रविवार, 16 अक्तूबर 2011

तन्हाई


तन्हाई



कभी फुर्सत में देखती हूँ 
अपने घर से 
पीछे वाले घर की 
एक विधवा दीवार. 
तनहा 
अधमरा पलस्तर 
दरकिनार हो चुका उससे.
शांत, उदास, मायूस 
अपने साथ जुड़े घर की तरह.
मिलने जुलने वालों में, 
दुख बाँटने वालों में 
बची है तो बस 
एक हवा और धूप. 
देखती हूँ 
अचानक बरसात के बाद  
घर का तो पता नहीं
पर दीवार बहुत खुश है. 
नए मेहमान जो आये हैं 
कुछ नन्ही पीपल की कोपलें, 
नन्ही मखमली काई 
और फिर 
उनसे मिलने वाले नए आगंतुक  
तितली, चींटीं, कीड़े, मकोड़े, 
कुछ उनके अतिथि 
गौरय्या, कबूतर 
और न जाने कौन कौन ...
खूब चहल पहल है. 
घर का तो पता नहीं 
पर हाँ! दीवार बहुत खुश है.
सोचती हूँ 
पर कितने दिन ....  

59 टिप्‍पणियां:

  1. खूब चहल पहल है.
    घर का तो पता नहीं
    पर हाँ! दीवार बहुत खुश है.
    सोचती हूँ
    पर कितने दिन

    दीवारों का खुश होना... यह प्रतीक अच्छा लगा।
    बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्य-धन्य यह मंच है, धन्य टिप्पणीकार |

    सुन्दर प्रस्तुति आप की, चर्चा में इस बार |

    सोमवार चर्चा-मंच

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह कविता कल्पना का अप्रतिम उदाहरण है। ऐसे सृजन पढ़ के अच्छा लगता है। तभी तो लिखा था


    कवि की नज़र से बच सका हो, कौन सा वो मर्म है।

    दीवाल को ले कर बहुत सुंदर कथ्य, उस के मेंहमानों का अद्भुत विवेचन। और अंत में 'कितने दिन' के माध्यम से शासवत सत्य का सुंदर निरूपण।

    बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर ... बहुत प्रभावित करती हुई प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना, प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें .

    उत्तर देंहटाएं
  6. दीवार खुश है , मगर घर के पतन की दास्ताँ सुना रही है ।
    काश उस घर में भी ऐसे ही ख़ुशी होती !

    नजदीक से जांची परखी सुन्दर प्रेक्षण ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीवार की प्रसन्नता ..अद्भुत मेहमानों से ... साधारण सी बात से असाधारण बात कह जाना ... इंसान के मन की तन्हाई में तो चींटी ..कीड़े मकौड़े भी नहीं आते ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. दीवार के बिम्ब का सुन्दर प्रयोग किया है और ज़िन्दगी की सच्चाई को सुन्दरता से उकेरा है एक प्रश्नचिन्ह के साथ्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर कविता

    आपकी कल्पना को दाद देता हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  10. "यह रचना कल्पना की, अद्भुत एक उड़ान.
    कहाँ पहुच सकता नहीं, एक कवी का गान"

    बिम्बों और प्रतीकों का क्या मनमोहक प्रयोग किया है आपने...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना जी, फिर से बेमिसाल रच दिया है..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक विधवा दीवार.
    तनहा
    अधमरा पलस्तर
    दरकिनार हो चुका उससे.
    शांत, उदास, मायूस
    अपने साथ जुड़े घर की तरह.

