मंगलवार, 18 मई 2010

लक्ष्मण रेखा

लक्ष्मण रेखा




मेरे लक्ष्मण  मस्तिष्क ने
मेरे चहुँ  ओर
खींच रखे हैं
कुछ रंगीन टेढ़े - मेढ़े से घेरे.

मेरे रावण मन की
लोलुप निगाहों ने
बार बार प्रलोभन भी दिया.

शायद, मैं 
लखन के घर की कैद
से बाहर आ भी गई होती.

पर दशानन मन के
अस्फुट संवाद
घुलने लगे कानों में.

कौन बचायेगा इन्हें
राम...................???
आज के युग की
लुप्तप्राय प्रजाति !!!

कभी मन में
राम बसा करते थे
पर अब सिर्फ मैं !!!

एक मौन अट्टहास
गुंजायमान कर गया
दसों दिशाओं  को

कंपायमान हो उठा
रोम रोम
मेरी अंतर्निहित रघुबर भावनाएं
एक बार फिर हतोत्साहित हो उठी.

सच ही तो है,
आज
भावनाओ  के लिए
जगह ही कहाँ  है...???

और सीता....!!!!
कहीं अगर कोई होगी भी वो
तो कहीं वनवास, कहीं अग्निपरीक्षा दे
राख का ढेर हो चुकी होगी.

मैं अपनी लक्ष्मण रेखाओं
के घेरे मे खुश हूँ.

मै जान चुकी हूँ
मन मस्त्षिक और भावनाओं  


की जंग मे
मस्तिष्क की रेखाओं
के पास ही है
सुरक्षाकवच.



38 टिप्‍पणियां:

  1. आज के युग की
    लुप्तप्राय प्रजाति !!!
    अच्छा ही हुआ जो लुप्त हो गई अन्यथा ना जाने कितनी और सीताओं की अग्निपरीक्षा लेते

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सांस में पढता गया , बहुत बढ़िया बन पड़ी है कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "पुरातन सन्दर्भों का बेहतरीन उपयोग;सामयिक भी"

    उत्तर देंहटाएं
  4. और सीता....!!!!
    कहीं अगर कोई होगी भी वो
    तो कहीं वनवास, कहीं अग्निपरीक्षा दे
    राख का ढेर हो चुकी होगी.
    Kitna saty hai!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस रचना पर " रचना " को वाह...

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.....सारे रूपक सटीक..

    सीता के रूप में नारी अग्निपरीक्षा ही देती आई है...

    अच्छा है मस्तिष्क की रेखाओं से बाँध रखा है मन और भावनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  6. waah rachna ji kya khub kaha hai aapne...
    bahut khub....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर अभिनव उपमाएं ली हुई कविता ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता दिल को छू जाती है. बदलते युग सन्दर्भ मे लक्ष्मण रेखा नारी को खुद ही खीचनी होगी क्योकि खतरा राम से भी है और रावन से भी.
    सार्थल लेखन को बढावा दे और ऊल जुलूल पोस्टो पर प्रतिक्रिया से बचे.
    सादर
    हरि शर्मा
    http://hariprasadsharma.blogspot.com/
    http://koideewanakahatahai.blogspot.com/
    http://sharatkenaareecharitra.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. उम्दा प्रस्तुती ,सराहनीय /

    उत्तर देंहटाएं
  10. waah adbhut...laksman raavan sab hai raam hi vilupt ho gaye...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच ही तो है,
    आज
    भावनाओ के लिए
    जगह ही कहाँ है...???

    और सीता....!!!!
    कहीं अगर कोई होगी भी वो
    तो कहीं वनवास, कहीं अग्निपरीक्षा दे
    राख का ढेर हो चुकी होगी.



    लाजवाब पंक्तियाँ .......पूर्ण रचना बहुत ही बेहतरीन .

    उत्तर देंहटाएं
  12. Laxman rekha ki kaid me rehna hi shreyaskar hai...sundar kavita

    उत्तर देंहटाएं
  13. "कौन बचायेगा इन्हें
    राम...................???
    आज के युग की
    लुप्तप्राय प्रजाति"

    waah kya prwaah tha bhaavnaao ka...
    sahi kaha ji!
    dilip bhai se sahmat...

    kunwar ji,

    उत्तर देंहटाएं
  14. नमस्कार॥

    मन में राम बसे हैं सबके,

    मर्यादा लक्ष्मण रेखा है॥

    जिसने भी ये रेखा लांघी,

    उसने इक रावण देखा है॥



    सुन्दर कविता...

