रविवार, 6 मार्च 2011

रुमाल


रुमाल
 

पुरानी फ़िल्में...
वो नायक नायिका का रूठना मनाना.    
नायिका के आंचल का उड़ना, 
नायक का उसे पकड़ना और फिर मान जाना.   
नायिका का रोना.
नायक का रुमाल निकालना,
आंसू पोंछना. 
रुमाल का कभी नायक के पास,
कभी नायिका के पास रह जाना.   
सारी उम्र उसे पास रखना.
सहेजना, प्यार करना, कभी उलाहना देना.
मैं भी तो तुम्हारे जीवन की नायिका हूँ. 
जब भी रूठी हूँ ,
उठा लाते हो कुछ पेपर नेपकिन. 
मेरे गालों के भीगने से भी पहले,
भीग जाते हैं वो, 
कहाँ सहेजूं, कैसे सहेजूं,
उन्हें दोनों हाथों के बीच गोल गोल घुमाते हो
फैंक देते हो डस्ट बिन में.
कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए. 
पर डरती हूँ कहीं  पूंछ न बैठो तुम,
तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.

58 टिप्‍पणियां:

  1. गहरे भाव कविता के, बात सहारे की थी, एक रूमाल ही सही।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत कुछ कह गई आप की रचना !
    न आज आँचल है न ही रुमाल रहा
    हवा मे उड गया दिल में न प्यार रहा

    उत्तर देंहटाएं
  3. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल. ...
    क्या बात है,आज आपकी लेखनी नें मेरे भी कई पुराने बीते हुए पलों की याद दिला दी.सुंदर रचना,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. न वो आंचल और न वो रुमाल रहे,
    तो क्या हुआ
    भावनाएं तो वही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.
    इस एक पंक्ति ने वर्तमान परिवेश की पोल खोल कर रख दी ।
    सच , वक्त के साथ ज़माना कितना बदल जाता है ।

    आज सुबह सुबह यह रचना पढ़कर बहुत अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब तो ज़माना ही डिस्पोसेबल चीजों का आ गया है ..शायद प्यार भी...और जिंदगी जैसे चलती हुई मशीन ..किसे फुर्सत कि रुमाल को सहेजे और कभी देखे उसकी तरफ !!...पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम, तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल .. बहुत अच्छी लगी आपकी ये कविता ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत भावना पूर्ण सन्देश और अहसास पूर्ण होता है कभी कभी यह रुमाल ...आपने इस रचना के माध्यम से कर दिया कमाल

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावप्रवणता और सुन्दर बिम्बों द्वारा मनोभावों और विचारो का प्रकटन .

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए,
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल।

    बदलते वक़्त के साथ-साथ जज़्बात और अहसासों में भी तब्दीलियां होने लगी हैं।
    अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ... क्या बात लिखी है ... सच है आज ज़माना बदल रहा है .. हर चीज़ बदल रही है ... भावनाएं भी बदल रही हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.
    बहुत खुब बहुत गहरे भाव लिये हे आप की यह रचना.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए,
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल।
    क्या बात है रचना जी. परिवर्तन की खूबसूरत कविता. बहुत ही सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. rachna ji
    bahut hi gahrai se likhi bahut gahre bhav abhvyakt prastut karti aapki kavita behad hi achhi lagi
    aaj aapki kvita ne kaiyo ke doli ki purani yado ko nisandeh taza kar di hogi
    bahut hi bhav -bhini prastuti
    badhai
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  14. पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल।
    स्वयं से सवाल करती रचना.रुमाल के सहारे बहुत कुछ कह गयी आपकी कविता .

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. गहरे भावो से भरी कविता . बात तो भाव्नाओ की होती है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.
    Kya baat kah dee! Bahut bhavuk ho,hai na?

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्यों नहीं रखते हो
    इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.

    भावनाओं को गहन अर्थ दिए हैं ...आज के परिवेश को भी कह दिया है ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुंदर रचना ...... साथ की बात है यहाँ भले ही रुमाल ही जरिया क्यों ना हो.....

