रविवार, 31 जुलाई 2011

श्वेत- श्याम


श्वेत- श्याम   


आज जिसे देखो, दीवाना है 
गोरे रंग का, 
लड़के, लड़कियां, उनके माँ, बाप
और शायद तुम भी...
पर मैं फिर भी
अपनी रंगत निखारने को 
कोई लेप नहीं लगाती
अपने चेहरे पर अपनी देह पर 
जानना नहीं चाहोगे क्यों ?
मेरी जिंदगी में जब से तुम ने दस्तक सी दी है 
अपने नाम के अनुरूप 
सूरज सा चमकाया है तुमने 
मेरी जिंदगी, मेरा मन,
मेरा घर और ....
मेरा सब कुछ.
मैं नहीं चाहती कि तुम्हारी किरण 
मेरे गोरे तन का स्पर्श करे
इक चुम्बन दे और लौट जाए.
मैं नहीं चाहती मात्र तुम्हारा स्पर्श 
और उसका अहसास 
मैं चाहती हूँ सोख लूँ 
तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद 
अपने अन्दर 
और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ 
तुम्हें सदा के लिए अपना बनाने को 
मैं बस श्याम, श्याम और श्यामल होती जाउं
और तुम मेरे मेरे और बस मेरे.

45 टिप्‍पणियां:

  1. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ

    खूब ...श्याम रंग का बिम्ब लेकर इतनी सुंदर प्रस्तुति..... बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं चाहती हूँ सोख लूं
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूँद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूं

    बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी जिंदगी में जब से तुम ने दस्तक सी दी है
    अपने नाम के अनुरूप
    सूरज सा चमकाया है तुमने
    मेरी जिंदगी, मेरा मन,
    मेरा घर और ....
    मेरा सब कुछ.pyaar ke rang ko koi lep nahi chahiye

    उत्तर देंहटाएं
  4. इससे अच्छा रंग और कहाँ ....यह सबकी किस्मत में भी नहीं !
    बधाई सूरज को !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अदभुत शानदार भक्तिमय प्रस्तुति.

    मेरे ब्लॉग पर आप आयीं इसके लिए बहुत बहुत आभार आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैं बस श्याम, श्याम और श्यामल होती जाउं
    और तुम मेरे मेरे और बस मेरे.

    बस इसके बाद कोई चाहत नही जब एकत्व मे समा जायें……………बहुत ही भावभरी भक्तिमय रचना………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. श्याम सोख लेता है हर रंग !बहुत सुंदर कविता । पिछले कुछ रविवार नई कविता पोस्ट नहीं हुई आपके ब्लॉग पर! शुभकामनाएँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ

    बहुत खूबसूरती से लिखा है सटीक वैज्ञानिक कारण ..सुन्दर बिम्ब ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. संवेदना का प्रतिबिम्ब यथार्थ -बोध को संयमित करता काव्य मन भाया जी ... सुंदर भाव को सम्मान जी ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. साँववले में तो श्वेत और श्याम दोनों ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्याम रंग को अद्भुत छटा - अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति.......बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ

    ......वाह बेहतरीन !!!!
    बहुत खूबसूरती से लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ

    नाज़ुक एहसासों में रची बसी पोस्ट का शुक्रिया....

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी ये कविता पढ़कर बहुत पहले अपनी लिखी दो पंक्तियाँ याद आ गयीं....
    सुबह होने की चाह नहीं मुझे
    मैं तो शाम होना चाहता हूँ,
    सुना है श्वेत लोगों को लग जाती है नज़र
    मैं हर जनम में श्याम होना चाहता हूँ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्या लिख दिया रचना जी . फेयर एंड लवली वाले आपसे नाराज़ हो जायेंगे :)
    बहरहाल इस सांवली सलोनी रचना में जो सुन्दरता नज़र आ रही है वह किसी गोरी में कहाँ .

    अति सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह ...बहुत ही बढि़या अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब लिखा है आपने ........

    उत्तर देंहटाएं
  21. ख़ूबसूरत कविता...
    वो गाना याद हो आया..."मोरा गोरा रंग लई ले...मोहे श्याम रंग दई दे..."

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह आपकी कविता में विज्ञान का कोई न कोई सिद्धांत रहता ही है... काला रंग सब समो लेता है और गोरा सब लौटा देता है इसीलिए श्याम काले थे !

    उत्तर देंहटाएं
  23. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ
    bahut khub likha hai bhavon ki abhivyakti kamal hai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! आख़िर इससे अच्छा रंग भला और क्या हो सकता है! शानदार प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  25. इतना समर्पण ही तो रिश्तों को अनंत बनाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. मैं बस श्याम, श्याम और श्यामल होती जाउं
    और तुम मेरे मेरे और बस मेरे.

    वाह.
    अनोखा अहसास.

    उत्तर देंहटाएं
  27. वाह,
    प्रेमिल अहसास का सुंदर प्रकटीकरण।
    बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  28. is rachna ko padh chuki rahi bahut sundar hai lekin tippani bhool se chhoot gayi ,apne purane mitro ke intjaar me hoon ,samya mile to aana .

    उत्तर देंहटाएं
  29. ye samarpan aur shyam rang ka sab kuchh khud me sama lena....sunderta se apni baat ko kah dala hai.

    badhay.

    उत्तर देंहटाएं
  30. श्याम रंग की अद्भुत छटा - अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  31. अब हम जैसे क्या कहें...:) हा हा!

    उत्तर देंहटाएं
  32. waah pyar se pare hain
    ye sab batain bahut
    acche se paribhashit
    kiya hai pyar ke is
    rang ko pyar ke rang
    se uncha koi rang nahi
    sirf rang hi nahi
    dharm bhed bhi...akshay-

    उत्तर देंहटाएं
  33. क्या लिखू... एक कविता में कितना कुछ समाया जा सकता है , ये इस कविता ने साबित कर दिया है .. दिल में कहीं भीतर समां गयी है ..

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं
  34. gazab ki nutanta hai rachna me..aur bahut sari saamjhdaari bhi...

    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  35. मैं चाहती हूँ सोख लूँ
    तुम्हारे प्यार की हर इक किरण और बूंद
    अपने अन्दर
    और फिर उसे कभी वापस न जाने दूँ

    एक नया अंदाज़ ।

    उत्तर देंहटाएं
  36. इसे कहते है श्यामल प्रेम !

    उत्तर देंहटाएं
  37. फ्रेंडशिप डे की शुभकामनाये

    इन जैसे मुददों पर विचार करने के लिए
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आपका स्वागत है।
    http://www.hbfint.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...