रविवार, 27 फ़रवरी 2011

आहट

आहट
हर दिन की शुरुआत होती है,
आवाजों से...
घंटी की घनघनाहट...
कूड़े वाला, ढूधवाला, गाड़ी साफ करने वाला.   
काम वाली की आहट.
बर्तनों की खनखनाहट...
पास से गुजरती रेलगाड़ी 
और उसकी झनझनाहट...
बारह बजते बजते
शांत सा होने लगता है सब कुछ, 
फिर रसोई में 
कुकर की सनसनाहट...

मिक्सी की मिमियाहट...

चकले बेलन की चिचियाहट...

तीन बजे जब शरीर पलंग को छूता है   
शरीर के अंगों से आती  थरथराहट...
अनसुनी कर देती हूँ 
फिर शाम पार्क से
आती हवा की सरसराहट...
क्रिकेट खेलते बच्चों की किटकिटाहट...    
सैर करती महिलाओं की खिलखिलाहट...
लोरी गाती माँ की गुनगुनाहट...
कितना शोर, कितनी आवाजें आती हैं 
इस घर में, सारा दिन,  सब कहते हैं
रात को जब बिस्तर से लगती हूँ 
आती हैं मन से तरह तरह की आवाजें 
सुनती हूँ, समझती हूँ, समझाती हूँ,
सहलाती हूँ, पुचकारती हूँ और चुप करा देती हूँ.
क्योंकि  माहिर हूँ मैं इस काम में,
पर कभी जिद्द पर अड़ जाती हैं. 
कुछ आवाजें
आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
फैल जाती हैं पूरे कमरे में,
न जाने घर में
किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं
ये आवाजें  मेरे  सिवाय ?

52 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय रचना दीक्षित जी
    नमस्कार !
    मनोभावों को व्यक्त करती
    बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति.दिल को स्पर्श करती हुई
    शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर दिन ऐसा ही होता होता है हर गृहणी के लिए उसके कामो का बहुत ही सुन्दरता से अभिवयक्त किया है आपने
    सुन्दर बिम्बों और प्रतिमानों से सुसज्जित रचना मन को मुग्ध कर गयी ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  3. "न जाने घर में किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं ये आवाजें मेरे सिवाय?"

    संवेदनशील हृदय की व्यथा की जीवंत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. आवाजें ! जो सुन सकते हैं वो खुशकिस्मत हैं !
    बहुत ही अच्छी , सरल और बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति ! शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  5. subhah hone waale shor ko bahut khoob darshaya hai ,badhai sundar rachna ke liye ,sabhi itne vyast ho jate hai ki is shor ke aadi ho jaate hai aur ansuna kar dete hai ,kyonki kaam ko taala nahi ja sakta .sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आवाजों के बहाने पूरी दिनचर्या सुना दी रचना जी ।
    हम भारतीय भाग्यशाली हैं कि यहाँ ये आवाजें सुनाई तो देती हैं । वरना विकसित देशों में तरस जाते हैं लोग चिड़ियों की चहचाहट सुनने के लिए ।

    अंत में अंतर्मन की आवाज़ों में संवेदना दिखाई दे रही है । सच कहा , इन्हें सुनने वाला अपने सिवाय कोई नहीं होता ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उत्तम.
    तिवारी जी बहुत ही सही लिखा है.
    आप खुशकिस्मत हैं जो ये आवाजें सुन सकते है.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. संवेदनशील विषय-वस्तु पर आधारित भावनाएं. अच्छी कविता . आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूक्ष्म अवलोकनों से भरी भावपूरित कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही आवाजें जीवन का कितन अहम् हिस्सा हैं..... आपने इन्हें सुन्दरता से समेटा ..... जीवंत रचना ... सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  11. "न जाने घर में किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं ये आवाजें मेरे सिवाय?"

    इन आवाज़ों को सुनने के लिये दिल चाहिये होता है और वो आजकल कहाँ मिलता है?
    एक बेहद खूबसूरत मन को छूती अभिव्यक्ति बहुत पसन्द आई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय रचना दीक्षित जी नमस्कार,

    आवाजों के बहाने पूरी दिनचर्या सुना दी

    sundar aahat

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं पूरे कमरे में,
    न जाने घर में
    किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं
    ये आवाजें मेरे सिवाय ?
    sunna nahi chahta koi , sunker ansuna andekha kerte hain

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर संवेदनशील रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  16. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं पूरे कमरे में
    न जाने घर में
    किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं
    ये आवाजें मेरे सिवाय ?

    कविता में मन-हृदय को प्रभावित करने की क्षमता है।
    अच्छी रचना...शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  17. संवेदनशीलता परिपूर्ण रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब , बढ़िया कल्पना शीलता के लिए शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  19. Yahee aawazen to zindagee kaa astitv jatatee rahtee hain!Aapki rachana padhte hue,saaree aawaazen sunayi deen!

    उत्तर देंहटाएं
  20. Har din dhero aawazo me khud ki awaaz sune ka waqt nahi milta aur raat k sannate me ye awaazein behad mukhar ho uthti hain.. jagaye rakhti hain... agar koi sunne wala ho to baatein ban jati hain aur na ho to kavita.. behad sundar rachna Rachna ji :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...मन की व्यथा का बहुत सजीव चित्रण ....
    मेरी सुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं पूरे कमरे में,
    न जाने घर में
    किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं
    ये आवाजें मेरे सिवाय ? .....

