रविवार, 28 नवंबर 2010

आकर्षण

आकर्षण



कुछ लोग अत्यधिक सख्त होते है,

या हो जाते हैं.

जैसे कि तुम.

सबने तुम्हें आज़मा के देखा.

मैंने भी,

अंतर इतना ही था,

कि सब नमी से, व्यथित थे.

और मैं, नमी के लिए.

जानती जो हूँ, कि नमी के बिना,

मेरा अस्तित्व ही नहीं,

एक वो ही है, जो मुझे,

तुम्हारे नजदीक लाती है.

तुम्हारे नजदीक आते ही

फैलती हूँ, बिखरती हूँ.

मैं लिपटती हूँ, तुम्हारी देह से.

पाती हूँ सम्पूर्ण अपने आपको.

और जानते हो तब कैसी,

लालिमा निखरती है तुम्हारी काया पर.

क्या कहूँ अब,

जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,

तुम्हारा सामीप्य पाने को.

मुझे जंग होना ही पड़ा है.



(चित्र गूगल से साभार)

52 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय रचना जी
    नमस्कार !
    बहुत सुंदर रचना एक दम अलग हटके भाव लिए हुए !
    अपने आप को समझना और समझाने की प्रक्रिया है इस रचना में .. लाजवाब .....
    आपकी रचनात्मकता लाजबाब है

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ लोग अत्यधिक सख्त होते है,
    या हो जाते हैं.
    जैसे कि तुम.
    सबने तुम्हें आज़मा के देखा.
    मैंने भी,
    इतनी गम्भीरता ला दी रचना में कि रचना अनेकार्थी हो गई है

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभाव छोड़ने में कामयाब रचना के लिए बधाई ! ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.

    ,...बढ़िया बिम्ब

    सुन्दर प्रभावपूर्ण कृति

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.

    जंग भी तो नमी से ही लगा है ...बहुत खूबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीया रचना जी
    बहुत ही अलग अंदाज़ में बहुत कुछ कह देती है आप की ये कविता.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना जी.. जीवन के समीकरण को आकर्षण के रूप में आपकी प्रस्तुति अदभुद है.. जीवन के अनछुए पहलु को कितनी सहजता से व्यक्त करती हैं आप कि विस्मित रह जाता हूँ मैं.. बहुत सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  8. लौह-अयस्क में भी आपको प्रेम के सूत्र दिख गये, कठोरता और जीवन्तता का सटीक संयोजन।

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बहुत ही नवीन व्याख्या या कहें उपमा कि लोहे का सानिंघ्य पाने को जंग बनजाना

    उत्तर देंहटाएं
  10. रचना जी, आज तो आपने भूले बिसरे सूत्र याद दिला दिए. फेरस, फेरिक और फेरेसोफेरिक ओक्साइड के माध्यम से रिश्तों की पहचान... अयः रचना खुद से मिलाने का अनुभव दे गयी..

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना जी ..
    आपकी रचना तो हमेशा ही अछि होती है...लेकिन इस बार कुछ ख़ास है....
    बहुत अच्छा...

    उत्तर देंहटाएं
  12. रचना जी

    आज फिर आपकी कविता ने दिमाग और दिल दोनों को खुश कर दिया....

    Oxidation of iron को जों आपने इमोशनल टच दिया लाजवाब है

    उत्तर देंहटाएं
  13. विज्ञान के बेहतरीन तर्कों का भावनाओं से अद्भुत मिलन - आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. गज़ब का बिम्ब प्रयोग और उतनी ही सुन्दर भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. नए बिम्ब हैं ... अच्छा लगा ...
    आप लौह में भी कविता ढूढ़ लिए ... कमाल है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    बहुत सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहतरीन प्रस्तुति .गहरे जज्बात के साथ लिखी गई सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  18. नमी और जंग का खूब इस्तेमाल किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  19. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    क्या उपमा है रचना जी. बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  20. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    भाव के अनुकूल बिम्ब का सुंदर प्रयोग ...
    शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या कहूँ अब,
    जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.

    एक नई बात है इन पंक्तियों में ,बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  22. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,

    तुम्हारा सामीप्य पाने को.

    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    रचना कामाल की अभिव्यक्ति है प्यार का एहसास करवाने के लिये जंग का बिम्ब बहुत अच्छा लगा। इस्को आगे बढाऊँ----
    और जब जंग अपना असर दिखायेगा
    तो जानते हो
    तुम तुम नही रह जाओगे
    तब तुम्हारी पहचान मुझ से होगी
    और लोग कहेंगे
    जंग खाये हुये एक लौह पुरुष
    आजमा कर देख लो
    हा हा हा धृ्ष्ठता कर रही हूँ । लेकिन अंजाम तक जाये बिना कैसे चलेगा। बधाई इस रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  23. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,

    तुम्हारा सामीप्य पाने को.

    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    रचना कामाल की अभिव्यक्ति है प्यार का एहसास करवाने के लिये जंग का बिम्ब बहुत अच्छा लगा। इस्को आगे बढाऊँ----
    और जब जंग अपना असर दिखायेगा
    तो जानते हो
    तुम तुम नही रह जाओगे
    तब तुम्हारी पहचान मुझ से होगी
    और लोग कहेंगे
    जंग खाये हुये एक लौह पुरुष
    आजमा कर देख लो
    हा हा हा धृ्ष्ठता कर रही हूँ । लेकिन अंजाम तक जाये बिना कैसे चलेगा। बधाई इस रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  24. Hi..

