रविवार, 7 जुलाई 2013

कभी यूँ भी ..

कभी यूँ भी ..

मेरे शहर का एक 
पांच सितारा होटल 
कागज का टपकता 
चाय का कप 
उसे सहारा देने को 
लगाया गया एक और कप 
दुबली पतली काली निरीह 
जाने कैसी चा..य ..
यूँ लगा उसे पानी कह कर पुकारूँ 
अगले ही पल सोचा 
पानी की इस तंगी में 
कल के अखबार की 
सुर्खियाँ ना बन जाए  
"पानी की आत्महत्या"
ढूंढती हूँ कप में चाय 
समझने लगती हूँ 
उसका दर्द  
कभी सजी संवरी सी रहने वाली वो 
दूध के दो छींटों बाद भी 
रोती बिलखती वो विधवा 
चाय और कॉफी
झांकती हूँ उसके कप में
उसे विधवा कहूँ, विधुर कहूँ 
क्या कहूँ, कुछ न कहूँ  
मेरे शहर का एक 
पांच सितारा होटल 
 
 
[५ जुलाई २०१३पुरानी दिल्ली का ओबेरॉय मैडेन  पांच सितारा होटल एक आयोजन जिसमे भाग लेने के लिए भरे थे मैंने ४६०००रूपये ]

39 टिप्‍पणियां:

  1. छियालीस हज़ार रुपए ?????????? और फिर भी चाय की ऐसी दुर्दशा .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल के अखबार की
    सुर्खियाँ ना बन जाए
    "पानी की आत्महत्या"
    ढूंढती हूँ
    कप में चाय समझने लगती हूँ
    उसका दर्द
    कभी सजी संवरी सी रहने वाली
    वो दूध के दो छींटों बाद भी
    रोती बिलखती वो विधवा
    चाय और कॉफी
    झांकती हूँ उसके कप में
    उसे विधवा कहूँ, विधुर कहूँ
    क्या कहूँ, कुछ न कहूँ
    यहाँ से जाऊँ कैसे ??

    उत्तर देंहटाएं
  3. सितारा व सितारों की बात ही कुछ ऐसी है.मुझे याद है सन २००४ में बम्बई के चर्चगेट स्टेशन के बाहर एक सड़क के किनारे एक चायवाले से लगातार ८ कप चाय पी गया था ..मेरे साथ तीन और मित्र थे ...वो भी ८ कप वाले.. और पूरा बिल शायद ६०-७० रूपये. आजतक यादें जिंदा हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कहूँ, कुछ न कहूँ
    बहुत ही बढ़िया रचना लिख डाली आपने दी

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [08.07.2013]
    चर्चामंच 1300 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद सरिता जी मेरी रचना को चर्चामंच में शामिल करने के लिए.

      हटाएं
  6. व्यंग की तीखी धार .....बढ़िया....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ye kya rachna ji .......................chay thi ya .............

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर प्रस्तुति
    आभार आदरेया

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबशूरत अहसास सुंदर प्रस्तुति (kindly share your posts if pssible )

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  11. उन्होंने छियालीस हज़ार चाय के थोड़े ना लिए होंगे !
    चाय तो कम्पलीमेनट्री थी जी।
    अब मुफ्त की तो ऐसी ही होती है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. कवि मन की यही विशेषता है -- वह हर बात को बारीकी से देखता है।
    सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अक्सर ऐसी जगहों पे ऐसी ही चाय कौफी होती है ... शायद किसी की पसंद तो हो ऐसी चाय की ... आपकी पारखी नज़र को सलाम ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. पांच सितारा होटल.............. और दो बूंद दूध के छींटों वाली चाय. पोस्ट तो बननी ही थी ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह बहुत ही सुंदर,

    चाय को चाय नही रहने ये लोग, सटीक बात

    यहाँ भी पधारे ,
    रिश्तों का खोखलापन
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

    उत्तर देंहटाएं
  16. waah ....bahut sahi bat kahii ....
    shandar post ...Rachna ji ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या हम उस ४६,००० का हिस्साब पूछ सकते है कि ऐसा कौन सा कार्यक्रम था ????

    उत्तर देंहटाएं
  18. अच्छी पोस्ट
    ऊची दुकान फीके पकवान
    शायद येही कहावत लागू होगी।।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अच्छी पोस्ट
    ऊची दुकान फीके पकवान
    शायद येही कहावत लागू होगी।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर प्रस्तुति पर आपको बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  21. झन्नाट ! पांच सितारा होटल ...पांच ....की चाय ???

    उत्तर देंहटाएं
  22. 46000 rupaye bharne ke baad bhi ye haal :-)) ... boodhe purane sach kahte the ... oonchi dukan ka feeka pakwan ...ha ha ha

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...