गुरुवार, 29 जुलाई 2010

अब से रावण नहीं मरेगा

अब से रावण नहीं मरेगा




कहते हैं, रावण व्यथित नहीं होता

मैं, कैकसी-विश्वश्रवा पुत्र

दसग्रीव

सूर्पनखा सहोदर, मंदोदरी पति, लंकेश

अपराधी हूँ ,

हाँ! मैं अपराधी हूँ...

पर मात्र एक

अक्षम्य अपराध

सीता हरण का

पर यहाँ तो होता है

प्रतिदिन

न जाने कितनी ही सीताओं का अपहरण

फिर दुस्श्शासन बन चीर हरण,

करती हैं वो, मरण का

रोज ही  वरण

एक अपराध का दंड मृत्यु

सौ अपराध का दंड मृत्यु

फिर क्यों ???

मैं एक अपराध के लिए

युग युगान्तरों तक जलूं

मैं, दशकंधर सबने देखा है

तुम सब कितने सर, किसने देखा है

मैं, लंकेश, लंकापति, दशानन

व्यथित हूँ !!!

मैं रावण हूँ

पर रामायण बदलने न दूंगा

अब मैं रावणों के हांथों नही मरूँगा

ये प्रण लेता हूँ

अब न मरुँगा,

अब न जलूँगा

जाओ ढूंढ़ लाओ,

मात्र एक राम मेरे लिए

तब तक मैं यहीं प्रतीक्षारत हूँ

मैं, कैकसी-विश्वश्रवा पुत्र

दसग्रीव

सूर्पनखा सहोदर, मंदोदरी पति, लंकेश

अपराधी हूँ ,

पर सिर्फ राम का.



43 टिप्‍पणियां:

  1. आपने बहुत अच्छा लिखा हैं.
    आपके इस ब्लॉग पोस्ट से बेचारे रावण को कुछ तो तसल्ली हुयी होगी.
    हा हाहा हा.
    (वैसे इतनी देर रात गए ब्लॉग पोस्ट की हैं आपने.......??????? सॉरी, मेरी इस बात का बुरा मत मानियेगा, मैंने तो बस ऐसे ही पूछ लिया हैं.)
    बहुत बढ़िया,
    धन्यवाद.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है...आज हर कोई रावन बना फिर रहा है....और उसे सजा भी नहीं होती....अच्छी विचारणीय रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्तमान परिवेश का बहुत अच्छा विश्लेषण किया है ।
    आज चारों ओर रावण ही रावण नज़र आते हैं ।
    राम बनकर कोई दिखलाये to जाने ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपराधी हूँ ,
    पर सिर्फ राम का.

    अदम्य सत्य है ये...

    बहुत बहुत बहुत अच्छी कविता..उतना ही स्निग्ध विषय..

    उत्तर देंहटाएं
  5. रावण ने ये माना तो सही की वो राम का अपराधी है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक विचरणीय कविता. वैसे आज के युग के रावण और शुपंखाओ ने मारीच, खर और दूषण के साथ मिल कर राम और सीता को हाशिए पर भेज दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाओ ढूंढ़ लाओ,
    मात्र एक राम मेरे लिए....

    एक सुन्दर वैचारिक कविता! जिन्हें दण्ड देने का अधिकार प्राप्त है आज वे स्वयं ही अपराधी बनते जा रहे हैं. जिनसे न्याय की अपेक्षा है वे स्वयं ही स्वार्थ वश अन्याय पर उतारू हैं.
    वैसे एक बात यह भी है कि रावण तो रोज पैदा हो जाते हैं किन्तु राम युगों युगों में एक बार ही पैदा होते हैं. सभी को पुनः एक बार राम के पैदा होने की प्रतीक्षा है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. रावण ही यदि रावण को मारे तो ये कहाँ का न्याय है……………एक बहुत ही विचारणीय प्रश्न उठाया है……………आज तो हर नुक्कड पर एक नही अनेक रावण घूम रहे हैं बस राम ही नही मिलता आज्।
    एक बेहद उम्दा रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही फरमाया है आपने!...रावण बुराई है तो राम अच्छाई है!.... अच्छाई का ही हक बनता है कि बुराई को जला दे! एक बुरा दुसरे बुरे को कैसे सजा दे सकता है?.... मार्मिक रचना...बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचना जी,,, नमस्कार...

