रविवार, 19 जून 2011

अलौकिक मिलन


अलौकिक मिलन


कब से वो एक दूसरे को ताका करते थे दूर से, 
कल जब रात मिलन की आई,
सारी दुनिया कैसे जान गयी?
कोटिक आखें,  
अलौकिक मिलन निहारने को आतुर.
शायद उन्हें भी आभास था. 
तभी तो बादलों को 
समझाया, बुझाया और मनाया 
और तान दी बादलों ने काली रुपहली चादर,
उस प्रेमी युगल के चारों ओर. 
जाने क्या क्या हुआ फिर 
प्रणय प्रलाप, प्रणय विलाप, प्रणय निवेदन,
बाहों के झूले और प्रणय समर्पण,
संभवतः बादल भी ये देख 
खो गया अपनी दुनिया में 
लगा देखने बदली को 
अपनी बाँहों में भरने का ख्वाब. 
वो थोड़ा सकुचाया, शर्माया और सिमट गया.  
उस पल मैंने या शायद कोटि चक्षुओं ने देखा 
प्रेमी युगल को इक दूसरे की बाँहों में. 
उसने भी मुझे देखा.
हया का सुर्ख़ नारंगी रंग 
फैल गया उसकी देह पर.
प्रेमिका अवाक् थी, 
स्थिति से अनभिज्ञ थी. 
हाँ! मैंने देखा धरती और चाँद को,
 एक दूसरे की बाँहों में. 
सोचती हूँ,
 मैं तो होती हूँ,
 जब तब अपने प्रियतम की बाँहों में. 
उफ्फ्फ ... पर उनका क्या 
जो सदियों बाद कभी मिलते हैं.

(चित्र साभार गूगल से)

52 टिप्‍पणियां:

  1. अलौकिक मिलन की सुंदर मनोहारी व्याख्या ...... बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं तो होती हूँ,
    जब तब अपने प्रियतम की बाँहों में. उफ्फ्फ ... पर उनका क्या
    जो सदियों बाद कभी मिलते हैं.

    ग्रहण पर पृथ्वी से चाँद का मिलन सचमुच अलौकिक भाव प्रस्तुत किया है आपने. बढ़िया कविता के लिए बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. देखा धरती और चाँद को, एक दूसरे की बाँहों में.
    bahut sundar abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्राकृतिक सौन्दर्य का अद्भुत चित्रण ।
    बहुत बढ़िया रचना जी ।
    ऐसा ही एक नज़ारा हमने भी देखा अभी विमान से ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. चंद्र ग्रहण विषय पर सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. ग्रहण का खूबसूरत चित्रण .. अलौकिक भाव

    उत्तर देंहटाएं
  7. बरसात का आलम और प्रेमी-प्रेमिका पर आपकी प्यारी सी कविता पढ़ते पढ़ते एक फ़िल्मी प्यारा सा गाना याद आ रहा है.२ पंक्तियाँ आप भी सुन ही लीजिये रचना जी.
    बूंदे नहीं सितारे टपके हैं कहकशां से.
    सदके उतर रहे हैं तुम पर ये आसमां के.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वहुत सुंदर कोमल भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी, जो एहसास रखता है,वो ही दूसरों की व्यथा महसूस कर सकता है| मेरा... ऐसा ही मानना है |
    खुश रहिये |

    उत्तर देंहटाएं
  10. खगोलीय घटना का सुँदर मानवीकरण . आप एकदम मस्त बिम्बों के प्रयोग में माहिर है . प्रेमी, प्रेमिका दोनों खुश होगे आपकी इस कविता को पढ़कर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हया का सुर्ख़ नारंगी रंग
    फैल गया उसकी देह पर
    प्रेमिका अवाक् थी
    स्थिति से अनभिज्ञ थी
    हाँ! मैंने देखा धरती और चाँद को
    एक दूसरे की बाँहों में

    प्रकृति की एक दुर्लभ घटना और उसके पात्रों का मानवीकरण....
    अद्भुत है आपकी कल्पना।

    बेमिसाल कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन पर खगोलीय बिम्ब सुन्दर से सजा दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस कविता को पढते पढते मुझे ""कामायनी"" में 'श्रध्दा' का प्राक्रतिक चित्रण याद आने लगा

    उत्तर देंहटाएं
  15. . पर उनका क्या
    जो सदियों बाद कभी मिलते हैं !
    is tdap aur bachaini ko vykt karti bemisal rchna !

