गुरुवार, 1 अक्तूबर 2009

मधुशाला के प्याले

                                                      



                                     उन खाली प्यालों से पूंछो



                                    कैसे रंग बदल आते हो ?



                                    सुख में सुर्ख़ सुनहरा नीला



                                    दुःख में ज़र्द दूधिया पीला



                                   आने वाले लोग वही हैं



                                   उनके अपने दर्द सही हैं



                                   उन खाली प्यालों से पूंछो



                                   कैसे बात छुपा जाते हो ?



                                   होंठों की लाली में मुसकन



                                   चेहरे पर चाहत की चमकन



                                   आँखों के डोरे पिघलाती



                                   प्याले पर प्याले मंगवाती



                                   उन खाली प्यालों से पूंछो



                                  कैसे दिल को छू आते हो?



                                  होंठों की लाली में दुःख है



                                  चेहरे की चाहत नफ़रत है



                                  आँखों के डोरे गीले हैं



                                  कैसे तुम्हे बता जाते हैं ?



                                  उन  खाली प्यालों से पूंछो

                                  कैसे राज़ जता जाते हैं ?

10 टिप्‍पणियां:

  1. चेहरे की चाहत नफ़रत है
    आँखों के डोरे गीले हैं
    कैसे तुम्हे बता जाते हैं ?

    वाह ....बहुत सुंदर लिखती आप ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उन खाली प्यालों से पूंछो
    कैसे राज़ जता जाते हैं ?


    दुःख और खालीपन की सुन्दर अभिव्यक्ति ......
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने
    बधाई स्वीकार करे

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना. भावों की सफल अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना. भावों की सफल अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितना सुन्दर लिखतीं है आप.
    पढकर मन मग्न हो गया है.
    आभार.

    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...