रविवार, 2 मई 2010

जलकुम्भी


जलकुम्भी





सड़क के किनारे

कच्ची मिटटी में

ठहरे पानी और नमी में

फैली ऐ जलकुम्भी !

पसर जाओ, मेरी आँखों में भी.

फैलाओ  

हरियाली का छद्मावरण.

सोख लो नमी.

इसके पहले कि  इन आँखों  से,

 सीली दीवारों से झरती

 चूने की पपड़ी की तरह,

वो सब कुछ झर जाये,

जिसे बस अपने तक ही,

सीमित रखने का प्रण लिया था कभी,

और दिखने लगे 

पपड़ी झरने के बाद के,

वो बदनुमा धब्बे.

न होने दो अहसास किसी को

यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.

जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण

के प्रदूषण के चलते.

सूख कर,

खारे पानी की,

चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है.



37 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी लगी यह कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह , यौवन और हरियाली !
    पढ़कर दिल बाग़ बाग़ हो गया ।
    सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! बहुत खूब ...!
    गहरे भावों की अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. Hi..
    Aankhon main Jalkumbhi ka chhdmavaran..
    Nami bhale saari har le..
    Par aankhon ke sapne aakhir..jalkumbhi se nahi chhipen..

    Rachna ji ki rachna adwiteeya hai..

    Shubhkamnayen..

    DEEPAK..

    उत्तर देंहटाएं
  5. "न होने दो अहसास किसी को
    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण
    के प्रदूषण के चलते.
    सूख कर,
    खारे पानी की,
    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है."
    कहाँ से शुरू कहाँ पर ख़त्म - गहरा संदेश - आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. पसर जाओ, मेरी आँखों में भी.

    फैलाओ

    हरियाली का छद्मावरण.
    bahut achhi lagi

    उत्तर देंहटाएं
  7. jwalant mudda uthaya...vidhva dharti ab bas marne ko hi hai...

    उत्तर देंहटाएं
  8. हरियाली का छद्मावरण.
    सोख लो नमी.!!!
    छद्म आवरण की पहचान करती हुई यह कविता अपने आप में बेजोड़ है !शुभ कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut khoob......shayad ham sab ko is jalkumbhi ki zaroorat hai

    उत्तर देंहटाएं
  10. न होने दो अहसास किसी को
    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण
    के प्रदूषण के चलते.

    यथार्थ को कितने सुन्दर शब्दों में बाँधा है...बहुत खूब...जलकुम्भी से तुलना ...अद्भुत...बहुत पसंद आई आपकी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sunder kavita... hum sab jalkumbhi hi to hai... jiwan thehre paani ki tarah ho gaya hai...

    उत्तर देंहटाएं
  12. पसर जाओ, मेरी आँखों में भी.
    फैलाओ
    हरियाली का छद्मावरण.
    सोख लो नमी.

    क्षद्म हरीतिमा के बाद का सूखापन
    जलकुम्भी का चरित्र ही कुछ ऐसा ही है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या कविता लिख दी रचना जी ,छिद्रान्वेषण का तो जवाब नहीं
    सीधे दिल को छू गयी
    --
    www.sahitya.merasamast.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपने नाम 'रचना' को परिपूर्णता देती है आपकी रचनाये. बहुत अच्छी लगी जल कुम्भी की तुलना. दिल को छू गयी आपकी रचना. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सीली दीवारों से झरती
    चूने की पपड़ी की तरह,
    वो सब कुछ झर जाये,
    जिसे बस अपने तक ही,
    सीमित रखने का प्रण लिया था कभी,

    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण
    के प्रदूषण के चलते.
    सूख कर,
    खारे पानी की,
    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है.

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..आक्रोश भी, प्रतिवाद भी ,उपालंभ भी

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत उम्दा रचना.

    मजा आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  17. ना एहसास होने दो किसी को ..
    लांछन , दोषारोपण, छिद्रान्वेषण के चलते ...
    खारे पानी की बूंदों में सिमट गया है ...
    पसर जाओ जलकुम्भी मेरी आँखों में
    हरियाली के छद्म आवरण में ...