    उत्तर देंहटाएं
  20. रुमाल और आँचल तो प्रतीक मात्र है ...भावनाओं की ऐसी क़द्र अब कहाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  21. itni gahri baat...........sach me hamare life style ne sab kuchh badal diya..!

    rumal ko paper napkin ke sahare aapne bahut pyara sa manobhav darshane ki koshish ki hai........

    sarahniya..!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बदलते समय के साथ प्रेम के प्रतीक और स्वरुप भी बदल रहे हैं. शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  23. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.......

    मामला गंभीर है...

    उत्तर देंहटाएं
  24. गहरे भावों से पूर्ण बहुत सुन्दर संवेदनशील रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  25. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.
    bahut badhiya ,hardeep ji bahut sahi baat kahi ,aaj aadikaal se bhi badtar haalat ho rahe hai .gahri aur sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  26. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. विगत का वर्तमान के संग एक सजीव जोड़, एक सजीव चित्रण. रुमाल ने भी इश्क में बड़ा काम किया है पर अब वह अंदाज़ बहुत कम रह गया है. रुमाल की भींगी खुशबू की तरह महकती कविता है यह.

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत खूब , नया अंदाज़ !! आपको शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  29. अरे .. कविता एक धार से चल रही थी मीठी मीठी... और अचानक... एक बहुत बड़ी बात कह गयी.. abrupt change ..bahut khoob ///sundar kavita

    उत्तर देंहटाएं
  30. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ! बदलती वेशभूषा ने प्रेम प्रदर्शन के प्रतिमान भी बदल दिए हैं ! बस यही कामना है भावनाओं का स्थायित्व बना रहे ! बहुत प्यारी रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. अरे वाह ! क्या बात है ! बहुत सुन्दर कविता ! बहुत अच्छा लगा पढकर ! सच है आजकल भावनाओं को सहारा नहीं मिलता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. आज मंगलवार 8 मार्च 2011 के
    महत्वपूर्ण दिन "अन्त रार्ष्ट्रीय महिला दिवस" के मोके पर देश व दुनिया की समस्त महिला ब्लोगर्स को "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर "और "आज का आगरा" की ओर हार्दिक शुभकामनाएँ.. आपका आपना

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुंदर अहसास लिये भावपूर्ण रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  34. आँचल और रुमाल को ले कर कोई इतनी अच्छी कविता भी लिखता है, अद्भुत| बधाई रचना जी|

    उत्तर देंहटाएं
  35. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल. ...


    bahut sundar kavita.........

    उत्तर देंहटाएं
  36. कई बार सोचती हूँ पूछूं तुमसे,
    क्यों नहीं रखते हो इक रुमाल बस मेरे लिए.
    पर डरती हूँ कहीं पूंछ न बैठो तुम,
    तुम भी तो कहाँ रखती हो आंचल आज कल.

    bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं
  37. कैसे छूट गई ये कविता मुझसे! नए हालात में नए अर्थ जताती कविता! लेकिन रुमाल से डर लगता है. ऑथेलो और डेस्डिमोना के विनाश के बाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  38. फिलहाल तो मन ठहर गया है इस रुमाल पर. अभी पिछे के पोस्ट पढना बाकी है.

    उत्तर देंहटाएं
  39. ये रुमाल, ये यादें, ये किसी का सहारा. ये महकी हवा. कुछ मैंने भी सहेज रखा है.
    - इस वक़्त इस भावपूर्ण कविता की प्रशंशा में क्या बोलूं.

    उत्तर देंहटाएं
  40. सच मे आज कल हर चीज़ के मायने बदल गये हैं आँचल तार तार हो गये और औरत को रुमाल समझ कर दिल भ्रा तो डुस्टबिन मे फेंक दिया। अच्छी रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  41. रचना जी, आप की कविता के भाव अति कोमल, सजीले व मर्म-स्पर्शी हैं ।सहृद साधुवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत ही सुन्दर भाव....
    वैसे भावनाओं का जिंदा रहना ज्यादा ज़रूरी है..:)

