रविवार, 18 अप्रैल 2010

राजनीति

राजनीति





राजनीति मेरे रग रग में बसी है

लूट, खसोट, सेंधमारी और क़त्ल करवाए मैंने.

फिर उन्हीं  के आशियाने भी बसवाये मैंने.

हर राजनीतिज्ञ की तरह  अपने इर्द गिर्द,

अभेद्य सुरक्षा आवरण भी रचाए मैंने.

हर सुरक्षा चूक की तरह,

यहाँ भी एक चूक हो गयी.

मेरे जीवन की सबसे बड़ी भूल हो गयी.

करवाती थी, लोगो से, लोगो के लिए, जो मैं.

अपने लिए अपने आप ही कर बैठी वो मैं.

तख्ता पलट गया मेरा.

मोहल्ले की संसद में मजबूर हो गयी मैं.

आम राजनेता की तरह, मायूस हो नहीं,

बड़े अभिमान से नैतिक जिमेद्दारी भी ले बैठी मैं.

आज तक कर रही हूँ,

अपनी भूल का प्रायश्चित मैं.

जो लोग किया करते थे,

कभी दर पर मेरे.

वो आमरण अनशन आज भी किये बैठी हूँ मैं.

जो किया करती थी कभी,

हजारों दिलों पर राज, मैं.

तेरे दिल के द्वार पर

दरबान बनी बैठी हूँ, मैं.

हाँ, इस प्रेम की राजनीति में,

जो कुछ कबूला है मैंने,

वो सच है.

पर कैसे गिर गयी,

मेरी मग़रूर सरकार.

इसका मुझे आज भी अचरज है.





34 टिप्‍पणियां:

  1. तख्ता पलटने वाले का भी तो तख्ता पलटता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. देश की राजनीति से प्रेम राजनीति बेहतर है।
    प्रेम में झुकना ही तो प्रेम की परिभाषा है।
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति, रचना जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये हुई न बात ! मगरूर की सरकार तो गिरती ही है ! कभी कभी अपने ही काजल से अपने को नजर लग जाती है ! प्रेम की राजनीती कौन समझ पाया है आजतक.. वैसे तेवर लग रहे थे थोड़े थोड़े ...हे हे ! इस भीषण गर्मी में फुहार की तरह बढिया पोस्ट ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजनीति और प्रेम का समीकरण बैठाती आपकी रचना ... अलग अंदाज़ में .... बहुत अच्छी लगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. Ek rachna ki drashi se dekho to nisandeh kavita khoobsoorat hain...Prem mein agar raajniti aur magroor vyavhaar aa jaaye to fir prem kaha...dil ke rishton mein ego ki koi jagah nahi :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरे दिल के द्वार पर
    दरबान बनी बैठी हूँ, मैं.
    हाँ, इस प्रेम की राजनीति में,
    जो कुछ कबूला है मैंने,
    वो सच है.
    पर कैसे गिर गयी,
    मेरी मग़रूर सरकार.
    इसका मुझे आज भी अचरज है.
    bahut hi sundar ,aapka kahana kuchh had tak uchit bhi hai ,rajniti ka ansh mil hi jaata hai .....umda

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रिया जी
    मैं आपकी बात से सहमत हूँ, पर कुछ लोग प्रेम के नाम पर राजनीति करते रहते हैं जिसका उन्हें गुरुर भी रहता है गलती से अगर उन्हें सच्चा प्रेम हो जाये तभी असलियत समझ आती है और सारी मगरुरियत भी धरी रह जाती है|

    उत्तर देंहटाएं
  8. सामयिक कविता है प्रेम की राजनीति ही सर्वश्रेष्ठ है..."

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी, आपकी यह रचना बहुत अच्छी लगी ! सामाजिक तौर पर भले ही राजनीतिक चाल कामयाब हो जाती है, पर प्रेम सम्बन्ध में समीकरण कुछ और ही होते हैं, यहाँ राजनीति भी अलग होती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वो आमरण अनशन आज भी किये बैठी हूँ मैं.
    जो किया करती थी कभी,
    हजारों दिलों पर राज, मैं.
    तेरे दिल के द्वार पर
    दरबान बनी बैठी हूँ, मैं.

