रविवार, 5 दिसंबर 2010

अंधियारा

अंधियारा

                                                                                     
मैं अपने घर के आसपास
देखती हूँ
सफ़ेद उजले
कहीं सुनहरे कही रुपहले
बड़े बड़े घर
हर तरफ उजाला
हर तरफ ख़ुशी
कैसे सहेजे रहते हैं ये
इतना उजाला
इतनी ख़ुशी
कल पूरब में
तेज रौशनी के बीच
सूरज की एक खिड़की खुली थी
देखा
दूर फर्श पर
एक कोने में
कैद अंधियारा सुबक रहा था.

49 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बार कहीं अंधियारे के लिए कोई कविता पढ़ी है...
    बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक कोने में
    कैद अंधियारा सुबक रहा था.
    chup karaya kya ? siskiyaan band nahin hoti , main aaun ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. Raushni ka yehi to khel hai isme har koi sukh ki chhaya sath le k chalte huye dikhta h.. asli mann stithi to andhiyaare me hi prakat hoti h.. sundar kavita,hamesha ki tereh :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूरज की खिडकी खुली ..फिर अँधियारा का अस्तित्व कहाँ ? तभी बेचारा रो रहा होगा .....लेकिन रोशनी का एहसास भी तो तभी होता है जब अँधेरे के एहसास से गुज़रे हों ....अच्छी और सोचने पर मजबूर करती रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर चित्र के साथ बहुत ही सुंदर कविता. गहरे जज्बात भरे है

    उत्तर देंहटाएं
  6. अँधियारे का यूँ ही दुबक जाना। वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अँधेरे को तो कैद में ही रहना चाहिए .... अछा लिखा है ..
    .

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन में अँधियारा न हो तो उजाला क्या है ये समजह कैसे आएगा ?
    बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. andhere par kavita.. achhi lagi.. naya vimb hai.. man ke bhitar kaa andhiyaara kai baar priy lagta hai.. uske liye samvedna bhi jagti hai.. bhetareen poetry

    उत्तर देंहटाएं
  10. मन के भीतर छुपा अंधियारा कितने ही सूरज उग जायें तब भी दूर नही होता वो तो इसी तरह सिसक रहा होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बड़ी बड़ी अट्टालिकाओं की धूप में दम तोड़ते अंधेरे झोंपड़े आपकी कविता की तरह लगते हैं..
    बहुत ही सुंदर रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सोचने पर विवश करती कविता.अभी भी मष्तिष्क में घूम रही है

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक
    कोने में कैद
    अंधियारा सुबक रहा था.
    प्रकाश को देख कर अँधेरे का सुबक जाना ...सही बिम्ब प्रयोग किया है ....अर्थपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. जीवन में धूप छाँव , उजाला अँधेरा , फिज़ा और खिज़ा --साथ साथ ही चलते हैं ।
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. rachna ji
    bahut hi sundar. abhi tak ujala hi ujala,ujale aur andhere me ladai padhi v likhi thi par aaj andhere par ujale ki jeet dekh rahi hun.
    ek vicharniy post bhi.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छी लगी इस कविता की भाभिव्यक्ति। अंधेरे के प्रति कहीं न कहीं कवयित्री के मन में दया भाव है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. उजियारे के लिए अँधेरे को तो दुबकना ही होगा ....!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अंधेरो से प्यार होना एक नई बात है.. नया विम्ब है.. अच्छी लगी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  19. देखादूर फर्श पर एक कोने में कैद अंधियारा सुबक रहा था.
    ..........
    सूरज के होते अँधेरे का क्या काम . आशा का विम्ब लिए रोचक कविता शुभकामना .

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह! कविता मन के उस कोने तक भी पहुंची जहाँ एक छोटा सा अंधियारा न जाने कब से सुबक रहा था !
    बधाई हो, अच्छी अभिव्यक्ति!
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  21. देखा
    दूर फर्श पर
    एक कोने में
    कैद अंधियारा सुबक रहा था.
    बहुत खूब। सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. अँधेरे का जीवंत वर्णन किया है आपने. साधुवाद

    आपका स्वागत रहेगा

    http://arvindjangid.blogspot.com/
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी कविता कुछ सोंचने के लिए मजबूर कर रही है। मेरे ब्लाग पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. सूरज की खिड़की खुले तो अंधियारे को सिसकना ही है। सकारात्मक सोच।

    उत्तर देंहटाएं
  25. दूर फर्श पर
    एक कोने में
    कैद अंधियारा सुबक रहा था

    उफ्फ! सटीक व्यंग्य नकली आधुनिकता के पीछे दौड़ती भयावह मानसिकता की साच्चाई पर| बधाई रचना जी|

    उत्तर देंहटाएं
  26. गहन अनुभूति से पूर्ण एक सुन्दर भावमयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  27. गहन अनुभूति से पूर्ण एक सुन्दर भावमयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  28. ujale me andhera kahin chhupkar royega hi..
    'itni uzala'ki jagah 'itna ujala'
    kar den..
    achchhi post.

    उत्तर देंहटाएं
  29. हा...हा..हा...हा...अंधियारे की यही तो नियति है....सूरज निकलते ही सिमट जाना....चाहे वो बाहर का हो....या मन के भीतर का.....खैर आपकी कविता अच्छी बन पड़ी है.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. कहीं न कहीं, खुशियों के बीच कसक होती है तो यही अभिव्यक्ति उभरेगी रचना जी !
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति ! पता नहीं क्यों यह अधिक पसंद आई !

    उत्तर देंहटाएं
  31. यही तो रोशनॊ का कमाल है ! अच्छी कविता ! मैं आप को फ़ोलो कर रह हूं ! कृप्या म्रेरे ब्लोग पर आ कर फ़ोलो करें व मर्ग प्रशस्त करे !

    उत्तर देंहटाएं
  32. देखा
    दूर फर्श पर
    एक कोने में
    कैद अंधियारा सुबक रहा था.

    बहुत खूब ....
    सूरज के पास इतनी ताकत तो है कि वो अंधियारे कैद कर ले ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुंदर रचना ,,,भाव मयी
    मेरे ब्लॉग पर भी पधारे
    http://babanpandey.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  34. नया ब्लॉग देखकर भूलजाना नहीं अच्छा।

    उत्तर देंहटाएं
  35. aapkee lekhan kshamata ko naman..........

    bahut badiya........

    उत्तर देंहटाएं
  36. रचना जी बहुत सुंदर कविता है

    उत्तर देंहटाएं
  37. बिम्बोँ को बहुत ही खूबसूरती से चित्रित किया है । रचना जी बहुत ही लाजबाव है आपकी रचना। आभार जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  38. देखा
    दूर फर्श पर
    एक कोने में
    कैद अंधियारा सुबक रहा था.

    बिलकुल अलग सी सोच है...बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  39. कल यानी १७ - १२ २०१० को आपकी यह सुन्दर कविता चर्चामंच पर होगी.. आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  40. बहुत ही खुब लिखा है आपने......आभार....मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित नई रचना है "प्रभु तुमको तो आकर" साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत सूक्ष्म भाव संजोया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  42. अंतिम पंक्तियों से सारी सोच ही बदल गयी. बहुत ही अच्छी कविता!

    उत्तर देंहटाएं

  43. दिनांक 13/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ऎसा क्यूँ हो जाता है......हलचल का रविवारीय विशेषांक.....रचनाकार...समीर लाल 'समीर' जी

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...