    दीपक शुक्ल...

    उत्तर देंहटाएं
  15. Raamaayan ke paatron ko rachna ka mool bana kar .. bahut hi gahri rachna hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. "मैं अपनी लक्ष्मण रेखाओं के घेरे मे खुश हूँ.
    मै जान चुकी हूँ मन मस्त्षिक और भावनाओं की जंग मे मस्तिष्क की रेखाओं के पास ही है सुरक्षाकवच."
    puri kavita badhiy bahi hain.. sabhi paatron se ek naya vimb ban raha hai... aur anitm panktiya naari man ke samarpan bhav ko sudridh karti hui... aapki anya rachaaon ke tarah hi sasakt !

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी रचनाएँ स्तरीय व साहित्यिक निधि हैं । अन्तर्द्वन्द व अन्तरसंवाद की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब । भावनाओं की अत्यंत खूबसूरत अभिव्यक्ति ।
    बेशक , आपकी रचनाओं का ज़वाब नहीं जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. और सीता....!!!!
    कहीं अगर कोई होगी भी वो
    तो कहीं वनवास, कहीं अग्निपरीक्षा दे
    राख का ढेर हो चुकी होगी.
    ..... ....भावपूर्ण यथार्थ चित्रण के लिए लिए बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुंदर रचना के लिए फिर से बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  21. अब समय आ रहा है जब यह स्थिति बदल सकती है। सबको साझा प्रयास करना होगा। ऐसी ही जागरूक करने वाली कविता लिखॆं। यथास्थितिवाद अब पुरानी बात हो गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. मन में रावण...
    मन सुनता दशानन मन की बात...!

    उत्तर देंहटाएं
  23. मै जान चुकी हूँ
    मन मस्त्षिक और भावनाओं
    की जंग मे
    मस्तिष्क की रेखाओं
    के पास ही है
    सुरक्षाकवच.
    बहुत सुन्दर कविता. कमाल की उपमाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है, सारे रूपक का सटीक प्रयोग किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  25. ye aaj ki ourt ki hi abhivykti ho skti hai jo khul ke bolti hai .apni asmita ko bchaye our bnaye rkhne ke liye aisi hi soch apekshit hai

    उत्तर देंहटाएं
  26. -----------------------------------
    mere blog par meri nayi kavita,
    हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
    jaroor aayein...
    aapki pratikriya ka intzaar rahega...
    regards..
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरुणेश मिश्र ने bahut sahi कहा…

    " आपकी रचनाएँ स्तरीय व साहित्यिक निधि हैं । अन्तर्द्वन्द व अन्तरसंवाद की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  30. सच ही तो है,आज भावनाओ के लिए जगह ही कहाँ है...???और सीता....!!!!कहीं अगर कोई होगी भी वोतो कहीं वनवास, कहीं अग्निपरीक्षा देराख का ढेर हो चुकी होगी.....सुंदर भाव

    रचना जी आज ये युग की रामायण की एक झलकी प्रस्तुत की आपने आज की सच्चाई यही हैं बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना पढ़ने को मिला...बहुत बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपकी यह रचना मंगलवार की चर्चा में शामिल की है चर्चा मंच पर ....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  32. मै जान चुकी हूँ
    मन मस्त्षिक और भावनाओं
    की जंग मे
    मस्तिष्क की रेखाओं
    के पास ही है
    सुरक्षाकवच.
    behtrin upma hai jo rachna ki sundarata badha gayi .abhi bahar hoon is karan nahi baith pa rahi .

    उत्तर देंहटाएं
  33. लक्ष्मण मस्तिष्क
    रावण मन
    राम...................???
    लुप्तप्राय प्रजाति !!!
    और सीता....!!!!
    राख का ढेर हो चुकी होगी.
    मैं अपनी लक्ष्मण रेखाओं
    के घेरे मे खुश हूँ.

    मै जान चुकी हूँ
    मन मस्त्षिक और भावनाओं
    की जंग मे
    मस्तिष्क की रेखाओं
    के पास ही है
    सुरक्षाकवच.


    Nice depiction

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती...इतनी भावपूर्ण कवितायें लिखने के लिए आप को बधाई...शब्द शब्द दिल में उतर गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  35. सच ही तो है,
    आज
    भावनाओ के लिए
    जगह ही कहाँ है...???

    अक्षरशः सत्य रचना जी.... आज के समय में भावनाओं के लिए कोई जगह नहीं है. भावुकता तो बस कोरा पागलपन है

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...