    उत्तर देंहटाएं
  43. 'शून्य' से शुरु हुआ? और सिलसिलेवार यानी 'मंजिले', सरगम, प्रणयपर्व, उत्तराधिकारिणी, आहट और रुमाल तक का सफर बेहद ही शानदार रहा। सच भी है जब आदमी शून्य से प्रारंभ होता है तो बहुत कुछ हासिल करता चला जाता है, आज मैने किया।
    मैं सच में कम आता हूं ब्लॉग पर, कम क्या नहीं की श्रेणी में खुद को गिनना चाहिये। और यकीन रखिये मैं इसलिये भी नहीं आया कि आप निरंतर मेरे ब्लॉग को पढती रही हैं। बस थोडा वक्त था तो आपको पढने की इच्छा हुई। मेरी सुबह की एक शानदार शुरुआत कही जा सकती है यह? रुमाल, और आंचल का आज खो जाना यहां यह भी दर्शाता है कि आप सामने वाले से अपेक्षा तो रखते हैं किंतु भूल जाते हैं कि कहीं आपसे भी किसी की अपेक्षा होती है। अगर दोनों ओर से वो अपेक्षा पूर्ण होती रहे तो वाह जिन्दगी के मायने खिल उठते हैं।
    आपकी रचनाओं में नाजुकता है। रिश्तों की मुलायम, मखमली सी डोर में बन्धे शब्द सफर करते हैं, कभी तो सीधे मर्म को छूते हैं, कभी दिमाग के तारों को झंकृत कर देते हैं...। और जब कोई पाठक पिछले एक घंटे से बैठा आपकी इन छह-सात रचनाओं को गंभीरता से पढ रहा हो तो समझा जा सकता है कि वो कितना भीगा होगा, भावुकता के इस सागर में..।

    उत्तर देंहटाएं
  44. आदरणीय महोदया , सादर प्रणाम

    आज आपके ब्लॉग पर आकर हमें अच्छा लगा.

    आपके बारे में हमें "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" पर शिखा कौशिक व शालिनी कौशिक जी द्वारा लिखे गए पोस्ट के माध्यम से जानकारी मिली, जिसका लिंक है......http://www.upkhabar.in/2011/03/vandana-devi-nutan-shikha-mamta-preeti.html

    इस ब्लॉग की परिकल्पना हमने एक भारतीय ब्लॉग परिवार के रूप में की है. हम चाहते है की इस परिवार से प्रत्येक वह भारतीय जुड़े जिसे अपने देश के प्रति प्रेम, समाज को एक नजरिये से देखने की चाहत, हिन्दू-मुस्लिम न होकर पहले वह भारतीय हो, जिसे खुद को हिन्दुस्तानी कहने पर गर्व हो, जो इंसानियत धर्म को मानता हो. और जो अन्याय, जुल्म की खिलाफत करना जानता हो, जो विवादित बातों से परे हो, जो दूसरी की भावनाओ का सम्मान करना जानता हो.

    और इस परिवार में दोस्त, भाई,बहन, माँ, बेटी जैसे मर्यादित रिश्तो का मान रख सके.

    धार्मिक विवादों से परे एक ऐसा परिवार जिसमे आत्मिक लगाव हो..........

    मैं इस बृहद परिवार का एक छोटा सा सदस्य आपको निमंत्रण देने आया हूँ. आपसे अनुरोध है कि इस परिवार को अपना आशीर्वाद व सहयोग देने के लिए follower व लेखक बन कर हमारा मान बढ़ाएं...साथ ही मार्गदर्शन करें.


    आपकी प्रतीक्षा में...........

    हरीश सिंह


    संस्थापक/संयोजक -- "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" www.upkhabar.in/

    ...

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत सटीक अभिव्यक्ति , मन के भय की ।

    उत्तर देंहटाएं
  46. रुमाल का कभी नायक के पास,
    कभी नायिका के पास रह जाना.

    आपकी कविता प्यारी है,सच रचना जी.
    मगर ये क्या:-
    आप मुद्दत से हमारे ब्लॉग पर आई नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  47. चलिए आपको नैपकिन to milte hain .....
    varna aaj kal ye bhi nseeb nahi hote ......

    rumaal par wo geet याद aa gya ....
    raah mein ik reshmi rumaal mila hai ......

    उत्तर देंहटाएं
  48. :-) wah kitni sunder kavita... saral shabdon mein bahut kuch keh gayi aap...

    उत्तर देंहटाएं
  49. बदलते समय के साथ प्रेम के प्रतीक और स्वरुप भी बदल रहे हैं.
    अच्छी रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  50. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  51. वाह कहूँ रचना जी?
    नहीं आह ज्यादा ठीक है
    लिखती रहिएगा
    सादर
    प्रदीप नील www.neelsahib.blogspt.com

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...