बुधवार, 25 नवंबर 2009

सड़क

       सड़क



 तुमने किसी सड़क को चलते हुए देखा है

ये सड़क कहाँ जायेगी कभी सोचा है
 


ये सड़कें न तो चलती हैं,न कहीं जाती हैं

ये एक मूक दर्शक की तरह स्थिर हैं

ये सड़कें आजाद हैं
 
कहीं भी किसी भी सड़क से मिल जाने को
 
ये आज़ाद हैं किसी को भी



अपने से जुदा कर जाने को
 
ये काली लम्बी उथली


तो कभी चिकनी लहराती बलखाती
 
कभी सपाट तो कभी उबड़- खाबड़


असीम अनंत दिशायों तक फैली

अपने सीने पर


इन्सान को बड़े गर्व से उठाने को

कभी मंदिर मार्ग कभी मस्जिद मोड़ जाने को

पर
मंदिर मार्ग पर जाने वाला हर इन्सान मंदिर नहीं जाता


मस्जिद मोड़ पर जाने वाले सिर्फ मस्जिद नहीं जाते


गाँधी रोड पर जाने वाले सब गाँधीवादी नहीं होते

मदर टेरेसा रोड पर जाने वाले सब दयालु नहीं होते
 
क्यों ऐसे नाम रखते हैं सड़कों के
 
जहाँ गाँधी रोड पर दारू बिके


मंदिर मार्ग पर गाय कटे


मस्जिद मार्ग पर औरत बिके

मदर टेरेसा मार्ग पर इज्ज़त लुटे
 
ये सड़कें बड़ी धर्म- निरपेक्ष हैं

इन सड़कों में सर्व-धर्म समभाव है

इन सड़कों को मत बांटो

गाँधीवादियों के लिए

श्रद्धालुओं  के लिए

भिखारियों के लिए


इन्हें तो बस रहने दो


आम आदमियों के लिए



13 टिप्‍पणियां:

  1. रचना जी
    सड़क के बहाने अपने औरत पर हो रहे अत्याचारों के साथ ही समाज में व्याप्त बुराइयों पर प्रकाश डाला है .अच्छी रचना है , रचना जी .

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रशंनीय हैं रचना के भाव। सुन्दर भाव-शब्द संयोजन।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता के बहाने बहुत गहरी बातें कह गई आप।
    बहुत सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सराहनीय प्रस्‍तुति,सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. kavitaa meiN insaan ke mano-bhaav ki jhalak bhi nazar aa rahi hai,,,aur,,,,aapki daarshnik soch bhi,,,ek kaamyaab koshish par badhaaee svikaareiN

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह
    सड़क के माध्यम से आपने धर्मनिर्पेक्षता का अच्छा पाढ़ पढ़ाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. SADAK KE BAHAANE AAPNE SACH BAYAAN KAR DIYA IS LAJAWAAB RACHNA MEIN ... BAHUT KHOOB ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. "मंदिर मार्ग पर जाने वाला हर इन्सान मंदिर नहीं जाता
    मस्जिद मोड़ पर जाने वाले सिर्फ मस्जिद नहीं जाते ....."

    पहली बार आ पाया हूँ आपके ब्लॉग पर. पूर्णतः सहमत हूँ आपके विचारों से.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सड़क पर अब तक पढी सबसे अच्छी रचनाओं में इसे भी गिनूगा. मेरा एक शे'र है:

    क्या पूछते हो राह यह जाती कहाँ है?
    आदमी जाते हैं नादां रास्ते जाते नहीं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुमने किसी सड़क को चलते हुए देखा है

    ये सड़क कहाँ जायेगी कभी सोचा है

    मंदिर मार्ग पर गाय कटे
    मस्जिद मार्ग पर औरत बिके
    मदर टेरेसा मार्ग पर इज्ज़त लुटे
    ये सड़कें बड़ी धर्म- निरपेक्ष हैं
    इन सड़कों में सर्व-धर्म समभाव है

    इन सड़कों को मत बांटो
    गाँधीवादियों के लिए
    श्रद्धालुओं के लिए
    भिखारियों के लिए


    इन्हें तो बस रहने दो
    आम आदमियों के लिए

    अत्यंत प्रभावशाली और विचारोत्तेक रचना।

    जितनी करुणा और सरलता है आपकी संवेदनशीलता में, उतनी यथार्थपरक दृष्टि और तद्जनित आक्रोश भी है । यह आक्रोश ही संवेदनशीलता को पौरुष देता है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. पहली बार आ पाया हूँ आपके ब्लॉग पर. पूर्णतः सहमत हूँ आपके विचारों से.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सबकुछ बाँट देना चाहते हैं सड़क तक नहीं छोड़ते
    बहुत सटीक रचना

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...