गुरुवार, 24 सितंबर 2009

लम्हे

           लम्हे


        
          

                                             चंद सहमे हुए से लम्हे


                                             कुछ भीगे हुए से पल


                                             इन लरज़ती बुलंदियों पर


                                            रहने लगे हैं हम



                                            क्या होगा हशर अपना


                                            ये जाने बिगर भी अब


                                           पाने को मुकम्मिल मुकाम


                                           आग  पर चलने लगे हैं हम



                                           कब बुलंदियों से 

                                          यूँ खाक़ में मिले हम


                                          इस मुश्किल सफ़र में भी


                                          खुश रहने लगे हैं हम


                                          क्या बुलंदियां हो


                                         या खाक़ हो जमीं की


                                         पाने को चंद खुशियाँ


                                         समझने लगे हैं हम



                                       सहमे हुए हों लम्हें


                                       या भीगे हुए हों पल


                                      वक़्त की दहलीज़ पर


                                      अब पलने लगे हैं हम

7 टिप्‍पणियां:

  1. भरी हुई संवेदना से परिपूर्ण । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचना.....एक स्पष्ट सोच....एक गहरी बात......!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस मुश्किल सफ़र में भी खुश रहने लगे हैं हम मुश्किल सफ़र आसान हो और खुशियाँ हमेशा दामन भारती रहें ..शीर्षक भी दें..
    बहुत शुभकामनायें ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सहमे हुए हों लम्हें


    या भीगे हुए हों पल


    वक़्त की दहलीज़ पर


    अब पलने लगे हैं हम...sahme hue lamho me bhi aap khush to hai..wahi main cheez hai..khushi...ek achhi rachna...

    उत्तर देंहटाएं
  5. उन खाली प्यालों से पूंछो कैसे राज़ जता जाते हैं ?

    अच्छी लगी!

    - सुलभ सतरंगी (यादों का इन्द्रजाल...)

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस मुश्किल सफ़र में भी खुश रहने लगे हैं हम मुश्किल सफ़र आसान हो और खुशियाँ हमेशा दामन भारती रहें

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...