    उत्तर देंहटाएं
  16. लौकिक से अलौकिक की ओर............ प्रेम परिहास

    खगोलीय घटना की भावपूर्ण काव्य प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाँ! मैंने देखा धरती और चाँद को,
    एक दूसरे की बाँहों में.
    सोचती हूँ,
    मैं तो होती हूँ,
    जब तब अपने प्रियतम की बाँहों में.
    उफ्फ्फ ... पर उनका क्या
    जो सदियों बाद कभी मिलते हैं.

    Kya khoob likha hai!

    उत्तर देंहटाएं
  18. us aluakik milan ki hriday tak pahunchti rachna ke liye...aabhar:)
    is rachna ko padhte-padhte bahut hi sunder drishya dikhla diya aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  19. rachna ji bahut hi behatreen aur man ko gududane wali rachna bahut hi badhiya lagi.is aluokik milan ka aanad aapki is par bhar pur vistar se bhi hua.
    bahut khoob
    badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  20. चंद्रग्रहण को खूबसूरती से शब्दों में पिरोया आपने ..
    इस अलौकिक मिलन ने आपको दुखी भी किया , अपने सुख में भी दूसरों के दुःख को याद रखना ,
    प्रकृति के मानवीकरण के साथ मानवीय भावनाओं का संतुलन बेजोड़ !

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ख़ूबसूरत चित्र ! सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  22. अहा.. प्रकृतिप्रेम और उस पर छायावाद की रहस्यमयी छाया मन पर जादू सा कर देती हैं और हमें एक अलौकिक दुनिया में ले जाती है....

    उत्तर देंहटाएं
  23. लोग तो इन्सान को इनसान नहीं समझते ,पर आपने तो प्रकॄति को ही मानवीय जामा पहना दिया ....बहुत ख़ूब ...... आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  24. chandra grhan ka bakhoobi bahut sunder dhang se prastuti.dil ko choo gai.badhaai aapko.






    please visit my blog.thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  25. अद्भुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

    उत्तर देंहटाएं
  26. यह मिलन तो अलौकिक ही होगा....
    बहुत ही सुन्दर चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  27. चन्द्र ग्रहण जैसे विषय पर इतनी भावपूर्ण रचना के लिये बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  28. वाह ...खूबसूरत अहसास ..भावमय करते शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. वह वह क्या बात है बहुत ही अच्छा पोस्ट है !मेरे ब्लॉग पर आ कर मेरा होंसला बढाए !
    Download Movies
    Lyrics Mantra+Download Latest Music

    उत्तर देंहटाएं
  30. रश्मि प्रभा जी ने कहा "अलौकिक चित्रण" - आपकी इस अद्भुत प्रस्तुति की तारीफ़ में जितना कहा जाइ उतना ही कम है

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहतरीन अभिव्यक्ति .....

    उत्तर देंहटाएं
  32. gahan adhyayan kiya lagta hai jab inka milan hua hoga...aapne aisa kuchh socha hoga.

    उत्तर देंहटाएं
  33. अलौकिक सुन्दर। न चाँद ने आस्मा छोडा न धरा उड के गयी फिर भी मिलन तभी तो अलौकिक है\

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.'अलौकिक मिलन' के माध्यम से
    सुखद अनुभव कराया है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  35. सोचती हूँ,
    मैं तो होती हूँ,
    जब तब अपने प्रियतम की बाँहों में.
    उफ्फ्फ ... पर उनका क्या
    जो सदियों बाद कभी मिलते हैं.

    Really very thoughtful creation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  36. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  37. मिलन की सुंदर मनोहारी व्याख्या, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  38. मिलन की सुंदर मनोहारी व्याख्या ,सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  39. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  40. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा होगी शनिवार (25-06-11 ) को नई-पिरानी हलचल पर..रुक जाएँ कुछ पल पर ...! |कृपया पधारें और अपने विचारों से हमें अनुग्रहित करें...!!

    उत्तर देंहटाएं
  41. उफ़!कितना गहन...अलौकिक.. लिख दिया..बढ़िया.. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  42. प्रणय प्रलाप, प्रणय विलाप, प्रणय निवेदन,
    बाहों के झूले और प्रणय समर्पण,

    बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  43. अद्भुत है आपकी कल्पना।
    vikasgarg23.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...