रविवार, 29 मई 2011

मेरा शहर


मेरा शहर



मेरे शहर को सुरक्षित, 
चाक चौबंद रखने को. 
गली, चौराहों, मॉल, सडकों, 
रेलवे स्टेशन, एअर पोर्ट,
हर जगह लगे हैं, 
सी सी टी वी कैमरे. 
अचानक 
जब कभी घटती है,
कोई घटना या दुर्घटना. 
खंगाले जाते है ये सभी. 
उनमें से अधिकांश, 
नहीं उतर पाते खरे.
अपनी ही कसौटी पर. 
और 
ठगे जाते हैं हम. 
मेरे शहर में और भी, 
कई जगहों पर हैं. 
ऐसे ही कैमरे, 
चेंजिंग रूम, बाथ रूम 
गर्ल्स होस्टल, होटल रूम 
यहाँ तक कि 
घर के बेड रूम. 
ये अपनी कसौटी पर 
उतरते हैं खरे. 
वो भी शत प्रतिशत. 
यहाँ भी एक बार.
फिर ठगे जाते हैं हम.

56 टिप्‍पणियां:

  1. जब कभी घटती है,
    कोई घटना या दुर्घटना.
    खंगाले जाते है ये सभी.
    उनमें से अधिकांश,
    नहीं उतरते पाते खरे.
    अपनी ही कसौटी पर.

    कई दुर्घटनाओं को तो यह अव्यवस्था ही न्योता देती है..... सटीक चित्रण किया आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. सदुपयोग कम और दुरुपयोग ज्यादा । एक कड़वी सच्चाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह , बहुत अच्छी तुलना की है विपरीत हालातों की । यह भी एक कडवी और अफ्सोसज़नक सच्चाई है ।
    लेकिन देखने में कैमरे बड़े प्रभावशाली लग रहे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सटीक चित्रण किया आपने| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  5. सचमुच, सच्चाई से रूबरू कराती रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. शहर ठगने-ठगाने का ही दूसरा नाम है

    उत्तर देंहटाएं
  7. bilkul sahi kaha hai .......
    mere bkog par aneke liye dhnyavad......

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक बचाता है, एक बर्बाद करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दोनों ही विपरीत परिस्थितियों में ये सीसीटीवी केमरे अपनी इमेज के मुताबिक ही परिणाम देते हैं । बिल्कुल सटीक चित्रण इन केमरों की सच्चाई का...

    उत्तर देंहटाएं
  10. कटु सच्चाई बयाँ कर दी…………शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक परिस्थिति में कैमरे खरे नहीं उतरते और दूसरी में खरे उतरते हैं ..और दोनों बार ही ठगे जाते हैं ...अच्छा चित्रण किया है ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (30-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. विज्ञान की खोजों ने तबाही और बुराई को भी जन्म दिया है |

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप ने एक कडबा सच लिख दिया अपनी कविता मे, सच मे ऎसा ही तो हो रहा हे, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपने कविता के द्वारा समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार और गन्दी मानसिकता पे प्रहार की है ... बहुत बहुत आभार !

    ग़ज़ल में अब मज़ा है क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब कभी घटती है,
    कोई घटना या दुर्घटना.
    खंगाले जाते है ये सभी.
    उनमें से अधिकांश,
    नहीं उतरते पाते खरे.
    अपनी ही कसौटी पर.
    baat sahi hai ,aesi hi vyavastha me hamare bachcho ke school me ek vidyarthi pakad kaya shararat karte aur master ji ne use maarkar adhmara kar diya .aaj ka samya .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कैमरे बस खरीद के समय कमीशन खाने के लिए होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. महानगरों में जिस दहशत के जीवन जिया जा रहा है.. उसका बेहतरीन चित्रण है आपकी कविता में .. बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  19. रचना जी आपकी तत्परता की दाद पहले देती हूँ ...
    पिछली बार भी आप ही पहले आईं थीं .....
    और आपकी कविता ने तो सारे समाचार पत्रों की कतरने काट दीं ....
    ख़ूबसूरती की बजाय जब ये कैमरे नग्नता पर उतर आयें तो इसी तरह की नज्में उतरती हैं ....
    लाजवाब ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. कड़वी सच्चाई दिखाती बहुत सुंदर रचना,
    - विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. रचना जी
    आपने इन कैमरों के माध्यम से समाज की सच्चाई को सामने लाने का एक सही प्रयास किया है .....यह कैमरे सिर्फ दिखावा हैं जब वास्तविकता में इनकी आवश्यकता होती है तो यह इन्सान का साथ छोड़ देते हैं ....!

    उत्तर देंहटाएं
  22. यहाँ भी एक बार. फिर ठगे जाते हैं हम
    bilkul sahi kaha hai aapne .yah ek trasdi hi hai .sarthak rachna .aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  23. i have given your blog's link on my blog ''ye blog achchha laga ''.my blog's URL is ''http://yeblogachchhalaga.blogspot.com''.
    Have a nice day .

    उत्तर देंहटाएं
  24. ye blog achchha laga se aapke blog ka link mila.bahut achchhi lagi aapki spasht abhivyakti.badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  25. रचना जी,
    इस कविता के लिए आपको जितनी भी बधाई दूँ कम है !
    आपने समाज के दोगलेपन का चेहरा नोच कर फ़ेंक दिया !

