रविवार, 17 अक्तूबर 2010

आसरा

आसरा




दूर से निहारती हूँ तुम्हें.

सुना है,

गुणों का अकूत भंडार हो तुम.

वैसे, हूँ तो मैं भी.

तुम में भी एक दोष है,

और मुझ में भी.

तुम्हारा असह्य कड़वापन,

जो शायद तुम्हारे लिए राम बाण हो

और मेरा, दुर्बल शरीर.

मुझे चाहिए,

एक सहारा सिर्फ रोशनी पाने के लिए.

सोचती हूँ फिर क्यों न तुम्हारा ही लूँ.

अवगुण कम न कर सकूँ तो क्या,

गुण बढ़ा तो लूँ.

आओ हम दोनों मिलकर

कुछ नया करें.

किसी असाध्य रोग की दवा बनें.

दूर से निहारती हूँ तुम्हें,

जानती हूँ, मैं अच्छी हूँ,

पर बहुत अच्छी बनना चाहती हूँ.

कहते हैं,

नीम पर चढ़ी हुई गुर्च बहुत अच्छी होती है.

बोलो! क्या दोगे मुझे आसरा,

अपने चौड़े विशाल छतनार वक्षस्थल पर?



ऊपर के चित्र में नीम के पेड़ से लटकती जड़ें गुर्च की हैं. गुर्च को अंग्रेजी में टिनोस्पोरा कहते हैं. नीचे का चित्र गुर्च का है. यह एक औषधीय पौधा है. इसके कुछ और नाम इस प्रकार हैं:

छिन्ना chinna, छिन्नरूहा chinnaruha, गिलोय giloy, गुड़च gudach, गुलञ्च gulancha, गुलुञ्च guluncha, गुलबेल gulbel, गुर्च gurch, जीवन्ती jivanti, जीवन्तिका jivantika, पित्ताग्नी pittagni, तिक्तपार्वण tiktaparvan, वज्रा वज्र.

(दोनों चित्र गूगल से लिए गए हैं)

43 टिप्‍पणियां:

  1. :) ye to mast h ek dum.. aap bahut alag tereh se sochti hain aur is alag soch ko sanwaarne me behad mehnat bhi karti hain.. i liked the poem n pics as well..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया तुलनात्मक कविता .... नीम कड़वा ज़रूर है पर उस कड़वापन के पीछे छुपा है असंख्य गुण ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे वाह क्या ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति है..यह तो केवल आप ही कर सकती हैं....वाह...

    ऐसा क्यूँ मेरे मन में आता है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आओ हम दोनों मिलकर
    कुछ नया करें.
    किसी असाध्य रोग की दवा बनें.

    सिम्बायोसिस में किसी तीसरे का भला भी हो सकता है , यह तो आपने खूब पहचाना ।
    बहुत बुद्धिमानी से लिखी गई रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सृजन का एक नया रूप तुलनात्मक , बहुत सुंदर , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. समाज की सीधी व सच्ची सीख देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या तुलना की है आपने, बहुत सुन्दर.
    विजयादशमी की अनन्त शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ati sundar mel hoga...jaisa ki hona chaahiye...ek doosare kepoorak ban kar hi naye aavishkaar ki rah par aage badhaa jaa sakta hai!...sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक नया
    और अलग तरह का प्रतीक लिए
    एक बहुत ही अच्छी
    और पठनीय रचना

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनोखा मेल देखनेको मिला आज फिर आपकी कविता में... मनुष्य का वनस्पति के साथ सम्वाद और यह आग्रह कि दोनों मिलकर एक औषध बन सकें. एक अद्भुत दर्शन प्रस्तुत करती कविता तथा अनुकरणीय संदेश!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. शीर्षक भी अच्छा है आसरा । रचना की भावना भी श्रेष्ठ। नाम तो सुना परन्तु देखी नहीं ।कहते हैं मलेरिया की रामवाण दवा होती है गिलोय । चिरायता और गिलोय ही ज्यादा कडवे होते है और उतने ही लाभ दायक । पहले इसी से बुखार की दवायें तैयार होती थी सुगर कोटेड का ज्ञान तो था नही ंतो यही कडवी दवा पीते थे ।शायद इसी लिये कहा होगा कि ’’बुरे लगत सिख के बचन हिये बिचारे आप , कडबी भेषज बिन पिये मिटे न तन की ताप ’’

    उत्तर देंहटाएं
  12. बिम्ब का खूबसूरत प्रयोग। गुड़िच तो अमृता है। बहुत बीमारियों के लिए रामबाण। बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते।
    भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमोsस्तु ते॥
    विजयादशमी के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    काव्यशास्त्र

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी रचनाओं में एक अलग अंदाज है,

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    बेटी .......प्यारी सी धुन

    उत्तर देंहटाएं
  15. स्वयं के अवगुणों को पहचानना प्रायः लोगों के लिए कठिन होता है. और जो पहचान लेता है वह कबीर हो जाता है. फिर वह राम रुपी नीम की तलाश में लग जाता है. और दोनों के सानिध्य से समाज के रोगों का कितना अच्छा उपचार तैयार होता है यह जग विदित है.
    बहुत सुन्दरता से आपने अपनी कविता में इस विचार को प्रस्तुत किया है. साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut sunder likha hai.
    कहते हैं,


    नीम पर चढ़ी हुई गुर्च बहुत अच्छी होती है.


