रविवार, 14 नवंबर 2010

जल संचयन

जल संचयन




मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का,

उड़ के अम्बुद बन इतराता अंबर में,

देखता हूँ जब धरा पे

सूखी माटी, प्यासे तन-मन.

गिरता हूँ, टपकता हूँ, बिखरता हूँ,

सरकता हूँ, तर करता हूँ,

हर आंगन, अटारी, चौबारा और मन....

इस तरह प्यार करता हूँ इस धरिणी

और इसकी संतान से

कि यहीं से बनता हूँ ,

यहीं के लिए बनता हूँ,

यहीं पर ही मर मिटता हूँ.



मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का

बहाया जाता हूँ घर कि नालियों में,

गंदे नालों में, सड़कों पे,

गटर में और न जाने कहाँ कहाँ.

कहते हैं सृष्टि में,

जीवन का अभिन्न अंग हूँ मैं !!!

मेरे बिन जी नहीं सकते तुम सब.

पर.... मुझे प्यार भी तो नहीं करते.



दुलारो, पुकारो, पुचकारो, थपथपाओ,

मुझे प्यार करो.

भर लो किसी पोखर, किसी बावड़ी में,

कहीं नांद, कहीं हौद में,

कर लो हर घर में, वर्षा जल संचयन

तुम सब के प्रति मेरे प्रगाढ़ प्रेम का,

एक बार, यूँ भी तो जवाब दे के देखो.

मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का.



जल संचयन को आप अंग्रेजी में water harvesting से जानते है.

(चित्र साभार गूगल के सौजन्य से.)

38 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय रचना जी
    नमस्कार !
    बहुत खूबसूरती से रचना के माध्यम से प्रेरणा दी है
    सुन्दर प्रवाहमान रचना ! आपकी लेखनी भी निरंतर चलती रहे यही कामना है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जल तो जल है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. sanjai bhaskar ji se puri tarah sahmat. ek bejod rachna jisko bahut aawashkataa hai. shabsd sanjojan behad prabhawi aur kathy me puri tarah safal ....hardik badhaiii...

    उत्तर देंहटाएं
  4. काफी प्रेरणादायी रचना है आपकी.... जल ही जीवन है...मेरे ब्लॉग पर पहचान कौन चित्र पहेली :-४

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद महत्वपूर्ण विषय पर बेहद गंभीर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जल संचयन के प्रति जागरूक करती अच्छी रचना ...एक सार्थक सन्देश

    उत्तर देंहटाएं
  7. rachna ji ,
    bahut hi prabhav shali,man ko jhakjhorati hui ek behad hi mahatv-purn sandesh se bhari hai aapki yah rachna.
    bahut -bahut badhai-----
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  8. जल संचयन आज की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है.समाज को सन्देश देती एक सार्थक प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक और सामयिक लिखा है ... जल का संचयन आज कि सबसे बड़ी जरूरत है ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. जल ही जीवन है ...
    बहुत सुन्दर रचना !
    बाल दिवस की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  11. सामाजिक सन्देश पर सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रचना जी इस सन्देश की आज के समय मे बहुत जरूरत है। पिछले जमाने मे हर गाँव मे एक दो तालाब होते थे वहाँ पानी का संचन तो होता ही था हमारी सभ्यता संस्कृ्ति के भी प्रतीक थे। समय के साथ सब कुछ बदल गया। जल संच्यन बहुत जरूरी हो गया है। सुन्दर सन्देश देती पोस्ट। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर प्रेरणा देने वाली रचना !
    मेरे ब्लॉग में इस बार ..........उफ़ ये रियेलिटी शो

    उत्तर देंहटाएं
  14. जल संचयन आज हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए...बड़ी ही सार्थक और सामयिक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे बिन जी नहीं सकते तुम सब.
    पर.... मुझे प्यार भी तो नहीं करते.
    सार्थक लेखन के अनमोल मोती लुटाने लगी है आप !! जल तो जीवन है ही इसे बूंद बूंद बचाया जाना चाहिए ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बढ़िया तरीके से आपने जल बचत (पानी बचाने) की सीख दी हैं.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  17. बिन पानी सब सून |
    पानी कितना अनमोल है यह दर्शाती सुन्दर रचना |
    शुभकामनाये |

    उत्तर देंहटाएं
  18. रचना जी

    जल संचयन पर आधारित रचना सार्थक लगी.



