रविवार, 5 जून 2011

गिद्ध


गिद्ध

आज कल एक अजीब सी बीमारी से ग्रसित हूँ 
जिधर देखो गिद्ध ही नज़र  आते हैं
सुना था मृत शरीर को नोचते हैं ये 
पर..... 
ये तो जीवित को ही
कभी मृत समझ बैठते हैं
कभी  मृतप्राय बना देते हैं 
नोचते हैं देह. 
गिद्धों की प्रजाति के 
हर आकार प्रकार को साकार करते 
कुछ बीमार से लगते हैं.
पाचन तंत्र अपने चरम पर है पर 
भोजन नलिका का मुंह संकरा हो चला है. 
छोटी से छोटी फाइल अटक जाती है 
इलाज के लिए 
खाते हैं वो कुछ रंग बिरंगी 
आयुर्वेदिक लाल, हरी, नीली, पीली पत्तियां,
और फिर जी उठते हैं.
पर्यावरणविद् कहते हैं
लुप्त हो रहे हैं गिद्ध......
आज एक बार फिर 
न्यूटन ने  अपने आप को सत्यापित किया है.
उर्जा का ह्रास नहीं होता,
वो एक से दूसरे में परिवर्तित होती है.
पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
पर उनकी उर्जा,
धरती के गिद्धों को
लगातार स्थानांतरित हो रही है.

48 टिप्‍पणियां:

  1. गिद्ध एक पारंपरिक विम्ब है जिसका आपने नवीन सन्दर्भ में उपयोग किया है ..बढ़िया कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गिद्ध को आपने नवीन अर्थों में प्रस्तुत किया है ....यहाँ हर बार पैदा होते हैं नए नए रूपों में गिद्ध अपने स्वार्थों कि पूर्ति के लिए ...! आपने बहुत सुन्दरता से भावनाओं को अभिव्यक्त किया है ..आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. पारंपरिक गिद्ध पर्यावरण के लिए सहायक सिद्ध होते हैं । लेकिन ये आधुनिक गिद्ध तो पूरी सृष्टि पर ही बुरी दृष्टि लगाये बैठे हैं ।
    अच्छा चिंतन ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (6-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. giddh bhee kabhee giddh par apanee nazar nahee rkhte par aaj ka samay offfff...........
    sarthak lekhan


    पाचन तंत्र अपने चरम पर है पर भोजन नलिका का मुंह संकरा हो चला है.

    sshakt lekhan .

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक गहन अभिव्यक्ति ... जहाँ एक ओर लोंग भ्रष्टाचार से त्रस्त हैं तो दूसरी ओर ये गिद्ध बिना कुछ खाए कोई काम नहीं करते ... बहुत सटीक और सही बिम्ब से उभरा है भ्रष्टाचार को .

    उत्तर देंहटाएं
  7. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,पर उनकी उर्जा,धरती के गिद्धों कोलगातार स्थानांतरित हो रही है.
    बिलकुल सच । आप किसी बीमारी से ग्रसित नहीं । बहुत अच्छी प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
    पर उनकी उर्जा,
    धरती के गिद्धों को
    लगातार स्थानांतरित हो रही है.
    Afsos! Lekin bahut sahee kaha!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
    पर उनकी उर्जा,
    धरती के गिद्धों को
    लगातार स्थानांतरित हो रही है.

    मैं तो कहूँगा:-
    वाह वाह वाह वाह ...........रचना जी.
    इन गिद्धों से राम बचाए.

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचना जी!
    आपकी उपमाओं के तो कायल हैं हम.. और ये रूपांतरित गिद्ध तो वाकई ज़िंदा इंसानों को नोच नोंच कर खा जाते हैं..
    करारा व्यंग्य!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. दराल साहिब की टीप से १००% सहमत .....

    आधुनिक गिद्ध की परिभाषा बखूबी से बताए है

    उत्तर देंहटाएं
  12. सही कह रही ही ....
    गिद्धों की कहीं कमी नहीं , सिर्फ पहचानने की जरूरत है !
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सटीक तुलना रचना जी । जितनी भी तारीफ करूँ , कम होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. .पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,पर उनकी उर्जा,धरती के गिद्धों कोलगातार स्थानांतरित हो रही है.
    ... sukshm drishtikon

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक नए प्रतीक के साथ बिल्कुल अनछुए भाव को कविता में समेकित किया है आपने।
    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. yatharth ko jivant karne ka prayas sarhaniya hai .bahut achha

    उत्तर देंहटाएं
  17. जीवित को जीतने से अधिक प्रिय है मरों को नोचना, इन गिद्धों के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  18. brhstachaar ki bykhyaa anoothe roop se kiya hai.bahut hi shaandaar rachanaa.alag tarah ki abhibyakti.badhaai sweekaren.



    please visit my blog.thanks

    उत्तर देंहटाएं
  19. छोटी से छोटी फाइल अटक जाती है
    इलाज के लिए
    खाते हैं वो कुछ रंग बिरंगी
    आयुर्वेदिक लाल, हरी, नीली, पीली पत्तियां,

