रविवार, 7 मार्च 2010

द्वन्द

द्वन्द

आज आमाशय की तंग गलियों में

जठर का रिसाव रोज़ की अपेक्षा थोडा कम है.

प्राण वायु व कलुषित वायु की कलह से उपजे,

 वायु के बुलबुले 

जठराग्नि को हवा दे रहे हैं.

फलतः मेरु द्रव में मद्धम - मद्धम

स्पंदन की अनुभूति हुई है,
 
जो मस्तिष्क द्रव से मिल,

 मेरु- मस्तिष्क द्रव में,

अनायास ही कोलाहल में परिणित हुआ है,

 और अब मस्तिष्क पटल पर,

कुछ पीली, सफ़ेद तरंगों के

 उद्दीपन का फैलाव,

 शरीर में एक अजीब सी

नवजात हलचल को जन्म दे रहा है,

क्या ये,

किसी घातक रोग की विलक्षणता के लक्षण हैं.

या

किसी के प्रेम के अनुमोदन का ज्वर

और उसकी मौन स्वीकृति की

उदघोषणा से पहले का

मानसिक द्वन्द.



(प्राण वायु - ओक्सीज़न, कलुषित वायु- कार्बन डाई ऑक्साइड, मेरु द्रव-स्पाइनल फ्लुइड, मस्तिष्क द्रव-सेरेब्रल फ्लुइड, मेरु - मस्तिष्क द्रव---सेरेब्रो- स्पाइनल फ्लुइड)








        

37 टिप्‍पणियां:

  1. Wow Incredible! biology and emotions ka unique combination. I had never ever read such kind of poetry earlier...God bless you! keep writing

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाइयालजी को बिंब बना कर लिखी रचना ... अच्छी लगी ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. मानसिक द्वन्द के लिए अनूठे बिम्ब..कमाल..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज कुछ नया नया सा है।
    प्रेम अनुभूति को इस तरह अभिव्यक्त करना --क्या आप बायोलोजी की छात्र रही हैं।
    वैसे जठर का अर्थ नहीं बताया --शायद असिड ?

    बहुत सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. bhavarth samajh aaya shavdarth nahee.........:)
    agalee var se hum jaise south me rahane walo ke liye.
    abhivykti bha gayee..........

    उत्तर देंहटाएं
  6. पाठको की सुबिधा के लिए कुछ बायोलोजिकल टर्म्स अंग्रेजी में भी लिख रही हूँ
    आमाशय = Stomach
    जठर = Bile
    जठराग्नि = Acidity
    प्राण वायु = Oxygen
    कलुषित वायु = Carbon dioxide
    मेरु द्रव-स्पाइनल फ्लुइड, Spinal Fluid
    मस्तिष्क द्रव - Cerebral Fluid
    मेरु - मस्तिष्क द्रव - Cerebrospinal fluid
    उद्दीपन = Stimulus

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज आमाशय की तंग गलियों में

    जठर का रिसाव रोज़ की अपेक्षा थोडा कम है.

    प्राण वायु व कलुषित वायु की कलह से उपजे,

    वायु के बुलबुले

    जठराग्नि को हवा दे रहे हैं.
    bahut shaandaar prastuti ,man ko sparsh karte rahe bhav w shab ,ati sundar likha hai ,mahila divas ki badhai sweekaare .

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतने नये बिम्बों का एक साथ प्रयोग देख कर यह कवि मन प्रसन्न हो गया । ऐसे प्रयोगों का मैं स्वागत करता हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी, ये कविता बहुत ज्ञानवर्धक अहसास से लबरेज है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज आमाशय की तंग गलियों में
    जठर का रिसाव रोज़ की अपेक्षा थोडा कम है.

    ये पंक्तियाँ आज मुझे थोडा गुदगुदा रही है...

    Unique Thoughts और द्वंद्व !

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना मैम
    अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनायें...... !
    बहुत शानदार रचना........बधाई.....
    समृद्ध हिंदी भाषा में लिखी कविता बहुत ही मोहक है

    उत्तर देंहटाएं
  12. arey baap rey itni kalisht hindi...sir k upar se ja rahi he ye biology....lekin end k shabd pyar aur dwand se kuchh kuchh dwand jaga aur english to hindi version bhi padh dala...pata nahi kitna samajh aaya...kya kahu ab???:) :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. clinical lab mein hriday mei upjee
    trangit samvednaaoN ka sooksham avlokan....
    should it be termed as a
    spandan-'culture'-test.....!!
    report should be made available at the disposal of the mind...
    and treatment...
    s.o.s. !

