रविवार, 25 मार्च 2012

विषय

विषय



बचपन में सोचा करती थी पढते समय
क्यों होते हैं इतने विषय
भाषा, गणित, विज्ञान, समाज शास्त्र...
मात्र एक जीवन ही तो जीना है
क्या करूंगी ये सब सीख कर
फिर न जाने कब कैसे 
भर आया जीवन में
काव्य, रस, अलंकार, छंद
जी भर कर जिया मैंने उनको
धीरे धीरे गणित ने अपने पांव जमाए 
फिर क्या था
बस जोड़ती घटाती रही
खोया और पाया
मजबूत होता रहा तर्क शास्त्र
अक्सर जब देखो
घर में
कहीं सुसज्जित, कहीं बेतरतीब
रखा, पड़ा, पसरा हुआ कुछ न कुछ
कभी हनन, कभी खनन, कभी संरक्षण, सौंदर्य
याद कराता भूगोल
घूम कर पीछे देखती हूँ तो
एक लंबा इतिहास
कितना इतिहास बाकी है नहीं जानती
पर जान गयी हूँ
जो न पढ़े होते ये विषय
तो कैसे जान पाती
विषयों पर जीवन की पकड़
जीवन पर विषयों की पकड़
और एक सुखद जीवन के लिये
दोनों का साथ.

32 टिप्‍पणियां:

  1. तुरंती में छुपे हास्य को क्षमा करना ।


    भायी दीक्षित बुद्धि की, रचना हमें अपार ।
    जोड़-गाँठ करते चला, मानव बारम्बार ।

    मानव बारम्बार, भूलता छक्का-पंजा ।
    ज्ञान भला विज्ञान, कसे हर रोज शिकंजा

    पढ़ा लिखा भूगोल, देखता दिन में तारे ।
    तर्क-शास्त्र मजबूत, बाल की खाल उतारे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया रचना जी...
    जीवन का गुणा भाग समझने के लिए बुद्धि को ज्ञान से नुकीला करना ज़रूरी है ही....

    बहुत अच्छी रचना.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज तो लोग बचपन की पढ़ाई भूल कर बस अर्थशास्त्र और वाणिज्य शास्त्र में सारे संबंधों को तोलने लगे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पढ़े हुए विषयों का जीवन में बहुत महत्व है...अच्छे से समझा गई आपकी यह सुंदर रचना,रचना जी|

    साथ में रविकर सर की त्वरित टिप्पणी भी अच्छी लगी|

    उत्तर देंहटाएं
  5. अक्सर हम भी ऐसा सोचा करते हैं ।
    क्यों पढ़े थे इतने विषय , जिनका बाद में कोई लेना देना नहीं ।
    लेकिन सही कहा , इनके बगैर शायद वो नहीं होते , जो अभी हैं ।
    एक महीने की छुट्टी कुछ ज्यादा ही लगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जी, बिलकुल सही कहा डॉक्टर साहब एक महीने बाद यही समझ नहीं आ रहा था कि कहाँ से क्या शुरू करू.

    जिस दिन पुस्तक मेला शुरू हुआ उसी दिन से मैं बाहर रही और मजबूरीवश कुछ भी फोलो नहीं कर सकी. क्षमा चाहती हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सच कहा आपने... पढ़ते समय यही महसूस होता था...
    बहुत सुन्दर रचना के सहारे विद्यार्थी मन के शास्वत दृष्टीकोण को रेखांकित कर दिया आपने...
    सादर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. व्यक्तित्व ज्ञान के विभिन्न स्रोतों से निर्माण होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्ञान बिना सब सून ...
    जीवन का आनंद अधूरा होता अगर हमें हर विषय पर, चाहे अधूरा ही सही , ज्ञान न होता !

    उत्तर देंहटाएं
  10. सारे विषय जुड़े इसी जीवन से हें और फिर सब जीवन में उतार कर अपने होने का अहसास ही नहीं करते हें बल्कि उसको पूर्णता प्रदान करने लिए साथ आते हें. जीवन दर्शन ही तो धर्म दर्शन, समाज दर्शन , राज दर्शन और प्रज्ञा से जुड़ कर बनता है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. विषयों पर जीवन की पकड़
    जीवन पर विषयों की पकड़
    और एक सुखद जीवन के लिये
    दोनों का साथ.

    हर विषय जीवन से जुड़ा हुआ है ... बहुत सुंदर ... बीच बीच में कहाँ गायब हो जाती हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. Rachna ji...

    jod ghatana ganit ke jaisa...
    Jeevan main banta Itihaas..
    Tark hamen vigyaan sikhata...
    Sahitya sada hruday ke paas..

    Vishay padhayi ke hum padhte
    Jeevan bhar wo sang hai chalte..
    Kabhi chhand ban kavita bante...
    Kabhi dwandv ban man ko chhalte..

    Sundar bhavabhivyakti...hamesha ki tarah...

    Saadar...

    Deepak..

    उत्तर देंहटाएं
  13. जो न पढ़े होते ये विषय
    तो कैसे जान पाती
    विषयों पर जीवन की पकड़
    जीवन पर विषयों की पकड़
    और एक सुखद जीवन के लिये
    दोनों का साथ.
    Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. इसलिए कहते हैं हर इक चीज़ जरूरी होती है ...
    जीवन में कौन सी बात कब काम आये इसका पता नहीं चलता ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. जान गयी हूँ
    जो न पढ़े होते ये विषय
    तो कैसे जान पाती
    विषयों पर जीवन की पकड़
    जीवन पर विषयों की पकड़
    और एक सुखद जीवन के लिये
    दोनों का साथ... behad achhi rachna

    उत्तर देंहटाएं
  17. "विषय की जीवन पर पकड़ और जीवें की विषय पर..."
    बहुत खूब..सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  18. सत्य ...बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  19. कैसे जान पाती
    विषयों पर जीवन की पकड़
    जीवन पर विषयों की पकड़
    और एक सुखद जीवन के लिये
    दोनों का साथ.

    ....बहुत सच कहा ...बहुत गहन और सार्थक अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस ख़ूबसूरत पोस्ट के लिए बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. रचना जी! बहुत सही कहा आपने.. हमने ज्ञान के स्थान पर सूचनाओं के भंडारण को ही ज्ञान मान लिया है.. दस किताबें पढ़ लीं और सूचनाएँ प्रस्तुत करने के काबिल हो गए.. मगर जबतक उनको जीवन में उतारना नहीं आया तो सब बेकार!!
    बहुत अच्छी और अनोखे भावों से सजी रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. पढ़ने वाले विषयों के माध्यम से ...जीवन के उतार चड़ाव को भली भांति से समझा दिया ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  23. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ..........इस उत्कृष्ट रचना के लिए ... बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  24. ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  25. "प्रयोग" हम बाद में ही समझ पाते हैं विषयों का......... what is called "pactical knowledge of subjects"

    beautiful

    उत्तर देंहटाएं
  26. "प्रयोग" हम बाद में ही समझ पाते हैं विषयों का......... what is called "pactical knowledge of subjects"

    beautiful

    उत्तर देंहटाएं
  27. bahut khoob...sabse achchi baat hai aapki kavitaye hamesha kuch naye vishyo par hoti hai ...:)

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...