    उत्तर देंहटाएं
  26. जब कभी घटती है,
    कोई घटना या दुर्घटना.
    खंगाले जाते है ये सभी.
    उनमें से अधिकांश,
    नहीं उतरते पाते खरे.
    अपनी ही कसौटी पर.

    बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. आदरणीय रचना दीक्षित जी
    नमस्कार !
    मेरे शहर को सुरक्षित, चाक चौबंद रखने को. गली, चौराहों, मॉल, सडकों, रेलवे स्टेशन, एअर पोर्ट, हर जगह लगे हैं, सी सी टी वी कैमरे.
    ....सत्‍य का सटीक चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही कड़वी सच्चाई बयाँ की है...एकदम खरी बात कह दी
    सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  29. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  30. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बिल्कुल ठीक कहा, जहाँ जिसकी जरूरत है शायद वहाँ मात खा जाएँ लेकिन जहाँ जरूरत नहीं है वहाँ ये बखूबी अंजाम देते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  32. भाई अपना तो काम ही है सीसीटीवी, बायोमेट्रिक वग़ैरह का| सरकारी तंत्र की तो नहीं जानते, पर हमारे ग्राहक तो संतुष्ट हैं| वैसे इन्हें कहाँ लगाया जाए, कैसे इन का सदुपयोग हो - ये ज़रूर विचार करने का विषय है|

    उत्तर देंहटाएं
  33. रचना जी बहुत सुन्दर बेबाक सटीक और खरी खरी लगता है कि ये कैमरे भी वहां से बेंच दिए जाते हैं वहीँ से चोरी कर इन जगहों पर लगाया जाता हो -इस व्यंग्य से आप ने उनके मुंह पर तमाचा अच्छा मारा-जो इसी लायक हैं भी -बधाई हों निम्न बहुत अच्छी पंक्तियाँ

    ऐसे ही कैमरे,
    चेंजिंग रूम, बाथ रूम
    गर्ल्स होस्टल, होटल रूम
    यहाँ तक कि
    घर के बेड रूम.
    ये अपनी कसौटी पर
    उतरते हैं खरे.
    शुक्ल भ्रमर 5

    उत्तर देंहटाएं
  34. रचना जी बहुत सुन्दर बेबाक सटीक और खरी खरी लगता है कि ये कैमरे भी वहां से बेंच दिए जाते हैं वहीँ से चोरी कर इन जगहों पर लगाया जाता हो -इस व्यंग्य से आप ने उनके मुंह पर तमाचा अच्छा मारा-जो इसी लायक हैं भी -बधाई हों निम्न बहुत अच्छी पंक्तियाँ

    ऐसे ही कैमरे,
    चेंजिंग रूम, बाथ रूम
    गर्ल्स होस्टल, होटल रूम
    यहाँ तक कि
    घर के बेड रूम.
    ये अपनी कसौटी पर
    उतरते हैं खरे.
    शुक्ल भ्रमर 5

    उत्तर देंहटाएं
  35. अच्छाई एवं बुराई ....दोनों पहलुओं को सहजता से समेटे हुए , सच्चाई से रूबरू कराती कविता

    उत्तर देंहटाएं
  36. आपकी नजर से नहीं बच सकी इन कैमरों की वास्तविकता.

    उत्तर देंहटाएं
  37. ओहो, इतना तीखा........गज़ब सटीक.


    माचिस से दीप जला लो या घर फूँक दो...

    उत्तर देंहटाएं
  38. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  39. यानि कि ठगे जाना ही हमारी नियति है, तभी कबीर ने कहा था माया महा ठगिनी हम जानी !

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत ही उम्दा शब्द है !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    उत्तर देंहटाएं
  41. racna ji
    aapne badi hi shalinta ke saath dono paxho ko chitrit kiya hai .bahut hi shandar dhang se .jahan bilkul sach ka sach hona chahiye vahan hammari vyvastha pratali aise hi dheeli pad jaati hai.har jagah hi apni khamiyan chupa kar use behtar treeke se hi pesh kiya jata hai .taaki jo sach hai vo dikhlai hi na pade ----
    badi hi behatreen prastuti
    dil se badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  42. सटीक .. हालात का सटीक चित्रण है .... असल मेईएन ऐसा ही होता है .....

    उत्तर देंहटाएं
  43. पहली आंख तो बहुत कुछ देख कर हमें सतर्क करती है, दूसरी ...?!

    उत्तर देंहटाएं
  44. तीखा कटाक्ष .व्यंग्य विधा का अनुपम उदहारण है आपकी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  45. जब कभी घटती है,
    कोई घटना या दुर्घटना.
    खंगाले जाते है ये सभी.
    उनमें से अधिकांश,
    नहीं उतरते पाते खरे.
    अपनी ही कसौटी पर.
    sunder chitran kiya hai kadvi sachchai hai .

    ऐसे ही कैमरे,
    चेंजिंग रूम, बाथ रूम
    गर्ल्स होस्टल, होटल रूम
    यहाँ तक कि
    घर के बेड रूम.
    ये अपनी कसौटी पर
    उतरते हैं खरे.
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  46. वाह ... बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  47. Aw, this was a really nice post. In idea I would like to put in writing like this additionally - taking time and actual effort to make a very good article… but what can I say… I procrastinate alot and by no means seem to get something done.

    उत्तर देंहटाएं
  48. backlink checker free seo search engines backlinks how to build backlinks

    उत्तर देंहटाएं
  49. Before reading this article, I had exactly the same problem, now I know that you can solve it, thank you very much for your help!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...