रविवार, 19 जुलाई 2015

याददाश्त

याददाश्त 

 मैं कुंठित हूँ,
व्यथित हूँ,
क्षुब्ध हूँ, 
क्या हृदय ही जीवन है ?
मैं भी तो हृदय की खुशी में खुश 
उसके दुख,
असफलता, 
दर्द, पीड़ा में 
उसके साथ ही 
ये सब अनुभव करता हूँ 
फिर हृदय ही क्यों 
क्या सही रक्तचाप, 
हृदय गति
रक्त विश्लेषण 
और
धमनियों में वसा 
न जमने देना ही 
जीवन है 
जब भी हृदय होता है 
क्षुब्ध, कुंठित, 
मैं सहमता हूँ, 
सिकुड़ता हूँ 
अवसादग्रस्त होता हूँ, 
भूल बैठता हूँ,
अपने आप को 
धीरे धीरे देता हूँ 
शरीर को
भूलने की बीमारी 
मैं, हाँ! मैं
मस्तिष्क का
उपेक्षित हिस्सा 
अध:श्चेतक (हाइपोथेलेमस) हूँ 
जब भी किसी
अनहोनी के बाद
आता है चिकित्सक
जांचता है,
देता है,
दवाइयां जाने किसकी. 
नहीं सोचता, है तो,
मेरे बारे में.

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना पांच लिंकों का आनन्द में सोमवार 20 जुलाई 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हृदय और मस्तिष्क के मध्य यह द्वंद्व ही तो मानव को जीवन भर कचोटता रहता है..दिल को महत्व दो तो दिमाग उपेक्षित रह जाता है और दिमाग की सुनो तो दिल सूना सा अनुभव करता है..दोनों में दोस्ती हो जाये तो बात बन जाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. विज्ञानं और भावनात्मक जीवन में गहरा तारतम्य स्थापित करती हैं आपकी रचनाएं ...
    बहुत गज़ब की प्रस्तुति है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी और सच्ची रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  5. लीक से हट कर सुन्दर यथार्थ परक रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  6. लीक से हटकर एक शानदार रचना प्रस्तुत की है आपने रचना जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाओं और सोच की प्रतिस्पर्धा कभी ख़त्म नहीं होती ....क्या सही क्या ग़लत

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक दम, अलग कविता ............गजब !! अच्छा लगा, नया पढ़ कर !

    उत्तर देंहटाएं
  9. मस्तिष्क को आधार बना कर पीड़ा को अभिव्यक्ति प्रदान करना । पहली बार देखा है पढ़ा है । रोचक भी लगा ।
    बहुत जबरदस्त ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. पीड़ा को अनुभूत करने वाले की पीड़ा का अनोखा विश्लेषण ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. विज्ञानं और भावों का अद्भुत सामंजस्य...कुछ अलग सी लेकिन बहुत प्रभावी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  12. मष्तिष्क को काव्य रूप में समझना बहुत रुचिकर लगा ...

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...