    मैं आपकी रचनाशीलता पर नतमस्तक हूँ....मनेक़ुईन हो या आज ये दशानन रावण...कितना सशक्त एवं सुन्दर लेखन...कितनी गहरी सोच...वाह...ईश्वर आपको नित नयी उंचाईयां प्रदान करे और आपके सभी स्वप्नों को साकार करे...

    दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी कविता भावपूर्ण और सुन्दर लगी.
    राम हमारे बीच से चले गये हैं, इस कारण ही हर साल हम रावण जलातें है..

    हाँ, गुरु पूर्णिमा पर हमारी पोस्ट पर आपके कमैंट के सन्दर्भ में पंतनगर को याद करना बहुत अच्छा लगा.

    सचमुच पंतनगर जो भी गया है, उम्र भर की यादें लेकर ही लौटा है. आप वहाँ पढ़े हों या पढ़ाया हो..पीले अमलतास और सुर्ख गुलमोहर का लम्बी कतारों ने बिना किसी भेद-भाव के सबका स्वागत प्रेम से ही किया है. लम्बी कतारों में, सीधे खड़े अशोक के वृक्षों ने बिना झुके अपनी ही तरह की सलामी दी है....हरे रंग के जितने शेडस मैने वँहा देखे.. इन कंक्रीट के जंगलों में फिर नहीं मिले.....

    गांधी हाल के फिल्म शो हों, दीपक रेस्त्रा की धमा-चौकडी, बड़ी मार्केट की शाम हो, "ढाई नम्बर" होस्टल (सरोजनी भवन, जिसे यह नाम हम पाँच नम्बर होस्टल यानि चितरंजन भवन वालों ने दिया था, हा.हा.हा ) से नगला तक बिना बात देर तक टहलना....अपने बाबा सह्गल को छोड़कर..अली हैदर के शब्दो मे कहें तो.....यादें! बस यादें रह जाती हैं...

    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  12. Ek chintansheel prastuti..
    sach mein apna apraadh sweekar kar lene mein hi to badpan hota hai....
    Saarthak parstuti ke liye dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये प्रण लेता हूँ

    अब न मरुँगा,

    अब न जलूँगा

    जाओ ढूंढ़ लाओ,

    मात्र एक राम मेरे लिए

    तब तक मैं यहीं प्रतीक्षारत हूँ

    मैं, कैकसी-विश्वश्रवा पुत्र

    दसग्रीव

    सूर्पनखा सहोदर, मंदोदरी पति, लंकेश

    अपराधी हूँ ,

    पर सिर्फ राम का.
    adbhut ,magar isi vishya par bahut pahale main bhi likhi thi aur ise dekh apni rachna turant yaad aa gayi ,kahan dabi hogi pata nahi magar dekhne ki ichchha jaag uthi .sach kaha aaj hajar mukh wala rawan hai wo bhi bina usulo ka ,soni ji sahi kahe ,dekh tere insaan ki haalat kya ho gayi bhagvaan ,hum to filhaal itna hi kahenge ya kah sakte hai .badhiya .

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी आज की कविता बहुत अच्छी लगी. इसे पढ़ कर एक बात याद आई..

    जहाँ भगवान कहते हैं....

    घर घर में है रावण रहता...इतने राम कहाँ से लाऊँ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी कविता भावपूर्ण और सुन्दर लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. aapki ye dard bhari kavita
    sab kuchh byan kar rahi hai...

    bahut hi shandaar prastuti......

    waise aapke blog pe har post, ek se badh kar ek hai, aur follow karne ko majboor karti hai.......aage se barabar aaunga.......:)

    उत्तर देंहटाएं
  17. rachana,

    just jabardasht rachna .. bahut kuch sochne par mazboor karti hui aur aaj ke samaaj ki sacchi tasweer ko pesh karte hue .. dil se badhayi ji

    उत्तर देंहटाएं
  18. "रावण को सजा देने का हक़ सिर्फ राम को है"

