शुक्रवार, 2 नवंबर 2012

करवा चौथ


करवा चौथ 
 
इस करवा चौथ
नहीं महसूस हुई तुम्हारी कमी
एक रात पहले ही भर जो लिए थे
बहुत से टिमटिमाते तारे आँखों में
न भूख, न प्यास,
न व्यथा, न प्रतीक्षा.
महसूस करती रही
हर टिमटिमाते तारे में तुम्हें
दिन भर जगमगाती रही
उसी प्रकाश में मैं
तारों ने भी अच्छी दोस्ती
कर ली थी एक दूसरे से
जानते हो फिर क्या हुआ
शाम होते ही एक दूसरे का हाथ थाम
आपस में मिल गए सब
और मेरे लिए मात्र मेरे लिए
बना दिया एक बड़ा सा चाँद
फिर क्या था
भरपूर निहारा उसे, पूजा उसे, 
गले से लगाया उसे
अब आसमान में चाँद
निकले न निकले... 

35 टिप्‍पणियां:

  1. एक अनूठी रचना ...
    ये चाँद आपके साथ बना रहेगा हमेशा ..
    मंगल कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर , स्नेह भरी रचना ... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. ढेर सारे तारों का एक चाँद....वाह क्या कल्पनाशीलता है...
    बहुत सुन्दर.

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई

    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद खूबसूरत अहसास संजोय भावमय करती अभिव्‍यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह क्या बात है .... अलग किस्म का चाँद ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुंदर स्नेह भरी भावभिव्यक्ति,,,

    RECENT POST : समय की पुकार है,

    उत्तर देंहटाएं
  8. उत्कृष्ट भावों की सहज अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह, प्रेम के कितने अनुपम भाव !
    बहुत सुन्दर !!
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं
  10. shubhkaamnaayen !!

    taaron ke prakaash se prakaashmaan kavita....

    saadar

    उत्तर देंहटाएं
  11. शानदार और सराहनीय प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह रचनाजी ...बहुत ही रास आया आपका यह चाँद ...वाकई अपने आप में अनोखा ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक रात पहले ही भर जो लिए थे
    बहुत से टिमटिमाते तारे आँखों में

    aapake shabdon ne karawan chauth par babuji ki yaad dila di maa ki aankhon men maine ye dekha hai.
    PRANAM SWIKAREN

    उत्तर देंहटाएं
  14. गगन चाँद तो बस प्रतीक है,
    मनशशि उदित यही सार्थक है।
    विगत रात्रि वह होता ओझल,
    इसकी ज्योति अचल व्यापक है।
    सुंदर सत्यमना रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. भावपूरित अनुप्राणित अनुभावों से अनुभूति की सघनता लिए अप्रतिम रचना .मेरे ब्लॉग पे आपकी टिप्पणी हमारे लिए बेशकीमती हैं .शुक्रिया .

    उत्तर देंहटाएं
  16. अब आसमान में
    चाँद निकले न निकले...

    वास्तविक चाँद से प्रेम की भीतर अभिव्यक्ति ...!

    उत्तर देंहटाएं
  17. कोमल और खुबसूरत भाव से
    सजी बहुत सुन्दर मनभावन
    रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  18. aajkal tumhare jaise chaand ki sabko aavashyakta hai....kash har koi pa leta aisa chaand.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  20. छोटी छोटी खुशियों से दामन भर लेने का सुन्दर सन्देश बहुत सुन्दर तरीके से ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. रचना जी ने रची ...अपने मन की सुंदर रचना ...
    दीपावली की शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut hi sunder kavita... pyar ke mithe ehsason se bharu hui. sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  23. हर शब्द लाजवाब हैं। प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुंदर प्यार भरी रचना...
    मैं एक योजना पर काम कर रही हूं. मेरे ब्लॉग पर आएं और अवगत कराएं...

    veena.rajshiv@gmail.com

    http://veenakesur.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...