रविवार, 14 अप्रैल 2013

अनबुझे प्रश्न


अनबुझे प्रश्न


तुम मुझे बहुत याद आते हो,
मेरी तनहाइओं में,
सुनसान वीरानों में,
मेरे अनबुझे से प्रश्न।
क्यों होते हैं कुछ रिश्ते,
कांच से नाज़ुक,
कुछ ढाल से मजबूत,
कुछ रौशनी में परछाई, 
कुछ कागज़ पर रोशनाई।
तुम मुझे बहुत याद आते हो,
मेरे अनबुझे से प्रश्न।
क्यों नाज़ुक रिश्ता दरज़ता है।
क्यों मजबूत रिश्ता खड़ा रहता है।
क्यों परछाई रोशनी का
नहीं छोडती साथ।
क्यों कागज़ पर लिखा 
रिश्ता नहीं होता आबाद।
तुम मुझे बहुत याद आते हो,
मेरे अनबुझे से प्रश्न।

30 टिप्‍पणियां:

  1. सच है, बहुत कुछ अन्बुझ रह जाता है ...
    बेहतरीन!
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  2. सरे पर्श्नो के जवाब हमेशा नहीं मिलते कुछ न कुछ के नहीं मिल जवाब नहीं मिल पाते

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन-पथ प्रश्नों का उत्तर,
    एक मिल गया दूजा पथ पर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये अनबुझे प्रश्न ही तो शायद जीवन का मकसद होते हैं....
    एक खोज को प्रेरित करते...
    बेहतरीन रचना..
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही उम्दा
    अनबुझे प्रश्न अनिउत्तरित रह जाते हैं कभी-कभी
    सादर !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिसका उत्तर और भी तकलीफ देता है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये अनबुझे प्रश्न ही तो जीवन को गतिशील बनाते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनसुलझे प्रश्न के उतर पाने में जिंदगी गुजर जाती है फिर भी...आशा रहती है.बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच कहो तो ये बुझा हुआ ही है सब कुछ ... अनबुझा तो मन की एक स्थिति है जो समजने नहीं देना चाहती ...
    गहरे भाव लिए है रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्यों नाज़ुक रिश्ता दरज़ता है। क्यों मजबूत रिश्ता खड़ा रहता है। क्यों परछाई रोशनी का नहीं छोडती साथ। क्यों कागज़ पर लिखा रिश्ता नहीं होता आबाद।,,,,यही अनबुझे प्रश्न है जों सुलझ नही पाते जीवन भर ,,,,
    बहुत उम्दा प्रस्तुति,आभार

    Recent Post : अमन के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  11. jivan jatil prashno me ukjha khud kabhi sawal to kabhi jawab bhatakta rahta hai, sundar

    उत्तर देंहटाएं
  12. अबूझ रिश्तों को बुझाने की और सवालों के दायरे में लाने की बेहतरीन कोशिश!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन में प्रेम की अपनी एक जगह होती है
    उस जगह को तलाशती गहन अर्थ पूर्ण रचना
    भावपूर्ण
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्यू कागज़ पे लिख रिश्ता नही होता आबाद
    इन पंक्तियों पर अब क्या कहूं
    शायद रिश्ते वही होते हैं जो मन पर लिखें हो ।।
    आपको भी नवसंवत्सर कु अनेकानेक बधाई ।।।।

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्यू कागज़ पर लिखा रिश्ता नही होता आबाद
    इन पंक्तियों पर अब क्या कहूं।।
    शायद रिश्ता मन पर लिखा होता है।
    आपको भी नवसंवत्सर की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. क्यू कागज़ पर लिखा रिश्ता नही होता आबाद
    इन पंक्तियों पर अब क्या कहूं।।
    शायद रिश्ता मन पर लिखा होता है।
    आपको भी नवसंवत्सर की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. गहरी अभिव्यक्ति...दस्तक देते रहते हैं कितने ही ऐसे प्रश्न

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहद की खूबसूरत अनुभूत अभिव्यक्ति -

    ये दुनिया तो मायावी है ,माया से भला कैसी यारी ,

    अपने तो दो ही ठिकाने हैं ,वैकुंठ दुनिया निराकारी ,

    धुंधला सा अंधियारा है ,दीपक से उजियारा होगा ,

    ये आँख भी तब का दीपक है ,ये ज्ञान जीवन दीपक होगा .

    यहाँ (लैकिक दुनिया में )हमारा तन होगा ,और वहां (पारलैकिक दुनिया ,परमधाम )हमारा मन होगा ,
    अरे! शिव की याद रहेगी तब ,आँखों में समाया होगा ,

    हम धन्य तभी बन पायेंगे ,जब ऐसा प्रिय जीवन होगा .ॐ शान्ति .

    उत्तर देंहटाएं

  19. ये आँख भी तन का दीपक है ,ये ज्ञान जीवन दीपक होगा .

    उत्तर देंहटाएं
  20. ज़िन्दगी में बहुत सारे प्रश्नों के उत्तर ही नहीं मिलते .....

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्यूँ,कहाँ ... किसी भी बात का उत्तर सहज नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  22. इन्ही अनबुझे सवालों का नाम जिंदगी है।
    बेहतरीन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर....बेहतरीन प्रस्तुति
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत से प्रश्नों का कोई जवाब नहीं होता

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...