रविवार, 5 सितंबर 2010

प्रेमिका

प्रेमिका

एक प्रेमिका हूँ मैं

हर पल तुम्हारा  और

तुम्हारे स्पर्श का साथ

कितने  अधीर हो उठते

तुम मेरे बिन

फिर तुम्हारी उँगलियों पर

 थिरकती मैं

 तुम्हारे अधर  पर विराजती

 तुम्हारी सांसों में घुलती मेरी सांसें

और मैं

जलती, मचलती, बिखरती

मिटती धुआं होती,

कितना अभिशप्त जीवन है मेरा!!!!!

जिस किसी ने  भी चाहा मुझे

उस ने यूँ ही मिटा दिया मुझे

फिर भी मन मुदित है

जानती हूँ

त्यजे, जाने कितने ही जीवन

मैंने जिसके लिए

त्यजेगा वो भी, एक दिन

अपनी सांसें मेरे लिए

तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की

आखिर सिगरेट जो हूँ मैं



40 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति ....एक सन्देश भी छिपा है
    त्यजे, जाने कितने ही जीवन
    मैंने जिसके लिए
    त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की

    पूर्णाहुति से पहले ही लोग समझ जाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा सन्देश दे रही है आपकी रचना. लेकिन लोगो ने कहाँ संभालना है...शायद मृत्यु को बपौती माने बैठे हैं.

    सुंदर शब्द.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह वाह -------------बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस त्याज्य प्रेमिका को दूर से ही सलाम । जब प्रेमिकाएं ऐसी हों तो , किसी दुश्मन की क्या ज़रुरत ।

    बहुत सुन्दर ढंग से शिक्षक दिवस पर शिक्षा दी है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी सीख दी हैं आपने.
    मुझे पसंद आई आपकी सीख.
    फोटो मुझे सबसे ज्यादा पसंद आई हैं.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति के प्रति मेरे भावों का समन्वय
    कल (6/9/2010) के चर्चा मंच पर देखियेगा
    और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. premikaa ka ehsaas achchaa prstutikrn he. akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता के प्रारंभ में मैं तो इसे लेखनी समझ बैठा था |

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर| आजकल की तथाकथित प्रेमिकाओं से मेल खाती हुई यह प्रेमिका भी अपने कार्य में मग्न है|
    ब्रह्माण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर अभिव्यक्ति ....एक सन्देश भी छिपा है
    त्यजे, जाने कितने ही जीवन
    मैंने जिसके लिए
    त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की
    प्रेम मे इतनी बडी सजा? प्रेम त्याग मांगता है बद्दुआ नही देता। वैसे रचना बहुत अच्छी है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत भावपूर्ण और सुन्दर प्रम कविता-----।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी कविता पर एक शे'र याद आ गया...



    खाली प्याले, निचुड़े निम्बू, टूटे बुत सा अपना हाल
    कब सुलगी दोबारा सिगरेट , होकर जूते से पामाल

    उत्तर देंहटाएं
  13. और हाँ,

    अपने ब्लॉग पर आपका कमेन्ट पढ़ कर जोर कि हंसी आई थी हमें...
    fir hamne apni puri post..और kaments ..दोबारा padhe...


    :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया सन्देश... छुपा नहीं उजागर है.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. सचमुच प्रेमिका सी कविता लगी.. क्या सोचा और क्या निकली... वैसे बहुत सुंदर रचना.. नए प्रकार का आधुनिक जीवन से बिम्ब... यही तो आपका ट्रेड मार्क बन गया है..

    उत्तर देंहटाएं
  16. सारगर्भित रचना..बहुत भावपूर्ण.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर और शानदार प्रस्तुती!
    शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  18. तुम्हारे अधर पर विराजती

    तुम्हारी सांसों में घुलती मेरी सांसें

    और मैं

    जलती, मचलती, बिखरती

    मिटती धुआं होती

    अभुत!
    अंत तो और भी अद्भुत!
    चौंकाने वाला! बिम्ब का सुंदर प्रयोग।

    जाने कितने ही जीवन
    मैंने जिसके लिए
    त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की
    आखिर सिगरेट जो हूँ मैं

    गीली मिट्टी पर पैरों के निशान!!, “मनोज” पर, ... देखिए ...ना!

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. अन्त इतना चोट देने वाला कि प्रारम्भ का सारा प्यार फुस्स हो जाये। बेहतरीन अन्दाज में शिक्षा। वैसे मजे की बात कि मैं नहीं पीता।

    उत्तर देंहटाएं
  21. त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की
    आखिर सिगरेट जो हूँ मैं
    ...ek samajik jagrukta bhara sandesh.... aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  22. bhut hi sundar manvikrn kiya . kvita ke ant tk yhi smjhti rhi ki kisi estri ka aakrosh hai mgr aakhiri pnkti ne dubara shuru se pdhne pr mjboor kr diya . shandar post .
    bdhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  23. त्यजे, जाने कितने ही जीवन
    मैंने जिसके लिए
    त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की

    गहरे भावों के साथ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. त्यजे, जाने कितने ही जीवन
    मैंने जिसके लिए
    त्यजेगा वो भी, एक दिन
    अपनी सांसें मेरे लिए
    तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की
    आखिर सिगरेट जो हूँ मैं!

    रचना जी,
    अस्वीकार है आपका सिगरेट होना।

    दरअस्ल मैं सिगरेट नहीं पीता न। इसलिए।
    धूम्रपाननिषेध पर बढ़िया कविता।

    रचना जी,
    शब्दों की जादूगरी के चलते ,पहले पहल तो हमीं कश लेने लगे थे। धुवां लगा तो होश में आए और खांसने लगे।

    उत्तर देंहटाएं
  25. ...तो ये प्रेमिका सिगरेट है!....बहुत खूब...मजा आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  26. जोर का झटका धीरे से देने की जबरदस्त क्षमता होती है आपकी रचनाओं में उसी का एक और सबूत और तस्वीर भी हमेशा की तरह अनूठी.

    उत्तर देंहटाएं
  27. वाह बेहद खुबसूरत लिखा है आपने ...सन्देश बहुत अच्छा है इस में

    उत्तर देंहटाएं
  28. .

    Rachna ji,
    very inspiring creation ! Congrats !

    " Smoking is injurious for health "
    ..

    उत्तर देंहटाएं
  29. तब होगी पूर्णाहुति मेरे प्रेम की
    आखिर सिगरेट जो हूँ मैं
    प्रेम के साथ कितनी भ्रान्तिया
    हैं !पर लोग भी तो जाने किन किन चीजों को प्यार करते हैं !
    कविता की सार्थकता सिद्ध हो रही है !बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. कि हम चल भी नहीं सकते हैं और वो दौड़े जाते हैं,

    धाराप्रवाह प्रस्तुतियां वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. Rachana mai to tumharee creative soch par pooree tour par fida hoo .......
    abhee bhee USA me hoo.grand child ke sath samay ud raha hai.....next wk london grand daughter ke paas aur fir vaapsee hogee ....... jo kuch choota hai usame mera hee nuksaan hai aise hone nahee dungee.......
    allways with best wishes

    उत्तर देंहटाएं
  33. शायद आज आपको पहली बार पढ़ रही हूँ...
    गज़ब की कल्पना है... वाकई अब तो वो प्रेमिका ही लगने लगेगी...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...