रविवार, 24 अप्रैल 2011

दस्तक

दस्तक

याद है मुझे कहा था मैंने,

जी लूंगी, रह लूंगी अकेले,

पर किसी के मोह पाश में न बंधूगी.

कितने स्थान बदले कितने झूठ बदले.

निश्चिन्त हो गई.

कर जो लिया था इन्द्रियों पर नियंत्रण

अचानक

वज़न घटने लगा, असहज रहने लगी,

दस्तक पर जीने लगी, कुछ महसूस करने लगी.

रोम रोम से बातें करनें लगी.

रुग्ण देह ले कर फिरने लगी.

आखिर कब तक बचती.

हार गयी तुम्हारे प्रेम के,
 
रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.

ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,

तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.

अब आ भी जाओ

बचा लो मुझे

सिर्फ अपने लिए.

60 टिप्‍पणियां:

  1. ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.
    अब आ भी जाओ
    बचा लो मुझे
    सिर्फ अपने लिए.

    जीवन की अनुभूतियों को बहुत सजगता से अभिव्यक्त किया है आपने ..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. वज़न घटने लगा, असहज रहने लगी,
    दस्तक पर जीने लगी, कुछ महसूस करने लगी.
    kab aaoge ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. विकिरण का प्रभाव जाता नहीं ..
    बहुत अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut sunder abhivykti.

    kuch hai jispar apna niyantran nahee :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर आहट पर ये लगता है कि तुम हो..साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Chahe jahaan bhi chhupo ishq le hi aayega.. jitna bhi na na karo ishq pa hi jayega... sach ko ek naye angle se dekhti ye rachna bhi behad pasand aayi :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सशक्त एवं भावपुर्ण रचना.... सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ...बहुत खूब। खुद से भागना हमेशा छलावा ही सिद्ध हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Weight loss ki baat sabse badhiya lagi...Pyaar ka radioactive effect saaf nazar aa raha hai nazm mein....aapki nazm radiate hoka ham par to asar kar gai :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (25-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपके लेखन में मैं एक विशेषता पा रहा हूँ, वह यह है की आप अपनी रचना में प्रोद्योगिकी, विज्ञान तकनीकी आदि बिम्बों को बखूबी जोड़ लेती हैं इसीलिए आपकी रचना अपनी एक खास पहचान सफलतापूर्वक बना लेती है. इस खूबसूरत रचना में भी यही बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक सशक्त अभिव्यक्ति। मन की नदी का निष्कर्ष।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने जीवन की अनुभूतियों को बहुत सजगता से अभिव्यक्त किया है|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रेम बिना जीवन सूना , ये पागल प्रेमी बोले । के आजा तेरी याद आई ---
    इस गाने की याद आ गई । बहुत सुन्दर रचना के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. नवीन विम्ब के साथ आपकी यह कविता वास्तव में मन में दस्तक दे रही है... विकिरण का विम्ब सर्वथा नवीन है...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर, भावपूर्ण कविता रचना जी। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  17. स्तब्ध कर देने वाली रचना।
    बस इतना ही कहूंगा ....

    अब तो अक्सर नज़र आ जाता है दिल आंखों में
    मैं न कहता था कि पानी है दबाए रखिए
    कौन जाने कि वो कब राह इधर भूल पड़े
    अपनी उम्मीद की शम्‍ओं को जलाए रखिए

    उत्तर देंहटाएं
  18. हार गयी तुम्हारे प्रेम के,
    रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.
    ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए....


    आंतरिक पीड़ा की सहज अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक प्रेसी के दिल की हलचल को दर्शाती सुंदर रचना, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. यह विकिरण दिखता नहीं,बींध देता है और इस बिंधे ह्रदय से निकली एक सशक्त कविता है..

    उत्तर देंहटाएं
  21. बचा लो मुझे सिर्फ अपने लिए ...
    इन्तजार को एक बहाना दे दिया ...
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  22. यह कुछ अलग सी लगी रचना ...शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी विज्ञान के प्रति प्रीत भी कुछ कम नहीं है, अकेला तो परमात्मा भी घबरा गया तभी तो रच डाला उसने यह प्रपंच !

    उत्तर देंहटाएं
  24. दस्तक पर जीना और कुछ महसूस करना रुग्ण देह, रेडियोधर्मी तत्व, विकिरणों से छलनी देह। , विरह विज्ञान और वेदना साहित्य का सम्मिश्रण

    उत्तर देंहटाएं
  25. आखिर कब तक बचती.
    हार गयी तुम्हारे प्रेम के,
    रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.

    ...लाज़वाब अभिव्यक्ति...इंतज़ार के पलों की वेदना का बहुत सशक्त चित्रण..

    उत्तर देंहटाएं
  26. बचा लो मुझे
    सिर्फ अपने लिए.

    बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.
    अब आ भी जाओ
    बचा लो मुझे
    सिर्फ अपने लिए
    umeed ko kabhi nahi chhodna chahte yahi wajah hai ki bachane ke prayas me lage rahte hai ,shayad tabhi jee bhi pate hai ,sundar rachna .

    उत्तर देंहटाएं
  28. सशक्त एवं भावपुर्ण रचना.... सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बड़ी खूबसुरती से आपने तो प्रेम के साइन और सिमटम भी डिस्क्राइब कर दिए ..बड़ी यथार्त और भावुक कविता बनी... बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  30. apki rachna padh kar ek sher yaad aaya...

    aapki yaad me ye haal banaye baithe hain.
    aapki jagah mobile ko sine se lagaye baithe hain.


    bahut sunder abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  31. कविता में नए प्रकार का बिम्ब का प्रयोग उसे और प्रभाशाली बना रहा है. चर्चा मंच के माध्यम से आप तक पहुचने का मौका मिला.