    उत्तर देंहटाएं
  14. रचना जी प्रेम से उपजे मानसिक दुअन्द को शारीरिक बदलावों के बिम्ब से रच्ना घडना शायद ये अद्भुत प्रयोग है। आचँभित हूँ। अमाशय की तंग गलियाँ--- वाह और जठराग्नि, प्राण्वायू, लगता है पूरे शारीरिक क्रिया कलाप ही संवेदनाओं से त्र्स्त है। बधाई अतिउत्तम रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  15. विज्ञान की भाषा में कविता ....कुछ नया प्रयोग .....अच्छा लगा .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ! कौन कहता है कि,
    हिंदी में वैज्ञानिक भाषा प्रयोग नहीं होता है !
    अछूते बिम्बों के प्रयोग ने कविता में ताजगी ला दी है !
    बहुत बहुत बधाई हो !महिला दिवस कि बधाई !!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut shaandaar prastuti ,man ko sparsh karte rahe bhav w shab ,ati sundar likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  18. किसी के प्रेम के अनुमोदन का ज्वर

    और उसकी मौन स्वीकृति की

    उदघोषणा से पहले का

    मानसिक द्वन्द.
    Wah...kya kamal hai!

    उत्तर देंहटाएं
  19. अद्भुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी को सलाम!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी टिप्पणी के लिए आपका आभार....आपने विज्ञानं और प्रेम के कैसे एक धागे में पिरो दिया....??? गजब ....!!!
    ---डिम्पल

    उत्तर देंहटाएं
  21. विज्ञान ज्ञान को कविता में इतनी खूबसूरती से प्रस्तुत कर दिया है कि मैं निशब्द हूँ...
    बहुत ही सुन्दर !
    दो बार पढ़ी/ अर्थ समझा..शब्द कठीन हैं मगर रचना अनूठी बन गयी है..
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर लिखा...बेहतरीन रचना !!
    ______________

    "पाखी की दुनिया" में देखिये "आपका बचा खाना किसी बच्चे की जिंदगी है".

    उत्तर देंहटाएं
  23. अल्ला अल्ला आपके मौजूं चित्र!!!!
    चित्र बाद में खुला

    उत्तर देंहटाएं
  24. जम गए थे जो लफ्ज़ कभी सीने में मेरे,
    उनको बहाने के आज सौ बहाने मिले..
    kya gazab dhaya hai is pooree rachanane! Baar, baar padhneko man karta hai..

    उत्तर देंहटाएं
  25. जो आप मेल न करती तो इस अद्‍भुत रचना(रचना की रचना) से वंचित ही रह जाता मैं। ब्लौग-जगत की एक ये भी अजब विडंबना है कि हम इसमें पत्रिकाओं की तरह पुराने पन्नों को पलट कर कम ही देखते हैं...

    अनूठा प्रयोग है कविता का ये। कम-से-कम मैंने तो इन बिम्बों का इस तरह्से प्रयोग होते नहीं देखा है...यही कवि की मेहनत और लगन भी है कि लीक से हटकर कुछ नया लिखना। जहां तक कुछ टिप्पणिकारों ने हिंदी के जटिल शब्दों के प्रयोग की बाबत बात की है...तो हम एक बचपन से हिंदी मिइडियम स्कूल में पढ़े-लिखे हैं...जीवविज्ञान और वनस्पतिविज्ञान के तमाम सिलेबस इन्हीं शब्दों से अटे पड़े थे।

    एक नये ढ़ंग की कविता के लिये बधाई मैम....शरद कोकास जी ने भी तो कह दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. यह बिलकुल अलग ही चीज है...डॉ हो क्या रचना जी ...???
    :-))

    उत्तर देंहटाएं
  27. वैज्ञानिक शब्दावली(टर्म) का ऐसा विलक्षण प्रयोग शायद ही कोई कर सकता है....वाह...
    भाव भाषा शब्द चयन...सब बेजोड़...बहुत ही सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...