    Teri kavita jab bhi padhi hai..
    Wo sabse hai alag lagi..
    'AKARSHAN' bhi humko 'RACHNA',
    si hi anupam hamen lagh..

    Har kavita main teri..
    Ek naveen sa bhav dikha..
    'LOHE' sang 'JUNG' ka rishta..
    Na humko yah 'PREM' dikha..

    'Wah'..RACHNA ji ki rachnasheelta vilakshan hai.. Eshwar aapke lekhan ko naye aayam de..

    Sundar kavita..

    Deepak..

    उत्तर देंहटाएं
  25. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    .....

    तुम डाल डाल हम पात पात. तुम्हें पाने के सौ सौ जतन हमने किए . तुम्हारी रहगुजर पर चलते चले गए. खूबसूरत रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने ! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब लगा! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  27. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी इस रचना का लिंक मंगलवार 30 -11-2010
    को दिया गया है .
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.

    क्‍या बात है इतना करीब से गुजरे यह शब्‍द ...।

    उत्तर देंहटाएं
  29. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है !
    बहुत ही खीझ भरा बिम्ब का प्रयोग है ! सचमच काफी गुस्सा निकलता हुआ सा प्रतीत हो रहा है ! राहत पहुचने वाली कविता के लिए खुल कर बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  30. bahut hi gambhirta liye hue prabhav shali rachna.
    badhai.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  31. आदरणीय रचना जी
    नमस्कार ! बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. इस आकर्षण को कितना अद्भुत रूप दे दिया आपने। यह आकर्षण नहीं, प्रेम है। जहां इतनी शिद्दत हो, इतना महसूस करने का भाव हो। अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  33. जब से धरा है तुमने लौह रूप , मुझे जंग होना ही पड़ा है ...
    इस प्रेम भाव के आगे कौन नतमस्तक नहीं होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  34. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  35. कुछ लोग अत्यधिक सख्त होते है,
    या हो जाते हैं.
    जैसे कि तुम.
    सबने तुम्हें आज़मा के देखा.
    मैंने भी,
    बहुत ही अर्थपूर्ण रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  36. रचना जी ,
    लोहे को अगर जंग लग जाये तो किसी काम का नहीं रहता ......
    उसे साफ़ करना पड़ता है ...दोबारा काम में लाने के लिए .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  37. रचना माँ,
    नमस्ते!
    अटेंडेंस तो आपकी लग ही गयी.
    खैर, हम आये हैं तो क्लासवर्क, होमवर्क करके ही जायेंगे....
    नमी का क्या है? आपको ज़ंग लगाके....
    अब अगर मैं ऐसे ज़ंग लगाने लगूं.... तो हो गया बस!
    हा हा हा.....
    आशीष
    ---
    नौकरी इज़ नौकरी!

    उत्तर देंहटाएं
  38. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    जंग के बिना लोहे का अस्तित्व ही कहाँ ?
    खूबसूरत बिम्ब |

    उत्तर देंहटाएं
  39. रचना दीक्षित जी
    अभिवादन !

    कोमल भावनाओं को उद्घाटित करती इस रचना ने शुरू से आख़िर तक बांधे रख …
    सब नमी से, व्यथित थे,
    और मैं, नमी के लिए

    नमी में ही संभावना है नई कोंपलों के लिए … !

    जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.


    आपका समर्पण भाव स्तुत्य है ।

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  40. Fir se behad alag kism ki upmaaon se susajjit behad khubsoorat kavita :)

    उत्तर देंहटाएं
  41. आपके समर्पण भाव से ओत-प्रोत रचनाये और जिंदगी के अनछुए पहलु पर लिखी रचनाये हर बार हतप्रभ कर जाती है और सोचने पर मजबूर करती हैं कि मैं क्यों नहीं लिख पाती इतनी अच्छी रचना.

    बहुत ही खूबसूरत.

    उत्तर देंहटाएं
  42. भावनाओं को नए तेवर की चासनी में डुबो कर प्रस्तुत किया है !
    कविता को जितनी खूबसूरती से आपने गढ़ा है ,पाठक को ये उतनी ही मजबूती से बांधती है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  43. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,

    तुम्हारा सामीप्य पाने को.

    मुझे जंग होना ही पड़ा है.
    Wah! Kya baat kahee hai! Aapki ye rachana mujhse kaise chhoot gayee?
    Aaur maine bhee aaj hee aapko yaad kiya tha!

    उत्तर देंहटाएं
  44. ओह.... दर्द को ऐसे व्यां किया
    जैसे मुर्छित को अंगारे छुला दिया..].

    उत्तर देंहटाएं
  45. जब से धरा है तुमने ये लौह रूप,
    तुम्हारा सामीप्य पाने को.
    मुझे जंग होना ही पड़ा है.

    इतना सक्षम और सटीक उदगार........... भई वाह| आपकी कल्पना शक्ति को नमन|

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...