रविवार, 21 नवंबर 2010

तपिश

तपिश




जब भी महसूस करती हूँ,

सूरज की अत्यधिक तपिश.

जाने क्यूँ मुझे लगता है,

मेरा बचपन लौट आया है.

सोचती हूँ,

चुरा लूँ इसकी कुछ तपिश.

सजाऊँ अपनी छत,

नन्ही नन्ही डिबियों वाले,

कुछ आयताकार पटल से

कैद कर लूँ चोरी की ये तपिश.

उन नन्ही डिबियों में.

ताकि सूरज उन्हें वापस न ले जा सके.

फिर सारा दिन खिड़की से,

उसके जाने की राह तकूँ.

जाते ही उसके

घर के हर कोने में,

अपनी मन पसंद आकर के,

छोटे बड़े सूरज उगाऊं.

पूरे घर के हर कोने को,

सूरज की रोशनी से नहलाऊँ.

यूँ लगे की यहाँ हर रोज दीवाली है.

अब बताना तुम्हें है कि,

मेरा बचपन लौट आया या

मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.



(चित्र साभार गूगल से)

38 टिप्‍पणियां:

  1. अब बताना तुम्हें है कि,
    मेरा बचपन लौट आया या
    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.
    sundar bhavavyakti , badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन भाव और सरल भाषा में सौर ऊर्जा संरक्षण का सार्थक सन्देश देती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. "अब बताना तुम्हें है कि,
    मेरा बचपन लौट आया या
    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ. "... बचपन और सम्वेदना के द्वन्द में लिखी गई एक सुन्दर कविता... अब संवेदना बचपना ही लगता है... आपका बचपन लौट आया है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूरज में करोड़ों दीवाली विद्यमान हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचना जी! ऊर्जा संरक्षण और सौर ऊर्जा के उपयोग को इतनी सुंदरता से आपने पिरोया है अपनी रचना में कि लगता है मानो सारे शहर में इस कविता के पोस्टर लगाए जाने चाहिए, कम से कम स्कूलों में तो अवश्य... वो बचपन जिसे आप जीवन के इस पड़ाव पर याद कर रही हैं, आपकी सम्वेदना से पगकर, उन्हीं बच्चों के हवाले की जानी चाहिये, जो इसे आगे ले जा सकें. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति .. कर लो सूरज मुट्ठी में!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब बताना तुम्हें है कि,
    मेरा बचपन लौट आया या
    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.


    संवेदनशील होना कोई गलत तो नहीं और न बचपना होना ... अपने अपने स्थान पर दोनों ही महत्व रखते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. जाते ही उसके
    घर के हर कोने में,
    अपनी मन पसंद आकर के,
    छोटे बड़े सूरज उगाऊं.

    बहुत सुन्दर भाव ...उर्जा प्रदान करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. Samvedansheel to ap hamesha se hi thi..shayad chhupa hua bashpana laut aaya h :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी ,
    हृदय के स्पंदन को छूती आप की इस कविता में जीवन के नए छितिज को छूने का आग्रह विद्यमान है !
    इतनी सुदर अभिव्यक्ति के लिए बधाई !
    आपके ब्लॉग पर आना सार्थक हुआ !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर कविता |
    शायद बचपन ही तो लौट आया है रौशनी के साथ|

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sunder bhavo ko sanjoye sunder rachana.
    bachapan kisee koune me chipa rahta hai vo jab chahe ubhar aata hai....hai na chamatkarik shakti humare paas .

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut sunder bhavo ko sanjoye sunder rachana.
    bachapan kisee koune me chipa rahta hai vo jab chahe ubhar aata hai....hai na chamatkarik shakti humare paas .

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sunder bhavo ko sanjoye sunder rachana.
    bachapan kisee koune me chipa rahta hai vo jab chahe ubhar aata hai....hai na chamatkarik shakti humare paas .

