रविवार, 21 अक्तूबर 2012

उड़ान

उड़ान



मिलता है जब भी 
कोई संदेश सहसा 
सुखद या दुखद 
जाग उठती है उत्कंठा 
वहाँ सम्मिलित होने की 
सबसे मिलने की 
सुख दुःख साझा करने की 
तैयार होती हूँ अकेले ही 
जानती ये भी हूँ 
सब कुछ बदल गया होगा 
शहर, सड़कें, लोग
आरक्षण, ई आरक्षण, 
तत्काल आरक्षण,
दलालों के बीच भटकती, 
पिसती लौट आती हूँ   
खोलती हूँ विन्डोज़ 
हो जाती हूँ सवार माउस पर 
जकड़ती हूँ उँगलियों से कर्सर को 
खोलती हूँ गूगल मैप्स 
और फिर ...
मेरा गंतव्य शहर, 
मुहल्ला, गली मकान...
दस्तक देती हूँ कर्सर से
खुल जाती हैं मन की 
किवडियां, किवडियां,
गले मिलती हूँ सबसे 
चाची, मौसी, मामी, भाभी, भईया   
हँसती हूँ, मुस्कुराती हूँ, 
खिलखिलाती हूँ 
इस बीच...
आँखों की कोरों में दबे आँसू
टपकते हैं टप्प टप्प ...
कोई भांप न ले 
मेरे मन की व्यथा 
बंद करती हूँ विन्डोज़, 
खोलती हूँ खिड़की  
ओढ़ती हूँ चेहरे पर शालीनता
और बस ...

24 टिप्‍पणियां:

  1. Alag.. ek dum alag.. jaise kewal bas aap hi likh pati hain.. kehna chahiye ki 'Rachna marka Rachna' :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो डेस्कटॉप थीम है वही नज़र आये, भीतर क्या??? कौन समझे...कौन जाने...

    बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. आमने सामने बातें ( चैट ) करना तो कंप्यूटर से संभव हो ही गया है . जल्दी ही रिश्तेदारों से गले मिलना भी यूँ ही हुआ करेगा .
    फिर आंसुओं को पलकों के कोनो में ही वास मिलेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खुबसूरत , हर एक की यही कशमकश है . हर कोई अपनों से मिलने को लालायित मगर जीवन की आपाधापी ने पैरों में बेड़ियाँ सी डाल रखी है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. जमाना कहाँ पहुच गया सोचा भी नही था.... ..सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन अभिव्यक्ति,,,,,एक अलग हटकर सुंदर प्रस्तुति,,,,,,

    RECENT POST : ऐ माता तेरे बेटे हम

    उत्तर देंहटाएं
  7. man to bahut kuch chahta hai lekin kya karen man maar ke jiina padta hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस विन्डोज़ ने खिडकियों को बंद कर दिया है.. बहुत दुःख होता है.. और आपने जिस संजीदगी से इसे अभिव्यक्त किया है वह सचमुच प्रभावित करता है!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. Aah...kya kahun? Kitnee bar hame apne man ke jharokhe band karne padte hain! Nihayat sundar rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर अपना चेहरा ... आंसुओं से सराबोर

    उत्तर देंहटाएं
  11. विन्डोज़ हो जाती हूँ सवार माउस पर जकड़ती हूँ उँगलियों से कर्सर को खोलती हूँ गूगल मैप्स और फिर ... मेरा गंतव्य शहर, मुहल्ला, गली मकान..

    आज शायद यही उड़ान रह गयी है .... आँसू आए भी तो न कोई देख पाता है न समझ पाता है ... फिर पोंछने का तो सवाल ही नहीं ... इन विंडोस के सामने मन के पट तो बंद ही रह जाते हैं .... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  12. duniyan kitni gol aur chhoti ho gayi hai na aansuo ki tarah gol-gol aur chhoti....kabhi to bindu maatr si hi dikhayi deti hai aur nahi bhi...in ansuo ki tarah..

    marmsparshi end.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस एक विन्डो के कारण दुनिया की ओर खुलते सारे विन्डोज़ जैसे बंद हो गए।
    अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक अलग और अद्भुत भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. भावपूर्ण रचना अच्छी लगी |

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...