रविवार, 15 अगस्त 2010

सफ़र


सफ़र






कुछ भी तो नहीं बदला

रस्ते पर के ठूंठ

हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप.

पानी की एक एक बूंद को तरसती

समंदर में एक सीपी

कहीं कोठरी में सुबकता बचपन

कहीं बचपन में पनपता यौवन

कुछ भी तो नहीं बदला

देह में धधकता दावानल

बयार में घुलता गंधक

आँखों में तरता तेज़ाब

ये सिर्फ शब्द नहीं

कुछ न कह पाने की व्यथा है

कहते हैं

देश ने प्रगति की है

निर्धन निरीह और निर्बल

आज भी वहीँ हैं

आज से तिरसठ साल पहले

छोड़ आई थी जहाँ.




35 टिप्‍पणियां:

  1. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आपका हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी कविता ने हमारी अभिव्यक्ति को बल दिया है... हमारा आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाये और ढेरों बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी प्रस्तुति .....

    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाये और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. जय हिंद

    http://rimjhim2010.blogspot.com/2010/08/blog-post_15.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. स्वाधीनता दिवस की अनन्त शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. कुछ भी तो नहीं बदला --
    हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप।

    वाह , एक खौफनाक सत्य को कितना खूबसूरती से प्रस्तुत किया है आपने ।
    फिर भी , स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें । ताकि हम याद कर सकें उनको , जिन्होंने कम से कम एक ग़ुलामी की ज़ंजीर से तो मुक्ति दिलाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये सिर्फ शब्द नहीं
    कुछ न कह पाने की व्यथा है .... marmik prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रगती की दास्तान ... सच के बहुत करीब है .... स्वतंत्रता दिवस की बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामना.. गहरे कटाक्ष भरी आपकी रचना .. मार्मिक प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  11. kahte hai desh ne pragati ki hai par aaj bhi vahi hain jahan tirsath saal pahle thi.
    bilkul yatharth se paripurn post. bahut hi sateek lagi.
    swatantrata- diwas par aapko hardik shubh-kamnaayen.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक कड़वे सच को सशक्त शब्द दिए हैं. आपसे ऐसी सशक्त रचना की ही उम्मीद होती है.

    अति सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. कहीं कोठरी में सुबकता बचपन
    कहीं बचपन में पनपता यौवन

    कुछ भी नहीं बदला ......

    या बदला है तो .....
    दिलों में दूरियाँ .........
    लूट. आतंक, हिंसा के
    कुछ नए तरीके .....
    मुहब्बत के बदलते रंग .....
    बदला है रचना जी बहुत कुछ बदला है .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. कहते हैं

    देश ने प्रगति की है

    निर्धन निरीह और निर्बल

    आज भी वहीँ हैं

    आज से तिरसठ साल पहले

    छोड़ आई थी जहाँ.
    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाये और ढेरों बधाई.बहुत सुन्दर .भोपाल से आज लौटी हू इस कारण नही आ पायी वक्त पर .

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी रचना।


    राष्ट्रीय व्यवहार में हिन्दी को काम में लाना देश की शीघ्र उन्नति के लिए आवश्यक है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छी प्रस्तुति .....

    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाये और बधाई.........

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर रचना !
    अपना ही लिखा एक शेर याद आ गया-

    पीटते हो ढ़ोल जाने किस तरक्की का सदा
    भूख, भय, बीमारियाँ हैं ज्यों की त्यों संसार में

    उत्तर देंहटाएं
  18. Hi..

    Jo sabal the, wo safal hain...
    kal bhi the, aur aaj bhi...
    jo nibal the, wo nibal hain..
    kal bhi the, aur aaj bhi...

    Desh hai aazaad beshak...
    par hukoomat hai wohi..
    janta ko do wakt ki roti...
    bhi na hai mil rahi..

    Desh hai kahne ko unnat...
    TV, Mobile yahan...
    tan gareebi apna dhank le..
    kapde bhi paati nahin...

    Desh Khush haal hai...
    Janta kangaaal hai...
    Neta malamaal hai....
    Yahi ek sawal hai...

    Bhookh, gareebi, badhaali se Azaadi kab milegi??

    Deepak...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बेहतरीन अभिव्यक्ति...लगा जैसे मेरे अपने अहसासों को शब्द मिल गये हों।

    "हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप" वाला बिम्ब अनूठा है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. हम्म! सोच में हूँ, क्या कहूँ?

    उत्तर देंहटाएं
  21. हाँ ...नैतिक मूल्यों के अतिरिक्त ज्यादा कुछ नहीं बदला ..!

    उत्तर देंहटाएं
  22. "हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप
    ....
    ये सिर्फ शब्द नहीं
    कुछ न कह पाने की व्यथा है"

    उत्तर देंहटाएं
  23. "हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप
    ....
    ये सिर्फ शब्द नहीं
    कुछ न कह पाने की व्यथा है"

    उत्तर देंहटाएं
  24. कहते हैं

    देश ने प्रगति की है

    निर्धन निरीह और निर्बल

    आज भी वहीँ हैं

    आज से तिरसठ साल पहले


    Kai sawal chod jati hai aapki yah rachna. shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  25. यही टीस तो हमारे मन में भी हर पल पलती है... मन को छूती इस सार्थक रचना के लिए आपका साधुवाद,आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  26. "कुछ भी तो नहीं बदला
    हर ठूंठ की छाँव में सुस्ताती धूप.
    पानी की एक एक बूंद को तरसती
    समंदर में एक सीपी
    ये सिर्फ शब्द नहीं
    कुछ न कह पाने की व्यथा है
    आज से तिरसठ साल पहले
    छोड़ आई थी जहाँ."
    आज भी कुछ नहीं बदलने का गम आपकी रचना में दिखता है. ठूंठ की छावं में सुस्ताती धूप का बिम्ब बिना विस्तार के सब कुछ कह जाता है. सामयिक होने के साथ-साथ यह संवेदना भरी प्रस्तुति है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  28. वाकई कुछ नहीं बदला ! शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...