रविवार, 12 सितंबर 2010

मिलन

  आओ इस हिंदी दिवस पर अंग्रेजी का बहिष्कार न करके उसे ढूध में चीनी की तरह मिला के देखें एक प्रयोग


मिलन




मैंने सीखा है suffer ........ करना

जीवन के इस छोटे से सफ़र से

सौ बार तुझे चाहा पर

रही bar... मैं तेरे असर से

ढूंढा तुझे बहुत, ऑंखें हुई न चार

बुझ गये मन के दीप,

मन मंदिर भी हुआ char..
.
क्या क्या विघ्न पार करके

अब पहुंची हूँ तेरे par .........

मेरे मन की डोर आ लगी है

आज तेरे door .....से

मिल गया है संकेत मुझे

कुछ मेरी ओर से कुछ तेरी ore....से

पोर पोर महका है मेरा

किया है जब तूने प्यार pour .....

नाचे है मन मोर मेरा

और मांगे है ये more .......

पलकों की कोर से बही मैं

पहुंची तेरे दिल के core....

सदियों से पल रहा था
जो मेरे मन में शोर
मिल गया है आज उसको

वो मन चाहा shore.....

34 टिप्‍पणियां:

  1. नए प्रयोगों और creativity की एक और मिशाल

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रयोग.. भाषा की सीमा से परे जाकर अच्छी कविता आपने रच डाली ... globalisation के इस दौर में हिन्glish का ही भविष्य है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. Wow wat a expriment....ham aaj tak nahi samajh paaye log eng bhasha ka virodh kyon karte hain....kisi bhi bhasha ki gulami buri hoti hai prayog nahi....Narebaaji se soch thodi na badalti hai

    beautiful

    उत्तर देंहटाएं
  4. Rachanaji,kavita to bahut sundar hai...ye bhi sach hai ki English ka bahishkar karke ham duniyase qadam nahi mila sakte,lekin itni sundar rachana me english ka prayog akhar gaya....bhasha ka prayog ho par apni,apni jagahpe!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ..बहुत अच्छा मिलन कराया ...सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका सफ़र अनमोल है....
    आज की कविता में जो नयापन है ये सबके लिए उत्साह जनक भी है.

    पलकों की कोर से बही मैं
    पहुंची तेरे दिल के core...
    सदियों से पल रहा था
    जो मेरे मन में शोर
    मिल गया है आज उसको
    वो मन चाहा shore... क्या खूब मिश्रण है. natural सा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज कुछ मेरी समझ से बाहर निकली ये'रचना'.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी रचना एक ने रस में बोर( डुबोना) देती है और कोई भी Bore नहीं हो सकता... हमारे रोम रोम में यह कविताRoam कर रही है… हिंदी की दुर्दशा के गम पर अंगरेज़ी शब्दों को ऐसे Gum से चिपकाया है… बहुत सुंदर!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रयोगधर्मिता की नयी और अनोखी मिसाल दी हैं आपने. क्रियाशील लोगो के लिए काफी प्रेरणादायक हैं ये. हिंदी-अंग्रेजी की कई चीज़ें देखी लेकिन ऐसी आप जैसी नहीं.
    हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं.
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  10. ashok ji ne sahi kaha .naya prayog....vaah doodh mei cheene... bahut pasand aayi..... aapka ye tareeka...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    राष्ट्रीय व्यवहार में हिंदी को काम में लाना देश कि शीघ्र उन्नत्ति के लिए आवश्यक है।

    एक वचन लेना ही होगा!, राजभाषा हिन्दी पर संगीता स्वारूप की प्रस्तुति, पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही लाजवाब ... सुंदर प्रयोग है इस रचना में ... बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. .....बहुत कुछ नवीन तम!....सुंदर एह्सास!

    उत्तर देंहटाएं
  14. यह प्रयोग भी बढ़िया रहा रचना जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह बहुत सुन्दर प्रयोग है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये अभिनव प्रयोग मजेदार लगा.. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. bahut hi kamal ki kavita likhi hai ....

    Mere blog par bhi sawaagat hai aapka.....

    http://asilentsilence.blogspot.com/

    http://bannedarea.blogspot.com/

    ek Music Blog ka link share kar rahi hun hope you like...
    Download Direct Hindi Music Songs And Ghazals

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपनी रचना वटवृक्ष के लिए भेजिए - परिचय और तस्वीर के साथ
    '

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही सुंदर प्रयोग हैं.......
    हर शब्द साधा हुआ लगा.....
    चाहे हिंदी का हो या English का
    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  20. अद्भुत ....!!

    आपकी कवितायेँ इन नए प्रयों से ही जानी जाएँगी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर चित्र और साथ ही लाजवाब और शानदार रचना! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  22. मेरे मन की डोर आ लगी है
    आज तेरे door .....से
    मिल गया है संकेत मुझे
    कुछ मेरी ओर से कुछ तेरी ore....से
    पोर पोर महका है मेरा
    किया है जब तूने प्यार pour .....
    नाचे है मन मोर मेरा
    और मांगे है ये more .......


    अच्छे प्रयोग हैं हिन्दी और अंग्रेजी के।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...