    पर कैसे गिर गयी,
    मेरी मग़रूर सरकार.
    इसका मुझे आज भी अचरज है.


    रचनाजी ,


    तिल के लिए एक शायर यूं फरमाते हैं-
    अब मैं समझा तेरे रुख़सार पै तिल का मतलब,
    दौलते हुश्न पै दरबान बिठा रक्खा है।

    हालांकि मासूम तिल जानता भी नहीं कि वह दरबान बना बैठा है ।
    या शायद शायर जनाब ही नहीं जान पाए कि जिसे वे दरबान समझ रहें है ,वह नेम पलेट है कि आओ ,यहां छुपा है हुश्न का खजाना

    खैर बात आपने मगरूर सरकार के गिरने पै खत्म की है
    तो विनम्रतापूर्वक अर्ज है कि मगरूर है तो गिरेगी ही। आश्चर्य कैसा ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. तेरे दिल के द्वार पर
    दरबान बनी बैठी हूँ, मैं.

    rachna ji ye to prem me samarpan ka bhav hai... raajneeti kaise...rajneete ke bahane prem ko abhivyakt karti rachna... sunder srijan

    उत्तर देंहटाएं
  12. वो सच है.

    पर कैसे गिर गयी,

    मेरी मग़रूर सरकार.

    इसका मुझे आज भी अचरज है.

    bahut khub


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज तो बहुत नया रंग है आपकी नज़्म का...प्रेम में राजनीति....अच्छा कटाक्ष है...

    वो सच है.
    पर कैसे गिर गयी,
    मेरी मग़रूर सरकार.
    इसका मुझे आज भी अचरज है.

    जो सोचते हैं उससे जब उल्टा हो जाता है तो अचरज तो होना ही है...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच्चे प्रेम में समर्पण इसी को कहते हैं...जब स्व' से आगे बढ़कर व्यक्ति सोचने लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच्चे प्रेम में समर्पण इसी को कहते हैं...जब स्व' से आगे बढ़कर व्यक्ति सोचने लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर और दिलचस्प रचना! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  17. इसका मुझे आज भी अचरज है.

    जो सोचते हैं उससे जब उल्टा हो जाता है तो अचरज तो होना ही है...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  18. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही सुन्दर रचना! आपकी रचना मुझे भी पसंद आई.

    ______________
    'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर करना न भूलें !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. प्रेम में राजनीति नहीं चलती
    कैकेयी की तरह गिरती है
    औंधे मुँह।
    --अच्छे भाव है कविता के।

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपके ब्लॉग पर आना सार्थक हुआ। अंवेषण, अहसास सब कविताएं एक से बढ़कर एक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. हाँ, इस प्रेम की राजनीति में,

    जो कुछ कबूला है मैंने,

    वो सच है.

    पर कैसे गिर गयी,

    मेरी मग़रूर सरकार.

    इसका मुझे आज भी अचरज है.
    Kaisi anoothi tulna hai yah!

    उत्तर देंहटाएं
  23. राजनीति वो भी प्रेम की.....
    वाह....

    उत्तर देंहटाएं
  24. अलग अंदाज में प्रभावशाली बात कहती हुई आपकी रचना...
    (पहले समझने में थोड़ी चूक हो गयी थी. )

    उत्तर देंहटाएं
  25. इन अबूझे सवालों के जवाब आसान कहां हैं

    उत्तर देंहटाएं
  26. पर सावन रहा सदा नयनों में,
    जाने क्यों मधुमास न आया.
    अम्बर रहा सदा अंखियों में,
    पर मैंने क्यों विस्तार न पाया!
    मैंने क्यों विस्तार न पाया!

    ..... ...sundar bimb sayojana ke saath Gahari bhavabhikti
    Haardik shubhkamnayne.

    उत्तर देंहटाएं
  27. bahut hi badhiya prastuti ,rachana ji.shabdo ka chayan bhi bahut hi umda hai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...