    हृदयस्पर्शी पंक्तियां हैं.... अच्छी कविता के लिये बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. रचना जी!
    कुछ आवाज़ें ज़ुबान से नहीं आँखों से अयाँ होती हैं.. कुछ आँसुओं की भाषा में बात करती हैं.. अंतिम पंक्तियों ने दिल को छुआ है!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं पूरे कमरे में.....

    सुन्दर प्रयोग.....
    संवेदनशील अभिव्यक्ति.....आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही अच्छी , सरल और बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  26. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते
    बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं
    पूरे कमरे में,
    न जाने घर में
    किसी को
    क्यों नहीं सुनाई देती हैं
    ये आवाजें मेरे सिवाय

    पूरी दिनचर्या के बाद बहुत ही संवेदनशील पंक्तियाँ कह दीं ... मैं बी उन आवाजों को सुनती हूँ जो केवल मुझे सुनाई देती हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, दिल को छू गई,

    उत्तर देंहटाएं
  28. रचना माँ,
    नमस्ते!
    सबसे पहले तो ब्लॉग का हरा-भरा कलेवर बहुत अच्छा लगा....
    दिन वाली सारी आवाजें मुझे भी सुनायी देती हैं....
    रात वाली तो आप कह ही चुकी हो, के आपके सिवाय किसी को सुनाई नहीं देती!!!
    हा हा हा...
    आशीष
    ---
    लम्हा!!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. आँखों के रास्ते आने वाली आवाजें क्यों सुनायी नहीं देती सबको मेरे सिवाय ...
    इतनी सारी शोरगुल वाली आवाज़ों में यह धीमी सी फुसफुसाहट कौन सुनता है या कौन सुनना चाहता है ...या सुनकर अनसुनी हो जाती है ...कौन जाने

    लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..मनोभावों को व्यक्त करती
    हृदयस्पर्शी..शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  31. दिल की आवाज़ें सुनना सब के बस की बात नही होती इन्सान के पास तो अपनी बात आप सुनने की भी फुरसत नही फिर किसी के दिल की आवाज कैसे सुनेगा? अच्छी रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  32. rachna ji
    bahut hi sunadar dhang se aapne bhor ki sgbugahat.sach ye kewal ham mahi laye hi sun sakti hai .din bhar bijjy rahne ke bavjuud.
    bahut hi umda prastuti
    badhai--------
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  33. aur han abhi bhi swasthy sahi nahi hai tabhi der se hi sabko commet kar pa rahi hun.
    aapne dil se mere tabiyat ke baare me puchha bahut hi achha laga.
    dhanyvaad -dil se-----
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  34. सरल सुंदर व प्रभावी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  35. man ki aawazen kab sunti hain sbko

    inhen sunne ke lie sine men dil chahie .aap sunti hain tbhi to likha jata hai
    achchhi kavita
    bdhaai ho

    उत्तर देंहटाएं
  36. इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति !...मन मोह लिया !...लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं
  37. एक गृहणी की दिनचर्या, आवाजों के माध्यम से दिन भर की गतिविधियाँ, और नारी मन की ऊब, खीझ और विचलन को बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति दी है ! बहुत ही खूबसूरत और प्रभावशाली रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  38. हम आभारी हैं
    उन आवाजों के
    जो किसी को सुनाई नहीं देती
    बस शब्द बन
    बिखर जाती हैं
    ब्लॉग पर
    जिसे पढ़ते हैं सभी
    चाव से
    कहते हैं..
    वाह!
    कितनी प्यारी कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  39. रचना जी, इतनी सुन्दर व भावात्मक रचना हेतु साधुवाद । यह आहच तो तभी जगती है जब विचार शून्य हो जाते हैं और हमारे अवचेतन की सूक्ष्म दृष्टि जागृत हो जाय ।

    उत्तर देंहटाएं
  40. ये आवाज़ें थीं या कि दिनचर्या थीं .
    सोंच रहा हूँ अब तक आख़िर ये क्या थीं.

    उत्तर देंहटाएं
  41. रोजमर्रा का संगीत - आहट.

    उत्तर देंहटाएं
  42. ओह, क्या कविता है. झकझोड़ दी पूरे चिंतन प्रक्रिया को. कविता के अंतिम परिच्छेद की गहराई और भावनाओं का सुन्दर-सजीव चित्रण मन को कमरे में फैली उस अनुगूँज से सीधे जोड़ देता है. वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  43. भावपूर्ण अभिव्यक्ति..बहुत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  44. भावपूर्ण -मगर मुझे तो मिक्सी की आवाज मिमियाती नहीं घरघराती लगती है :)

    उत्तर देंहटाएं
  45. कुछ आवाजें
    आँखों के रस्ते बाहर आती हैं
    फैल जाती हैं पूरे कमरे में,
    न जाने घर में
    किसी को क्यों नहीं सुनाई देती हैं
    ये आवाजें मेरे सिवाय ?

    samvedansheela ki hadd ko darshaya aapne..tabhi to khankhanahat, kharkharahat, chichiahat, kitkitahat...sabko saket liya apne...sabdo me..:)

    उत्तर देंहटाएं
  46. संवेदनशील विषय-वस्तु पर आधारित भावनाएं. अच्छी कविता . आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  47. रचना जी,
    बेहद खूबसूरत,दिल को स्पर्श करती कविता.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...