मंगलवार, 13 अक्तूबर 2009

रिश्ते

रिश्ते





कुछ रिश्ते खो गए हैं

कुछ रिश्ते हो गए हैं
उस चौखट के अंदर
सूनी दीवार पर लगी
पुरानी खूंटी पर लटके
छोड़ आयी थी कुछ रिश्ते
वो रिश्ते खो गए हैं
सुना है
रिश्तों की एक नई ईमारत खड़ी करने की
होड़ में
कुछ लोगों ने
वो चौखट वो दीवार गिरा दी है
मेरे कुछ रिश्ते वहीं रो गए हैं
उस ईमारत की तरफ से आने वाली
हवा हरदम सर्द ही रहती है
क्योंकि उसमें होती हैं
कुछ सिसकियाँ कुछ सुबकियां
और कुछ आहें
सबने लाख समझाया
वहां कभी कोई अपना
था ही नहीं
वहां कभी कोई रिश्ता
बना  ही  नहीं
पर ये मन है
कि मानने को तैयार
ही नहीं
मुझे आज भी यकीन है
मेरे कुछ रिश्ते
वहीँ सो गए हैं
कुछ रिश्ते खो गए हैं

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत मार्मिक...सच है रिश्तों की टूटन गहरे जख्म देती है, लेकिन तोडने वाले इस दर्द को कहां महसूसते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  2. उस ईमारत की तरफ से आने वाली
    हवा हरदम सर्द ही रहती है
    क्योंकि उसमें होती हैं
    कुछ सिसकियाँ कुछ सुबकियां !
    Apne dard ke sath smaj ke dard ka gahra,
    aihsas liye huye ..bahut sunder hai ,
    yh kvita ..chdhaii jari rkhen ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. shukria;main adabi aalochna ko bhi tareef se kamtar nahin aankti.it is up to u what to say or not.
    us taraf se aane wali hawaon par aapka yaqin aacha laga.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मार्मिक...सच है रिश्तों की टूटन गहरे जख्म देती है, लेकिन तोडने वाले इस दर्द को कहां महसूसते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना... बधाई...

    "टंगे रिश्ते
    अब उतार लिए गए हैं
    खूंटी पर से...
    अब सूली तैयार है... "

    उत्तर देंहटाएं
  6. rishton ke kho jaane ka bhay..is dard ko bakhoobi ukera hai kavita me.bahut achchi prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी सुन्दर प्रस्तुति भाव विभोर करती है.

    रचना जी, क्या इतना भुला देंगीं आप
    कि रिश्ता खो ही जायेगा ?

    इतना न भुलाईयेगा,प्लीज.

    उत्तर देंहटाएं
  8. रिश्ते जब टूतते हैं तब असहनीय दर्द देते हैं।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. रिश्तो की ये जोड़ तोड़ ...मन को छू गई ........आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. rachna ji ye rachna mann ko choo gai andar tak..sach me kuchh rishte ek point par thahar jate hain...khatm nahi hote bas vahin so jaten hain...

    उत्तर देंहटाएं
  11. rachna ji ye rachna mann ko choo gai andar tak..sach me kuchh rishte ek point par thahar jate hain...khatm nahi hote bas vahin so jaten hain...

    उत्तर देंहटाएं
  12. rachna ji ye rachna mann ko choo gai andar tak..sach me kuchh rishte ek point par thahar jate hain...khatm nahi hote bas vahin so jaten hain...

    उत्तर देंहटाएं
  13. risto ki garayi ko apni kavita me acchi tarah bayan kiya hai apne
    sundar prastuti....

    उत्तर देंहटाएं
  14. "टंगे रिश्ते
    अब उतार लिए गए हैं
    खूंटी पर से...
    अब सूली तैयार है... "

    असहनीय दर्द देते रिश्ते..........!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...