    आपकी सोच और रचनाधर्मिता को नमन करने के अलावा अब और कोई बात जहन में नहीं आती - आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. रचना माँ,
    नमस्ते!
    आज तो मुझे भी समझ आ गयी! और सच कहूं तो थोडा सा परेशां भी कर गयी आपकी रचना!
    पर आप तो मेरा नेचर जानती हैं, ज्यादा देर तक गंभीर रहने से मेरी तबियत खराब हो जाती है!
    कम-से-कम आपके मोहल्ले के रावण का वध तो मैं कर दूंगा.....राम ना सही, कृष्ण सही! (कृष्ण को भी अलाऊड है ना!!!???)

    उत्तर देंहटाएं
  20. हम सब तय कर ले रावण को , रावण के हाथो मरने नहीं देगे |
    सार्थक कविता आज के युग का प्रतिनिधित्व करती हुई |

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रण लेता हूँ
    अब न मरुँगा,
    अब न जलूँगा
    जाओ ढूंढ़ लाओ,
    मात्र एक राम मेरे लिए

    रावण जानता है कि सब यहां उसके अनुचर हैं। राम ने लंका जीती थी। अब कलयुग में रावण ने पूरा भारत जीतकर बदला ले रखा है। उसे पता है कि राम तो मिलने वाले नहीं, नगरी उसकी है, इसलिए वो सुरक्षित है....।

    उत्तर देंहटाएं
  22. आपकी कविताओं में सन्दर्भ और कथ्य मिल कर गहरा प्रभाव उत्पन्न करते हैं. बहुत ही बढ़िया.

    उत्तर देंहटाएं
  23. मात्र एक राम मेरे लिए!!!
    आज के युग का सबसे बड़ा सवाल ???राम अगर मिल भी गये तो रावण से पहले ऐसे मार डाले जायेंगे जैसे गंगा मारी जा रही हैं !मेरी शुभ कामनाये सदा ही आपके साथ हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर और विचारणीय रचना प्रस्तुत किया ही आपने !
    मित्रता दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  25. behad hi prabhavi post .sach rawan ne to kewal maa seeta ka apharan kiya tha par aaj to ye aam baat ho gai hai.aap kitne rawano ko dhudh paoge.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस अनूठी रचना के लिए बधाई...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  27. तुम अपने भीतर के रावण का गला घोंट दो
    देखते ही देखते सव राममय हो जाएगा.
    ..आपकी पोस्ट पढ़कर अलकबीर का यह शेर याद आ गया.

    उत्तर देंहटाएं
  28. मै अपराधी हूँ पर सिर्फ राम का । ढूँढ लाइये एक राम मेरे लिये ।
    रावण के बहाने आज की स्थितियों को उजागर करती कविता बहुत सटीक और सामयिक भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. टेढ़ी शर्त है. राम तो मिलना असंभव है.

    बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  31. भावपूर्ण और सुन्दर कविता ।


    आप मेरे ब्ल‌ाग पर आये और अपने विचार व्यक्त किये । आप क‌ा बहुत-बहुत ध‌न्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. Aapki is post pe baad me comment karti hun...chain se padhke...waise ekbaar padhi hai,par hai itni prabhavi ki,kayi baar padhne ka dil karta hai.
    Rahi baat mere dharawahik,'Bikhare Sitare" kee ...to aaapko sahi lagta hai,mano pahle padha hua ho.Mai ise chand pathkon ke aagrah pe punah prakashit kar rahi hun...bas chand kishten bachee hain!
    Aapke comments itni sanjeedgee se diye hote hai,ki,man khush ho jata hai.

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ही प्रभावी रचना .. रावण के संवाद में बहुत कुछ कह रही है रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  34. हम जाने कब से दशहरा में शामिल नहीं हुए...


    या तो नेता, या भूमाफिया..और या..छुटभैये नेता ( सीधा बोले तो गुंडे..)..इन्हीं को देखा था रावन पर इलेक्ट्रोनिक तीर चलाते हुए...
    तब से ना तो राम से नफरत हुई/ना रावन से प्रेम हुआ...
    हाँ दुनिया देख ली....

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...