    बोलो! क्या दोगे मुझे आसरा,


    अपने चौड़े विशाल छतनार वक्षस्थल पर?

    उत्तर देंहटाएं
  17. रचना जी ,
    ये कविता में बांध कर क्या नुस्खा पेश किया है, अंत तक पहुंचाते पहुंचाते पता चला की ये तो वैद्य जी हमें कुछ सिखा रहेहैं.

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस बार मेरे नए ब्लॉग पर हैं सुनहरी यादें...
    एक छोटा सा प्रयास है,उम्मीद है आप जरूर बढ़ावा देंगे...
    कृपया जरूर आएँ...

    सुनहरी यादें ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. आओ हम दोनों मिलकर
    कुछ नया करें.
    किसी असाध्य रोग की दवा बनें.

    सम्पूर्ण कोई भी नहीं..पर एक दूसरे के पूरक तो बन सकते हैं....बहुत ही सच्चा और सुन्दर सन्देश देती रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  20. खूबसूरती से भावों को उकेरा गया , बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. औषधीय गुणों से युक्त वनस्पतियों का मिलकर असाध्य रोग की दवा बनने की अभिलाषा कविता के भाव में श्रीगुणात्मक वृद्धि कर रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ऐसा विश्वास बहुत कम लोग जुटा पाते हैं .....
    ये दोषारोपण न हों तो कड़वाह्टें न हों और कड़वाह्टें न हों तो हर तरफ रौशनी हो .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. नीम पर चढ़ी हुई गुर्च बहुत अच्छी होती है.

    बोलो! क्या दोगे मुझे आसरा,

    अपने चौड़े विशाल छतनार वक्षस्थल पर?
    adwitiye rachna

    उत्तर देंहटाएं
  24. खूबसूरत बिम्बो से सजाया हें रचना को.

    सुंदर सन्देश देती रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  25. विस्तृत और गहरे भाव लिए अपनी कलम से तराशा हुआ एक और नगीना पढवाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  26. रचना जी प्रकृति को इतनी गहराई से समझती हैं आप कि कभी हवा, कभी पानी, कभी धुआं, कभी गुरुत्वाकर्षण बल पर नए विम्ब प्रयोग के साथ कविता रच डालती हैं.. इस बार.. प्रकृति के दो अनमोल उपहारों के बीच का संवाद प्रस्तुत कर आधुनिक समाज, मानव को प्रकृति के करीब ले जा रही हैं.. कविता अपने उद्देश्य में सफल रही है.. एक सकारात्मक चिंतन को जन्म दे रही है.. उत्कृष्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. खुद की तुलना ..नीम पर चढ़ी हुई गुर्च ..से करना काफी अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्या दोगे मुझे आसरा,
    अपने चौड़े विशाल छतनार वक्षस्थल पर?
    sunder vimb prayog.

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रकृति के इतने नजदीकी सम्बन्ध को आपने खूबसूरती से दर्शाया...अच्छा लगा इसे पढना

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है जो प्रशंग्सनीय है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  31. rachna ji bahut hi achhi post .main monali ji ki baat se ek dam sahmat hun .meri bhi aapke baare me yahi rai hai.yah atishyokti nahi hain .vastav me aapki kalam me dam hai ,manana padegga.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  32. अरे क्या बात कही है रचना जी ..आखिरी पंक्तियाँ तो बस आश्चर्यजनक रूप से कमाल हैं .बहुत अच्छी लगी आपकी ये रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  33. गुर्च को प्रतीक बना कर कमाल की रक़्चना प्रस्तुत की है बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  34. aashaa aur vishwas ka anupam mel ,uttam kriti jisme achchhaiyo ko badi khoobsurati ke saath nichoda gaya hai .aap rachna har dafe anokhi hoti hai .

    उत्तर देंहटाएं
  35. कुछ टिप्पणियाँ सचमुच मन को उठा कर जाती हैं , उखड़ें हों जमीं से कितने भी , हौले से सहला जाती हैं . ये तो जबाब है आपकी दी गयी टिप्पणी के लिए ...
    आप ने बेल को वजूद दिया ...पेड़ की भी शोभा में चार चाँद लगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  36. किसी असाध्य रोग की दवा बनें !! ये समर्पण जनहित में बहुत कीमती है ! यही तो भारतीय संस्कृति की पहचान है ! और गिलोय को मै ढूंढ़ रही थी ! बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  37. विज्ञान को रचनात्मकता से जोड़ कर बहुत प्रभावी लिखा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  38. तुम्हारा असह्य कड़वापन,
    जो शायद तुम्हारे लिए राम बाण हो
    और मेरा, दुर्बल शरीर.
    मुझे चाहिए,
    एक सहारा सिर्फ रोशनी पाने के लिए.
    सोचती हूँ फिर क्यों न तुम्हारा ही लूँ.
    अवगुण कम न कर सकूँ तो क्या,
    गुण बढ़ा तो लूँ.

    बहुत सुन्दर रचना बधाई!!

    अंतरद्वन्द्व को बहुत स्पष्टता के साथ अभिव्यक्ति मिली है।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...