    उत्तर देंहटाएं
  14. छोटे बड़े सूरज उगाऊं.
    पूरे घर के हर कोने को,
    सूरज की रोशनी से नहलाऊँ.
    यकीनन अन्धेरे के खिलाफ सूरज उगाना ही होगा

    खूबसूरत भाव

    उत्तर देंहटाएं
  15. संवेदनशील व्यक्ति ही बच्चों की तरह इतनी उर्जा सहेज सकता है।
    ...बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना मंगलवार 23 -11-2010
    को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. रचना जी,
    सूरज से धूप चुराकर रखना और सूरज के ढलने का इंतजार करना इतना बाल-सुलभ चित्रण अद्भुत है.हम बचपन में दीपावली की बची हुई मोमबत्तियां चुनकर दीप जलाया करते थे वह भी मां से छुप-छुपाकर.बेहतरीन प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बढ़िया है ...सुंदर भाव ...शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं
  19. अब बताना तुम्हें है कि,
    मेरा बचपन लौट आया या
    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.
    बेहद सुन्दर भाव संग्रह्………बचपन और संवेदनशीलता को खूब पिरोया है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. जीवन के इस आपाधापी में आपका बचपन कितना मासूम और निर्मल है। कविता में बचपन की खिलखिलाहट गूंज रही है। खूबसूरती से पिरोया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बचपन मे ही मर्जी के चाँद सूरज उगाये जा सकते हैं। बहुत सुन्दर कविता। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बचपन या संवेदनशीलता जिंदगी में गहन अर्थों के एक से एक अनूठे आयाम रच देता है, जो आपाधापी भरे जीवन में हम कई बार देखने और समझने से चूक जाते हैं. गहन अर्थों और आयामों को समेटे बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  23. सूरज को कई अर्थों में संजोना चमत्कृत करता है!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  25. संवेदना लौट आई है ...या बचपन ...
    खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  26. मेरा बचपन लौट आया या

    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.

    Sach Bachpan ka jamana achha tha
    jab har koi kitna sachha tha

    उत्तर देंहटाएं
  27. कैद कर लूँ चोरी की ये तपिश,
    उन नन्ही डिबियों में. !!! छोटी छोटी रोशनियों को बचा लेने का मोह ! बहुत सुंदर अनुभूति को स्वर दिया है आपने !समवेदन शील तो थी ही अब उसके पन्ने खुलने लगे हैं धीरे धीरे !बहुत दिनों बाद कुछ कहना चाहा है , देख लीजियेगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  28. "जाते ही उसके
    घर के हर कोने में,
    अपनी मन पसंद आकर के,
    छोटे बड़े सूरज उगाऊं.
    पूरे घर के हर कोने को,
    सूरज की रोशनी से नहलाऊँ.
    यूँ लगे की यहाँ हर रोज दीवाली है"

    हमेशा की तरह निराले अंदाज में उत्कृष्ट रचना - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  29. मन की संवेदनशीलता को बहुत सुंदर बिम्बो से सवार है जो आशावादी होने की तरफ इन्गति करता है.सुंदर मार्मिक गहन अर्थो से भरी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  30. aapki is rachna ko padhkar bachpan ko beete hue pal yaad aa gaye hai .. bas chupchaap rahne ke ka man kar raha hai ..

    bahut sundar rachna

    badhayi

    vijay
    kavitao ke man se ...
    pls visit my blog - poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  31. अब बताना तुम्हें है कि,
    मेरा बचपन लौट आया या
    मैं अधिक संवेदनशील हो गयी हूँ.

    न बचपना है और न संवेदना है ये
    मन में उमड़ घुमड़ रही इक भावना है ये .

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत बढ़िया ...
    लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. सोचती हूँ,
    चुरा लूँ इसकी कुछ तपिश.
    सजाऊँ अपनी छत,
    नन्ही नन्ही डिबियों वाले,
    कुछ आयताकार पटल से
    कैद कर लूँ चोरी की ये तपिश.
    उन नन्ही डिबियों में.
    ताकि सूरज उन्हें वापस न ले जा सके.

    सबकुछ खेल-खिलौनों सा लगता है बचपन के दिन में...बढ़िया कविता..प्रस्तुति के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  34. संवेदनशीलता और बचपन की अनुभूतियों से सराबोर यह कविता लाजवाब है. इसमें आपकी संकल्पना देखते ही बनती है.

    उत्तर देंहटाएं
  35. kavita me suraj ki tapish ko bachpan se joda..........jabki photo me saur urja se.........wah!!

    bahut khubsurat abhivyakti..

    उत्तर देंहटाएं
  36. संवेदनशील होना इस समय की सबसे बड़ी ज़रूरत है

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...