    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये चहल-पहल ही ज़िन्दगी में ख़ूबसूरती भरती है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब कोई साथ नहीं देता है तब तन्हाई साथ देती है.
    आपकी कविता बहुत सुन्दर है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. रचना जी,अपने नाम के अनुरूप ही 'तन्हाई,की रचना की है मुझे बहुत अच्छी लगी,बधाई... फालोवर बन गया हूँ,फुर्सत निकाल कर कभी मेरे पोस्ट पर आइये स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  16. घर की दीवारें खुश होती हैं, बतियाती हैं और आपकी कविता में तो कुछ अधिक ही भावपूर्ण वार्त्तालाप होता है उनका!!
    बहुत अच्छी रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक विधवा दीवार का नियति से सामंजस्य ,बिल्कुल ही नये प्रतिबिम्ब.बहुत ही अभिनव कल्पना.

    उत्तर देंहटाएं
  18. Rachna.. sahi hi naam h aapka.. rachne ki adbhut kshamta.. aur us se bhi zyada mehsoos karne ki.. har baar ek hi baat likhti hu magar padh kar bas yehi khayaal aata h k aap behad alag hain... hamesha ki tereh lajawab kar dene wali kavita...

    उत्तर देंहटाएं
  19. ओह!! क्या क्या देख लेती है आपकी नज़र...हर चीज़ को एक नया अर्थ मिल जाता है..
    बेहतरीन!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. यही है कवि दृष्टि, धन्‍यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  21. दीवार का अद्भुत मानवीकरण किया है आपने
    My Blog: Life is Just a Life
    My Blog: My Clicks
    .

    उत्तर देंहटाएं
  22. @
    सोचती हूँ पर कितने दिन ....

    वाकई दिन सीमित हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. एकाकी जीवन के सुख-दुःख का बहुत ही सजीव वर्णन ...
    शब्दों का चयन और प्रवाह .....अदभुत

    उत्तर देंहटाएं
  24. दीवार के अस्तित्व और भावनाओं का उत्कृष्ट चित्रण किया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपका ये हौसला_अफज़ाई का अंदाज भी दिल चीर
    आपका लेखन तो सुन्दर है ही आपके ब्लॉग में भी बहुत कशिश है कुछ हमारा भी मार्गदर्शन कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  26. हवा और धूप का आना जाना बना रहे तो बस फिक्र किस बात की है... बहुत सुंदर कविता मन को महकाती हुई सी!

    उत्तर देंहटाएं
  27. अहसासों का ताना बाना ... दीवार को बिम्‍ब बना बहुत ही खूबसूरती से तनहाई को लिखा ...बहुत बढि़या।

    उत्तर देंहटाएं
  28. मायूसी और ख़ुशी स्थायी नहीं होती !
    हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  29. संदेश तो काफी गूढ दिया है इस कविता के माध्यम से।

    उत्तर देंहटाएं
  30. उतार चढाव और उहापोह ..
    अनिश्चित भविष्य को इंगित करती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुंदर प्रस्‍तुति।
    गहरे भाव।
    आभार..............

    उत्तर देंहटाएं
  32. अनुपम एवं अद्भुत कल्पना है रचना जी ! 'जहाँ न पहुँचे रवि वहाँ पहुँचे कवि'! आपने इसे चरितार्थ कर दिया है ! दीवार के प्रतीक के साथ एकाकीपन, उपेक्षा और उदासी तथा फिर बरसात के बाद आये सामयिक परिवर्तनों से मिलने वाली खुशी की क्षणभंगुरता को बड़ी संवेदना के साथ उकेरा है ! इतनी सारगर्भित रचना के लिये आपको बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं




  33. आदरणीया रचना जी
    सस्नेहाभिवादन !