    कर लो हर घर में, वर्षा जल संचयन



    तुम सब के प्रति मेरे प्रगाढ़ प्रेम का,



    एक बार, यूँ भी तो जवाब दे के देखो.



    मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का.




    - विजय तिवारी ' किसलय' हिन्दी साहित्य संगम जबलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  19. ati uttam sandesh detee ye kavita bahut kuch kah gayee............
    bangluru me to ye anivary kar diya gaya hai ghar ghar me........
    Aabhar.
    boond boond paanee amuly hai hume sanchay karna hee chahiye.........
    ati uttam....

    उत्तर देंहटाएं
  20. एक बहुत जरुरी सन्देश देती बहुत प्रेरणादायक रचना. मन खुश हो गया इसे पढ़ कर.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अर्थ पूर्ण रचना .....
    आप हमेशा ही सार्थक लिखती हैं .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है! हार्दिक शुभकामनाएं!
    लघुकथा – शांति का दूत

    उत्तर देंहटाएं
  23. .

    जागरूक करती सुन्दर रचना।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  24. क्या बात है ..वाह.. बहुत उम्दा ख्याल अत्यंत सुन्दर विचार..

    उत्तर देंहटाएं
  25. मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का
    बहाया जाता हूँ घर कि नालियों में,
    गंदे नालों में, सड़कों पे,
    गटर में और न जाने कहाँ कहाँ.
    कहते हैं सृष्टि में,
    जीवन का अभिन्न अंग हूँ मैं !!!
    मेरे बिन जी नहीं सकते तुम सब.
    पर.... मुझे प्यार भी तो नहीं करते.


    क्या बात है ..वाह.. बहुत उम्दा ख्याल अत्यंत सुन्दर विचार..

    उत्तर देंहटाएं
  26. भर लो किसी पोखर, किसी बावड़ी में,
    कहीं नांद, कहीं हौद में,
    कर लो हर घर में, वर्षा जल संचयन
    तुम सब के प्रति मेरे प्रगाढ़ प्रेम का,
    एक बार, यूँ भी तो जवाब दे के देखो.
    मैं, जल पवित्र नदियों और सागर का.
    ......
    बहुत सुंदर . प्रेरक सन्देश देती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  27. जल की अभिव्यक्ति में आपने सागर की गहराई पैदा कर दिया है !
    सामाजिक प्रतिबद्धता को समर्पित आपकी इस रचना ने मन को छू लिया !
    ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  28. मैने इसके पहले "समीकरण' रचना पढी। और जब "जल संचयन" पढ रहा था तो मुझे कुछ सिमिलियरटी सा लगा। यह कविता और उसके भाव की नहीं..दोनों बहुत अलग है.., यह वह समानता थी या कहूं "जलसंचयन" में होनी चाहिये कि सुधर जाओ वरना..., चेतावनी जैसी। क्योंकि एक जगह लंबी उम्र खुद के लिये है...जल भी जीवन है..अगर इसे यूं ही नष्ट किया जा रहा है तो क्या वो नारी जैसा रूप अख्तियार नहीं करेगा? खैर..शब्दों के अपने ढंग होते हैं। उसे व्यक्त करने..उसके रस से सराबोर करने और अपनी बात को स्पष्ट तरीके से रख देने का सामर्थ्य है तो शब्द निखर कर सामने आ जाते हैं। आप बहुत खूबी से यह सब निर्वाह कर लेती

    उत्तर देंहटाएं
  29. हैं....( यह है मेरे कमेंट में छूट गया था )

    उत्तर देंहटाएं
  30. जल के महत्व पर बड़ी संजीदगी के कह डाली आपने..एक सार्थक कविता अच्छे सोचनीय विचारों के साथ..बेहतरीन प्रस्तुति के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  31. वर्षा जल संचयन के प्रति जागरूक करती उम्दा पोस्ट।
    ...वर्षात से पहले पोस्ट करनी थी न, अब तो देर हो गई.

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. bahoot achchhi jankarijal sanchayan ke bare me deti hui sunder prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  34. vyastta ke karan aaj lambe arse baad aapki gali mein aaye or aaj aapki kai kavitayen padhi ek se behtarek lekin ye bahut hi prabhavi or sarthak abhivyakti rahii
    bandhai swikaren

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...