    उत्तर देंहटाएं
  32. ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.
    अब आ भी जाओ
    बचा लो मुझे
    सिर्फ अपने लिए.
    atyant prabhavi panktiya
    sunder
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुँदर बिम्बों वाली कविता , प्रेम की भौतिकी पढ़ा गयी .

    उत्तर देंहटाएं
  34. आंतरिक मनोभावों की बेहतरीन अभिव्यक्ति...

    धन्यवाद आपका, मेरे ब्लाग नजरिया को पसन्द कर उसे फालो करने के लिये । आभार सहित...

    होनहार

    उत्तर देंहटाएं
  35. प्रेम के रेडियोधर्मी तत्व
    अद्भुत

    उत्तर देंहटाएं
  36. हार गयी तुम्हारे प्रेम के,
    रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.
    ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.

    बहुत गहन बात ...मन की पीड़ा को बड़े मौलिक अंदाज़ में लिखा है ....सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  37. हार गयी तुम्हारे प्रेम के,
    रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.
    ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए....

    बहुत ही सशक्त एवं भावपुर्ण रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत सुन्दर रचना ...बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  39. ज़बरदस्त भावनाओं से लबरेज़,स्तब्ध कर देने वाली प्यारी काव्यात्मक अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  40. ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए....
    वाह बहुत सुन्दर बिम्ब। भावमय सुन्दर रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  41. प्रेम में विरह की पराकाष्ठा का भाव पूर्ण चित्रण करती ....आकुल मन की व्याकुल रचना

    उत्तर देंहटाएं
  42. वहा वहा क्या कहे आपके हर शब्द के बारे में जितनी आपकी तारीफ की जाये उतनी कम होगी
    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अपने अपना कीमती वक़्त मेरे लिए निकला इस के लिए आपको बहुत बहुत धन्वाद देना चाहुगा में आपको
    बस शिकायत है तो १ की आप अभी तक मेरे ब्लॉग में सम्लित नहीं हुए और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था
    अब मैं आशा करता हु की आगे मुझे आप शिकायत का मोका नहीं देगे
    आपका मित्र दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  43. वहा वहा क्या कहे आपके हर शब्द के बारे में जितनी आपकी तारीफ की जाये उतनी कम होगी
    आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अपने अपना कीमती वक़्त मेरे लिए निकला इस के लिए आपको बहुत बहुत धन्वाद देना चाहुगा में आपको
    बस शिकायत है तो १ की आप अभी तक मेरे ब्लॉग में सम्लित नहीं हुए और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था
    अब मैं आशा करता हु की आगे मुझे आप शिकायत का मोका नहीं देगे
    आपका मित्र दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  44. याद है मुझे कहा था मैंने,
    जी लूंगी, रह लूंगी अकेले,
    पर किसी के मोह पाश में न बंधूगी. ....

    दिल के हाथों कई बार दिमाग हार जाता है ....

    आपके नए प्रयोग रचना में रोचकता भर देते हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  45. रचना जी प्रेम रेडियोधर्मी होता है ये मुझे पता न था ... खैर अब तो लगता है बिलकुल परमाणु उर्जा संयंत्र के अंदर घुस गया हूँ ...:)
    बढ़िया नए बिम्ब ... अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  46. याद है मुझे कहा था मैंने,
    जी लूंगी, रह लूंगी अकेले,
    पर किसी के मोह पाश में न बंधूगी. ....


    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  47. पहली बार आपके पोस्ट पे आया अच्छा लगा..... बहुत सुन्दर विचार..

    आपको मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  48. पहली बार आपके पोस्ट पे आया अच्छा लगा..... बहुत सुन्दर विचार..

    आपको मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  49. पहली बार आपके पोस्ट पे आया अच्छा लगा..... बहुत सुन्दर विचार..

    आपको मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  50. पहली बार आपके पोस्ट पे आया अच्छा लगा..... बहुत सुन्दर विचार..

    आपको मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  51. ek sunder rachana............

    jai baba banaras.............................

    उत्तर देंहटाएं
  52. रचना जी आपकी इस रचना की जितनी तारीफ की जाये कम होगी.. बहुत शानदार भाव और सुन्दर शब्द...

    दुनाली पर देखें
    चलने की ख्वाहिश...

    उत्तर देंहटाएं
  53. rachna ji
    bilkul saty likha hai aapne ham dambh to bharte hain kabhi -kabhi is baat ka par ek vaqt aisa hi aatahai jablagta hai ki apne priy ke paas lout jaao.
    ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.
    अब आ भी जाओ
    बचा लो मुझे
    सिर्फ अपने लिए.
    bahut hi samvedan sheel panktiyan yatharta purn.
    bahut bahut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  54. आखिर कब तक बचती.
    हार गयी तुम्हारे प्रेम के, रेडिओ धर्मी तत्वों के आगे.
    ढूंढ़ रही हूँ तुम्हें इत उत,
    तुम्हारे विकिरणों से छलनी देह लिए.

    वाह! निराला अंदाज समर्पण का .
    रेडियो धर्मिता प्रेम में भी होगी मालूम न था.
    इसीलिए कहतें है शायद
    'प्रेम का रोग बड़ा बुरा '

    उत्तर देंहटाएं
  55. उफ़ कितनी शिद्दत है इस चाहत में समर्पण और चाहत की इंतिहा को समेटा है चंद शब्दों में ऐसा लगता है कहीं ना कहीं जैसे रचनाकार ने अपने आप को शब्दों में पिरो दिया है ..

    उत्तर देंहटाएं
  56. बहुत अच्छी रचना ..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...