रविवार, 14 अगस्त 2011

साथ...


साथ...


बहुत दिनों बाद
बगीचे की सैर को पहुँची
मुझे देख
वहां के दरख़्त, पेड़, झाड़ियाँ
और यहाँ तक कि टूटे पत्ते भी
मुस्कुराये, खिलखिलाए, तालियाँ बजाईं.    
ठंडी हवा खिलखिलाई, खुशबू महकाई   
तारो ताजा हो उठी मैं, 
फिर उठी और चल पड़ी.
तभी बुजुर्ग दरख़्त की
एक डाली लटकी, लचकी और 
मेरे पास आई
और कानों में बोली
कभी आ जाया करो यहाँ भी
अच्छा लगता है.


(चित्र असम के शिवसागर में स्थित रोंगघर के अंदर से बगीचे का है, मेरे अपने चित्रों में से एक)

49 टिप्‍पणियां:

  1. खुबसूरत काव्यअभिव्यक्ति रुचिकर प्रसंग सुंदर बन पड़े हैं जी .... मुबारक ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. तभी बुजुर्ग दरख़्त

    बस इन बुजुर्ग दरख्तों का आशीर्वाद बना रहे ...और हम ताज़ी हवा लेते रहें ...वैसे आज वक़्त किसके पास है इन बुजुर्गों से मिलने के लिए ......चाहे वह दरख़्त हों या फिर घर के बड़े सदस्य ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है.

    बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति....
    रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह तो मैंने भी कहा था ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  5. जरूर जाया कीजिये बगीचे की सैर पर । बहुत खूबसूरत कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Bahut pyaree rachana hai!
    Swatantrata Diwas kee anek shubh kamnayen!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ताज़ा झोंके की तरह तरो ताज़ा करती रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. @तभी बुजुर्ग दरख़्त की
    एक डाली लटकी, लचकी और
    मेरे पास आई
    और कानों में बोली
    कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है...
    वाह,अंतर्मन को छू गयी आपकी रचना,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही मार्मिक बात कह दी आपने। आंख भर आई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति आभार

    रक्षाबंधन और स्वंतत्रता दिवस पर ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर ..संवेदनशील अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूबसूरत कविता...जीवन को देखने का नया नजरिया...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर रचना,
    भारतीय स्वाधीनता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह बहु्त सुन्दर भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बुजुर्गों के मन की बात को बूढ़े दरख़्त द्वारा कहलाना अच्छा लगा ..

    अब तो हमारे दिन भी आ गए हैं यह कहने के लिए कि -- कभी आ जाया करो यहाँ भी ..अच्छा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छा लगता है ...
    बहुत ही अल्हड सी ... लाजवाब रचना ... मज़ा आ गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. खुबसूरत अभिव्यक्ति....रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. रचना दीक्षित जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    बहुत प्यारी रचना है … भीतर तक पहुंचने वाली
    मुझे देख … दरख़्त, पेड़, झाड़ियां
    और यहां तक कि टूटे पत्ते भी
    मुस्कुराये, खिलखिलाए, तालियां बजाईं.

    ठंडी हवा खिलखिलाई, खुशबू महकाई

    तारो ताजा हो उठी मैं,


    आहाऽऽहाऽ……… !
    कितनी जीवंत … कितनी सरस रचना है …
    कभी आ जाया करो यहां भी
    अच्छा लगता है !

    आपके आने से हर ब्लॉग पर भी ऐसा ही कुछ होता है … :))
    मैं भी कहूंगा - आया कीजिए न !

    आपकी काव्य कला को नमन ! हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !


    रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना ! पौधे हों या इंसान मिलना जुलना सबको अच्छा लगता है...

    उत्तर देंहटाएं
  20. उम्र के आख़िरी पड़ाव में अकेलेपन के दर्द को अभिव्यक्त करती बहुत मर्मस्पर्शी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  21. सहज रूप में बुजुर्गों की पीड़ा की मार्मिक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर काव्यअभिव्यक्ति ...

