मंगलवार, 22 सितंबर 2009

सुबह


सुबह





                                

                            हर शाम एक उम्मीद जगती है


                           हर रात एक सपना देखा जाता है


                    एक पत्नी की पति के लिए आँखे तरसतीं हैं


               इक जोड़ा पथराई ऑंखें घर के चिराग़ कि राह तकती हैं


               इक हसीना अपने महबूब के लिए अपना दिल बिछाती है


                       एक तवायफ़ अपने ग्राहक के लिए बाज़ार सजाती है


                           कुछ उम्मीद ना उम्मीद के साथ फिर


                             एक महफूज़ सी सुबह निकलती है


                   एक बहन अपने भाई की नौकरी का शगुन रखती है


                    एक पत्नी अपने पति कि तरक्की कि कामना करती है


                       एक माँ अपने बेटे कि लम्बी उम्र कि दुआ करती है


                       एक तवायफ़ फिर शाम के लिए सपना संजोती है


                              यूँ ही एक ना उम्मीद सांझ, रात के बाद


                              एक महफूज़ सी सुबह निकलती है

5 टिप्‍पणियां:

  1. एक पत्नी की पति के लिए आँखे तरसतीं हैं
    इक जोड़ा पथराई ऑंखें घर के चिराग़ कि राह तकती हैं.nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुमन जी प्रेरित करने और मुझे पढ़ने के लिए आभार. मेरा एक लघु आलेख खबरिया चैनल रचनाकार में और एक बस के हादसों का शहर हिंदुस्तान का दर्द में प्रकाशित हुए हैं कृपया उन्हें भी पढ़ कर अपनी बेबाक राय दें
    सादर रचना दीक्षित

    उत्तर देंहटाएं
  3. नारी के अनेक रूपों का सुन्दर चित्रण.
    लेकिन कोई सुहागन, कोई अभागन.
    सब अपनी अपनी किस्मत लेकर आते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...