रविवार, 30 मई 2010

राहें

राहें



कभी भूल गए थे, जिन राहों को

कल, मैंने उन पर चल कर देखा

प्रेम पसारे, राहें तकते 

उनको   आज वहीँ पर देखा

मैंने कितनी धारें बदलीं, 

हर पल अपनी  राहें बदलीं

नाते-रिश्ते,  दुनियादारी,

जाने कितनी बाहें बदली

पर, आस बिछाए,  सांसें ओढ़े

उनको फिर भी जगते देखा 

आओ लौट चलें उन पर फिर

उनमें   मैंने सम्मोहन देखा

आज की इन नयी राहों पर

कहाँ   नेह  बरसते   देखा  

 कभी भूल गए थे जिन राहों को

कल मैंने उन पर चल कर देखा




38 टिप्‍पणियां:

  1. कभी भूल गए थे, जिन राहों को
    कल, मैंने उन पर चल कर देखा
    भूली बिसरी यादों संग चलना अच्छा लगता है

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. समय समय पर संबंधों पर पड़ी गर्त को हटाते रहना चाहिए ।
    इसी से संबंधों में नवीनता बनी रहती है ।
    सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरती से लिखे हैं एहसास...अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. कभी भूल गए थे जिन राहों को

    कल मैंने उन पर चल कर देखा

    वाह क्या बात है रचना जी. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस ये रास्ते हम न भूले और न हमसे छूटे...

    बहुत सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कभी भूल गए थे जिन राहों को

    कल मैंने उन पर चल कर देखा
    Na jane kaunsi duniya me aap le gayin! Man wahin atka hua hai..
    And what a hauntingly beautiful picture!

    उत्तर देंहटाएं
  8. "मैंने कितनी धारें बदलीं,
    हर पल अपनी राहें बदलीं
    नाते-रिश्ते, दुनियादारी,
    जाने कितनी बाहें बदली
    पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा"
    भावपूर्ण रचना के साथ-साथ हमेशा की तरह मनमोहक तस्वीर

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी भूल गए थे, जिन राहों को
    कल, मैंने उन पर चल कर देखा ...
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ... बहुत भावात्मक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  10. काफी सुन्दर शब्दों का प्रयोग किया है आपने अपनी कविताओ में सुन्दर अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप बहुत सुंदर लिखती हैं. भाव मन से उपजे मगर ये खूबसूरत बिम्ब सिर्फ आपके खजाने में ही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. अति सुन्दर ...उत्तम कृति !!!..सब कुछ सधा हुआ सा !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी भूल गए थे जिन राहों को

    कल मैंने उन पर चल कर देखा
    बेहतरीन पंक्तियाँ...अक्सर पल दो पल चल लेना चाहिए उन राहों पर.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी राहें कविता पढ़ी... बहुत अच्छी लगी..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  15. sundar rachana ke liye badhaee ho rachana ji...Satish Golyan......
    my e mail : merimadhushala@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. पुरानी रहो पर चलना....ओह..पढ़ते-पढ़ते ही चले गए थे जी उन पुरानी राहो पर...

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता है! पढ़कर बहुत अच्छा लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  18. Rachna Ji,
    Sunder Rachna ke liye badhaai
    नाते-रिश्ते, दुनियादारी,
    जाने कितनी बाहें बदली
    पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा

    Surinder Ratti

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूबसूरत एहसासों को समेटे हुए रचना ...
    आज की इन नयी राहों पर
    कहाँ नेह बरसते देखा
    कभी भूल गए थे जिन राहों को
    कल मैंने उन पर चल कर देखा

    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी रचनाएँ बहुत ही सरल, सुंदर और सौम्य है

    कभी अजनबी सी, कभी जानी पहचानी सी, जिंदगी रोज मिलती है क़तरा-क़तरा…

    उत्तर देंहटाएं
  21. good one! rachna ji ek baar aapki kis post par hi padha tha hi aap koi write-up Bhagat singh par likhne waali hain ....Uska intezaar hai

    उत्तर देंहटाएं
  22. सच है चलता तो इंसान है राहें तो वहीं खड़ी रहती हैं ... प्रतीक्षा में ... अच्छी रचना है ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. भूल गयी राहों पे फिर से चलने का भी अपना ही मजा है.भूले भटके कई फसाने कई जमाने याद आते है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. आज की इन नयी राहों पर
    कहाँ नेह बरसते देखा
    bilkul sahi kaha hai kya hota ja rha hai kyo ?bhavna shuny hote ja rhe hai aaj ?kahi ham hi to iske jimmevar nahi?

    उत्तर देंहटाएं
  25. पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा

    sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  26. ,,,,एक बात और ....आपकी प्रोफाइल में लिखी कविता बहुत सुन्दर है ,,,कम शब्दों में बेहतरीन और सार्थक रचना ..,पढ़कर अच्छा लगा !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. "
    "मैंने कितनी धारें बदलीं,
    हर पल अपनी राहें बदलीं
    नाते-रिश्ते, दुनियादारी,
    जाने कितनी बाहें बदली
    पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा"रचना आपने बहुत सुंदर लिखा सच मच हर शब्द साधा हुआ लिखा है.. बहुत सुंदर भाषा!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. "
    "मैंने कितनी धारें बदलीं,
    हर पल अपनी राहें बदलीं
    नाते-रिश्ते, दुनियादारी,
    जाने कितनी बाहें बदली
    पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा"रचना आपने बहुत सुंदर लिखा सच मच हर शब्द साधा हुआ लिखा है.. बहुत सुंदर भाषा!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. कोशिश करनी होगी - इन नई राहों में नेह बरसे.

    उत्तर देंहटाएं
  30. कभी भूल गए थे जिन राहों को

    कल मैंने उन पर चल कर देखा
    aapki ye poori rachna bahut hi pasand aai main apne blog par jab kuchh panktiyan dekhi is rachna ki tabhi utavali ho uthi padhne ko aur kud aai tippani karne .bahar rahi ek mahine se do din pahle lauti hoon ,man to nahi raha abhi judne ka magar fikr sabhi sathiyon ki khinch laai .aur kholte hi aapki rachna ke shabd -shabd man ki baate kahne lage mujhse .aur rahat mili ....

    उत्तर देंहटाएं
  31. कभी भूल गए थे, जिन राहों को
    कल, मैंने उन पर चल कर देखा
    भूली बिसरी यादों संग चलना अच्छा लगता है

    शानदार रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  32. मैंने कितनी धारें बदलीं,
    हर पल अपनी राहें बदलीं
    नाते-रिश्ते, दुनियादारी,
    जाने कितनी बाहें बदली
    पर, आस बिछाए, सांसें ओढ़े
    उनको फिर भी जगते देखा

    सुंदर भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  33. शब्दों में खूबसूरती से पिरोये गए एहसास......
    बहुत सुन्दर!

    शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  34. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...