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर भावाभिव्यक्ति .
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  24. "तभी बुजुर्ग दरख़्त की एक डाली लटकी,
    लचकी और मेरे पास आई और
    कानों में बोली कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है"

    काफी अर्थपूर्ण पंक्तियाँ लिखी हैं आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  25. atithi devo bhav....bas yahi bhaav hai aaj bhi....to aate raha karo na....:)

    sunder abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं
  26. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है...

    उफ्फ्फ ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. ise pahle bhi aakar laut gayi ,tippani box nahi khul raha tha .
    भी बुजुर्ग दरख़्त की एक डाली लटकी, लचकी और मेरे पास आई और कानों में बोली कभी आ जाया करो यहाँ भी अच्छा लगता है.
    ye panktiyaan rachna ki jaan hai ,bha gayi bahut ,sach har koi yahi chahta hai kuchh pal sang gujre .swatantrata divas ki dhero badhai aapko .

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  30. संवेदनशीलता उफान पर है .भावप्रवणता ने भिगो दिया .

    उत्तर देंहटाएं
  31. rachna ji
    aapne to gagar me sagar bhar diya wali kahavat ko charitarth kar diya hai .bahut hi gahri baat bahut hi saral shbdo me abhivykt kiya hai.is behtreen prastuti keliye
    bahut bahut badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  32. बुजुर्ग दरख़्त ...सुन्दर प्रस्तुति.स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  33. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  34. खुबसूरत भावाभिव्यक्ति.....भाव युक्त शब्दों का उतनी ही सुन्दर तस्वीर के साथ अद्भुत संयोजन.....सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह बेहतरीन !!!!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    जय हिंद जय भारत

    उत्तर देंहटाएं
  36. अब तो आप समझ ही गयी होंगी कि उन पीली पत्तों के पीले पड़ जाने का क्या कारण रहा होगा.. उस बीधे वृक्ष की बातें हम भी आपसे कहेंगे!!

    उत्तर देंहटाएं
  37. "तभी बुजुर्ग दरख़्त की
    एक डाली लटकी, लचकी और
    मेरे पास आई
    और कानों में बोली
    कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है."

    "बुजुर्ग दरख़्त" के छोटे से बिम्ब के सहारे यह कविता कितना कुछ कह गई,एक ऐसा सन्देश दे गई जिसे अपनाओ तो सुख,ठुकराओ तो दुःख का ढेर मिलेगा.रचना जी,आपकी भावनाओं और काव्य प्रतिभा को मेरा नमन है.देर से आने का पछतावा है.

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुन्दर रचना और तदोपरी सुन्दर चित्र !

    उत्तर देंहटाएं
  39. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें

    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में........

    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्
    वहा से मेरे अन्य ब्लाग लिखा है वह क्लिक करके दुसरे ब्लागों पर भी जा सकते है धन्यवाद्

    MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    उत्तर देंहटाएं
  40. तभी बुजुर्ग दरख़्त की
    एक डाली लटकी, लचकी और
    मेरे पास आई
    और कानों में बोली
    कभी आ जाया करो यहाँ भी
    अच्छा लगता है.............


    बहुत दिनों बाद आये है हम भी इन ब्लोग्स की हसीन वादियों में सच कहा आपने ..बहुत अच्छा लगता है आज आपकी कई रचनाएँ पढी .लेकिन ये बहुत खास और दिलकश लगी ..वैसे आप बहुत मेहनत करती है बहुत समर्पित है लेखन के प्रति ..बंधी स्वीकारें .
    और हाँ इतने लम्बे अरसे के बाद आने पर आपने हमारा जो हौसला बढ़ाया उसके लिए तह-ए-दिल से आभार

    उत्तर देंहटाएं
  41. Very useful reading. Very helpful, I look forward to reading more of your posts.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...