    मन को भीतर तक छो गयी ...
    बहुत ही सुन्दर कविता ...सेव कर लिया है पेज ही ...बहुत बढ़िया ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह!

    कही से कुछ भी सोचे कवी-मन,

    वहीँ से भाव बहने लगेंगे शब्द बन,

    बहुत बढ़िया जी,

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  19. सीमित रखने का प्रण लिया था कभी,
    और दिखने लगे
    पपड़ी झरने के बाद के,
    वो बदनुमा धब्बे.
    न होने दो अहसास किसी को
    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    बहुत ही गहरी संवेदना है,इन पंक्तियों में...सोचने को मजबूर करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण

    के प्रदूषण के चलते.

    सूख कर,

    खारे पानी की,

    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है.

    बहुत खूब .....

    रचना जी जल कुभी की तस्वीर देख हमें आज पता चला इसे जलकुम्भी कहते हैं ...चलिए तस्वीर लगाने का ये फायदा तो हुआ .....

    और आज क्या बात है ये उदासी क्यों ......
    रचना बहुत ही अच्छी है .....

    उत्तर देंहटाएं
  21. गहरे भावों की अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  22. नयनों के खारे जल की एक अनोखी व्यख्या प्रस्तुत की है आपने... जलकुम्भी से किया गया आग्रह सीता की अग्निपरीक्षा की व्यथा का वर्णन करता है...बहुत सुंदर!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह! यह कविता तो बहुत अच्छी है..जलकुम्भी का बिम्ब, कविता के भाव से इतना सटीक बैठ रहा है कि क्या कहने..ओह, हरियाली का छद्मावरण भी कितना जरूरी होता है जीवन में..!
    --बहुत-बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. एक कवि ह्रदय द्वारा दर्द की सुंदर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  25. BAHUT KHUB...APKI RACHNA BHI AUR AKPE APNE BARE ME LIKHA VAKTAVYA BHI.

    उत्तर देंहटाएं
  26. aapki rachna ki baat hi anokhi hai har baar naye andaaz me ,bha gayi tapti garmi me ye sheetalata pradan karti hui rachna .

    उत्तर देंहटाएं
  27. रचना जी,
    नमस्ते!
    आपकी पोस्ट पढ़ के कई बार मोडर्न आर्ट की फीलिंग आती है!
    आपको पता है, मेरी समझ भी कम है, कविता भी कम ही समझ आती है!
    हा हा हा
    साधुवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  28. जल कुंभी के माध्यम से गहरी बात कह दी है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. "न होने दो अहसास किसी को
    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण
    के प्रदूषण के चलते.
    सूख कर,
    खारे पानी की,
    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है."

    आपके लेखन का जवाब नहीं ...इतने गहरे भाव और सबसे जुदा अंदाज -ए-बयां ..माँ सरस्वती का आशीर्वाद है

    उत्तर देंहटाएं
  30. यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.

    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण

    के प्रदूषण के चलते.

    सूख कर,

    खारे पानी की,

    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है.


    क्या खूब प्रतीक गढ़ दिए आपने.........!
    कुछ भी कह पाने में असमर्थ हूँ......!

    उत्तर देंहटाएं
  31. सीली दीवारों से झरती
    चूने की पपड़ी की तरह,
    वो सब कुछ झर जाये,
    जिसे बस अपने तक ही,
    सीमित रखने का प्रण लिया था कभी,

    यहाँ भी कभी यौवन से परिपूर्ण पर्यावरण था.
    जो लांछन, दोषारोपण और छिद्रान्वेषण
    के प्रदूषण के चलते.
    सूख कर,
    खारे पानी की,
    चंद बूंदों में सिमट कर रह गया है.
    aapne to is rachna ke jariye bahut hi gahari abhivykti kesaath apne naam ko sarthakta de di hai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  32. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...