चे प्रेम करने वालों के बीच,
    होती हैं कुछ अदृश्य,
    विद्दुत चुम्बकीय तरंगें,
    जो बिना कुछ सुने,
    मन का हाल जान लेती हैं.
    बहुत सुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...