    आपकी सूक्ष्म दृष्टि को सलाम और भावुक हृदय को नमन !
    संवेदनाओं को वही पहचान सकता है जिसने इन्हें जिया हो …
    आपकी इस कविता के संपूर्ण परिवेश के साथ मैं इन पंक्तियों के रचाव के समय आपकी रचनाकार को साक्षात् देख रहा हूं … … …
    देखती हूँ अचानक बरसात के बाद
    घर का तो पता नहीं पर दीवार बहुत खुश है ,
    नए मेहमान जो आये हैं
    कुछ नन्ही पीपल की कोपलें,
    नन्ही मखमली काई
    और फिर उनसे मिलने वाले नए आगंतुक
    तितली, चींटीं, कीड़े, मकोड़े,
    कुछ उनके अतिथि गौरय्या, कबूतर और न जाने कौन कौन ...
    खूब चहल पहल है !
    घर का तो पता नहीं पर हाँ! दीवार बहुत खुश है.
    सोचती हूँ पर कितने दिन ....
    इन मार्मिक संवेदनाओं की अनुभूति में भीग गया हूं …

    बेहतरीन रचना के लिए बधाई ! प्रणाम !

    मन से दुआ है , ख़ुशी दीवार की हो'कर रह जाए …हमेशा हमेशा के लिए …
    आमीन !


    दीपावली की अग्रिम बधाई और शुभकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  34. bas yahi kahungi shbd aur bhav dono kamal kya baat hai
    bahut sunder likha hai
    ek ek shbd sunder
    sochtihoon kab tak...............
    kya likha hai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  35. तनहाई न जाने क्यों नकारात्मक है। मुझे तो भीड़ ही चींटी और कीड़े-मकोड़े सी प्रतीत होती है। एक दिन यही उस अधमरे दीवाल को एकदम से मार डालेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  36. दीवार बहुत खुश है. सोचती हूँ पर कितने दिन .... sach samay kee maar kab kis par pad jaay..
    badiya rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत खूब ... इस दिवार की खुशी क्षणिक ही है ... घर से उसका अस्तित्व है ... अच्छा बिम्ब संजय है ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुन्दर शेली सुन्दर भावनाए क्या कहे शब्द नही है तारीफ के लिए ....बहुत ही खुबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  40. अदभुद प्रतीकों के प्रयोग से रचना भी अदभुद बन पड़ी है .........

    उत्तर देंहटाएं
  41. रचना जी इस रचना पर टिप्पणी करना अपने बस की बात नहीं है अद्भुत .......

    उत्तर देंहटाएं
  42. एक अलग सोच और नज़ारिया चीज़ों को देखने का.. बेहतरीन लगी यह रचना!
    तन्हाई किसी बेजान चीज़ को भी हो सकती है.. यह खूब बयां किया है आपने...

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  43. लाज़वाब प्रस्तुति. अपने आसपास की दशा जिसे हम अनदेखा करा देते हैं को दर्शाती आपकी सूक्ष्म दृष्टि...निशब्द कर दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  44. shabdo ki rachna bahut gahnta aur jiwan ka falasfa liye hai. hamesha ki tarah sunder bimb prteekon ka prayog.

    उत्तर देंहटाएं
  45. rachna ji
    pichhle teen dino se aapke post psr comments daal rahi hun par pata nahi kyon post nahi ho pa raha hai.shayad mere computer me hi koi gadbadi hai.
    dekhen punah koshishh kar rahi hun.
    aapki is rachna ka to jawab hi nahi hai .kahan se chun -chun kar laati hain itne addhbhut vichaar----
    shabdo ka chayan bhi bemisaal
    bahut bahut hi achha laga
    hardik badhai
    vaise bhi aap ki har rachna ek naya hi roop liye hoti hai.
    aapki is anupam kriti ke liye hardik badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  46. समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  47. कविता में आपका दार्शनिक अंदाज अदभुत अहसास कराता है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    'नाम जप' पर अपने विचार और अनुभव
    प्रस्तुत करके अनुग्रहित कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  48. aloha rachanaravindra.blogspot.com blogger found your website via search engine but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have discovered website which offer to dramatically increase traffic to your website http://xrumerservice.org they claim they managed to get close to 1000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my blog. Hope this helps :) They offer webmaster service seo strategy backlinks high pr backlinks Take care. John

    उत्तर देंहटाएं
  49. Excellent blog post, I have been reading into this a bit recently. Good to hear some more info on this. Keep up the good work!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...