रविवार, 2 सितंबर 2012

मुक्तक

मुक्तक


1.

एक बेबस सी औरत
जो खड़ी है ऐसे मंज़र पर
एक हाथ में कलम
दूसरे में दस्तरख्वान है
एक तरफ लज़ीज़ पकवान हैं
दूसरी तरफ दुःख की दास्तान है.

2.

लोग बन्दों को खुदा बनाते हैं
मैंने खुदा को बन्दा बनाने की
हिमाकत की है
वो जो बोलता नहीं
समय से पहले
अपनी गठरी खोलता नहीं
लोग कहते हैं
वही खुदा है
पर हर बन्दा जो हमको मिला
खुदा हो गया
खुदा की तरह न बोला, न मुस्कराया,
बस फना हो गया.

3.


आज हवा में कुछ हरारत सी है
कोई हया से पिघल गया होगा.
आज हवा में शरारत सी है
कोई शरीर दिल मचल गया होगा.
आज हवा में कुछ नमी सी है
कोई आंख भिगो गया होगा.
आज हवा में कुछ कमी सी है
कोई रुखसत हो गया होगा.

33 टिप्‍पणियां:

  1. वाह.....
    बहुत सुन्दर....
    सभी मुक्तक भावपूर्ण..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...
    सभी मुक्तक बहुत सुन्दर है..
    :-).....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हवा में ताजगी सा कुछ खोया तो लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ;सभी मुक्तक भावपूर्ण और खुबसूरत हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज हवा में कुछ हरारत सी है
    कोई हया से पिघल गया होगा.,,,सुंदर पंक्तियाँ,,,

    सभी मुक्तक पसंद आये,,,,बधाई,,,,

    RECENT POST,परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    उत्तर देंहटाएं
  6. हवा के रुख से मालुम हो जाता है बीमार का हाल ... बहुत खूब हैं सभी मुक्तक ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज हवा में भी कुछ नमी सी है
    कोई आँखें भिगो गया होगा ....

    बहुत गहरे भाव हैं रचना जी ....
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन .
    तीसरे में तो दुनिया समाई है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक औरत का खाका और खुदा की सूरत.. अंत में हवाओं से पता पाते हुए.. आपकी क्षणिकाएं खूबसूरती की मिसाल हैं.. हर बार कुछ नया कहने की आपकी कला इन रचनाओं में भी दिखाई दे रही है!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन के विविध आयामों को समेट लिया है क्षणिकाओं में, अंतिम रचना के लिये खास तौर से दाद कबूलें.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाव प्रवण कविता। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाव प्रवण कविता। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने रचना जी....

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. दूसरा मुक्तक लाजवाब है! भाव और शब्द दोनों सम्मोहित करते है.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. तीनो मुक्तक सारगर्भित हैं। तीसरा अधिक सुकून देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ! वाह!! खुदा और बंदा दो नहीं हैं..आखिर सिद्ध हो ही गया..हवा का भी दिल होता है यह भी..

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह ...सभी मुक्तक बहुत बढ़िया .... खुदा वाला बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  18. सचमुच किसी के रुखसत होने से कुछ कमी हो जाती है

    अच्छे लगे तीनों मुक्तक

    उत्तर देंहटाएं
  19. ये मुक्तक झटके में कुछ मुक्त कर गया..बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  20. यूँ तो सभी मुक्तक अच्छे लगे ,पर अंतिम वाला मन को भिगो गया .......

    उत्तर देंहटाएं
  21. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत खूबसूरत..!! और सुन्दर शब्दों का तानाबाना..
    सादर
    मधुरेश

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...