    बहुत ही नायाब अभिव्यक्ति
    सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज कर ऐसे गिद्ध जगह जगह फैले हुवे हैं ... अच्छी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. गिद्दों के लुप्तप्राय होने का कारण - गजब और इतना सटीक कि आपकी सोच से इर्ष्या होने लगी है - पढवाने के लिए बधाई तथा आभार

    उत्तर देंहटाएं
  22. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  23. न्यूटन के उर्जा सिद्धांत का कविता में प्रयोग नवीन मगर सटीक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत जबरदस्त प्रयोग....मान गये!!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. गिद्धों की ये परिभाषा अच्छी रही

    उत्तर देंहटाएं
  26. आज एक बार फिर
    न्यूटन ने अपने आप को सत्यापित किया है.
    उर्जा का ह्रास नहीं होता,
    वो एक से दूसरे में परिवर्तित होती है.
    पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
    पर उनकी उर्जा,
    धरती के गिद्धों को
    लगातार स्थानांतरित हो रही है.

    बढ़िया कटाक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सलीके से लिखी गयी ...धारदार व्यंग्य रचना

    उत्तर देंहटाएं
  28. सटीक बिम्ब का सहारा ले गंभीर बात कही आपने......

    सत्य कहा गिद्ध कभी समाप्त न होंगे,बस उनका रूपांतरण भर होगा चरित्र नहीं बदलेगा...

    उत्तर देंहटाएं
  29. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,पर उनकी उर्जा,धरती के गिद्धों कोलगातार स्थानांतरित हो रही है.

    बहुत सटीक कटाक्ष...सच में आज गिद्धों का नए रूप में अवतरण हो रहा है...लाज़वाब प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  30. सुन्दर रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति
    बधाई हो आपको - विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  31. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
    पर उनकी उर्जा,
    धरती के गिद्धों को
    लगातार स्थानांतरित हो रही है.

    तीखा कटाक्ष...संवेदनशील कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  32. आज कल एक अजीब सी बीमारी से ग्रसित हूँ जिधर देखो गिद्ध ही नज़र आते हैंसुना था मृत शरीर को नोचते हैं
    ......बिलकुल सच ....बहुत अच्छी प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    उत्तर देंहटाएं
  34. पेड़ पर गिद्ध भले ही लुप्त हो रहे हों,
    पर उनकी उर्जा,
    धरती के गिद्धों को
    लगातार स्थानांतरित हो रही है.
    बिलकुल सच कहा\ बहुत अच्छी लगी रचना। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  35. science aur kavita achchha prayog hai
    baat bilkul sahi hai ki gidh apni urja zamin ke gidhon me transfar kar rahe hai ati sunder
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत बढिया व्यंग्य, बहुत अच्छी उपमा, बहुत अच्छी कविता।
    ये कौये और गिध्द
    कर रहे अपना मतलब सिध्द

    उत्तर देंहटाएं
  37. वाह रचना जी, आपने क्या बढ़िया व्यंग्य कसा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. rachna ji
    sarvpratham to badhai kabul kariye is teekhi ,karari aur jhannate dar sahi mayano me smaj ko cahritarth karne wali sateek vyngatamata liye hue kavita ke liye.
    bahut sundar bib ka sahara liya hai aapne .
    pahle ye giddh mare huon ko khate nochte the .
    par aaj ke giddh to jinda ya yun kahiye ki sabut hi nigal jaane ko har pal taiyaar hai .bas mouka milne ki der hai.
    bahut hi shandar abhivykti ke liye punah badhai---
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  39. क्या बात ..... गहन अभिव्यक्ति..... एक अलग सा बिम्ब लेकर रची सार्थक कविता ......जागृत करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  40. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  41. A fantastic satire on the degraded mentality of so called ultra modern 21st century humans.
    Well written !!!

    उत्तर देंहटाएं
  42. वाकई यह हर जगह हैं बस आसानी से दिखाई नहीं देते ! शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  43. अच्छा चिंतन ।बढ़िया कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  44. एकदम अलग तरह की कविता होती है आपकी..

    उत्तर देंहटाएं
  45. hr vykti ke bheetar ek ram our ek ravan hota hai . ye dono hr desh kal me ek sath jnm lete hai our ravan chahe kitna bhi shktishali kyon naho jeetta ram hi hai . in giddho ki umr jyada nhi hoti , ha hmara mnobal angad ke pair jaisa adig hona chahiye our sch ki ldai me ye takat bhut aavshyak hai bhi .
    aapki prstuti ravan ko benkab krti hai
    jagrookta jgane wali is trh ki rchnao ki bhut jroorat hai . aapko dhnywaad .

    उत्तर देंहटाएं
  46. hr vykti ke bheetar ek ram our ek ravan hota hai . ye dono hr desh kal me ek sath jnm lete hai our ravan chahe kitna bhi shktishali kyon naho jeetta ram hi hai . in giddho ki umr jyada nhi hoti , ha hmara mnobal angad ke pair jaisa adig hona chahiye our sch ki ldai me ye takat bhut aavshyak hai bhi .
    aapki prstuti ravan ko benkab krti hai
    jagrookta jgane wali is trh ki rchnao ki bhut jroorat hai . aapko dhnywaad .

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...